भारत-चीन मैत्री की गवाह माओ की वो चिट्ठी

इमेज कॉपीरइट Dr SUMANGALA BORKAR, MUMBAI

चीनी शासक माओत्से तुंग द्वारा भारतीय डॉक्टर द्वारकानाथ कोटणीस की प्रशंसा में लिखा एक ख़त अब चीन और भारत के दोस्ताना संबंधों का ऐतिहासिक दस्तावेज़ बन चुका है.

महाराष्ट्र के सोलापुर के रहने वाले डॉ. कोटणीस 1938 में बम्बई के जेजे अस्पताल में काम करते थे. तब उन्हें एक मेडिकल मिशन के तहत चीन-जापान युद्ध के दौरान घायल चीनी सैनिकों के इलाज के लिए चीन भेजा गया था.

उनकी सेवाओं से वहाँ उनके प्रशसंक बनते गए. चार वर्षों तक डॉ. कोटणीस चीन में रहे. वहीं उन्होंने एक चीनी नर्स से शादी की और 32 वर्ष की आयु में उनकी मौत हो गई.

चीन के तत्कालीन राष्ट्र प्रमुख माओत्से तुंग द्वारा चारकोल से लिखी गई इस चिट्ठी को बेहतरीन कैलीग्राफी का नमूना माना जाता है. समय के साथ-साथ इसकी लिखावट धुंधली पड़ रही थी. लेकिन चीन से आए कारीगरों ने इसे दोबारा पहले जैसा किया है.

'माओ भारत को सबक़ सिखाना चाहते थे'

कोटणीस परिवार

इमेज कॉपीरइट Dr SUMANGALA BORKAR, MUMBAI

मुम्बई के विले पार्ले की रहने वाली 63 साल की डॉ. सुमंगला बोरकर डॉ द्वारकानाथ कोटणीस के बड़े भाई की बेटी हैं.

कोटणीस परिवार के बारे में वो बताती हैं, ''डॉ. कोटनिस के दो भाई थे और पाँच बहनें थीं. उनमें से दो ने शादी नहीं की थी. अब उनमें से कोई भी जीवित नहीं हैं. मेरे पिता की मैं अकेली बेटी थी. डॉ. कोटणीस की चीनी पत्नी का निधन अभी कुछ वर्षों पहले हुआ है. वो भारत आई थीं, हम सबके साथ परिवार में रही भी थीं. तब मेरी दादी, यानी उनकी सास जीवित थीं. उनकी पत्नी को सिर्फ़ चीनी भाषा आती थी. बाद में उन्होंने थोड़ी अंग्रेज़ी भी सीख ली थी. उनकी कुछ बातें हम समझते, हमारी कही कुछ बातें ही वो समझ पाती थीं. उनका बेटा युवावस्था में एक इंफेक्शन के चलते चल बसा था.''

माओ की पुण्यतिथि मनाने की थोड़ी छूट

परिवार में उनकी यादों के बारे में पूछे जानेपर वो कहती हैं, "मेरी और डॉ. कोटणीस की मुलाक़ात नहीं हो पाई. 1942 में उनका देहांत हुआ और मेरा जन्म 1953 का है. लेकिन घर में उनकी यादें और उनसे जुड़ी काफ़ी चीज़ें हमेशा थीं."

सुमंगला बताती हैं, "मेरे पिताजी ने उनपर किताब भी लिखी थी, गाने भी लिखे थे. ये पूरा संग्रह और वो पत्र अब सोलापुर के संग्रहालय में है. 2012 में डॉ. कोटनिस के पुराने घर की मरम्मत कर उसे संग्रहालय बना दिया गया है. उनके इस्तेमाल की चीजें जैसे- फ़र्नीचर, टेबल जिसपर वो लिखते थे- तमाम चीज़ें हमारे पास थीं वो संग्रहालय को दे दी गई हैं."

माओ की सांस्कृतिक क्रांति के 50 साल

इमेज कॉपीरइट SALAHODDIN SHAIKH, SOLAPUR
Image caption डॉ. कोटणीस के जीवन की मुख्य घटनाओं पर आधारित चित्र दीवार पर बनाए गए हैं.

वो कहती हैं, "उस वक़्त डॉ. कोटणीस की छोटी बहन जीवित थीं और हमारे साथ रहती थीं. वो अविवाहित थीं और मेरे पास ही उनका देहांत हुआ. तब वहाँ वो लेटर लगाया नहीं गया था. अब लेटर पुनः नए की तरह कर दिया गया है और उसे वहाँ डिस्प्ले किया जाएगा. मूल पत्र को न सिर्फ़ रिस्टोर किया गया है बल्कि उसे पीछे एक और कार्डबोर्ड लगा कर और बड़ा किया गया है."

उन्होंने बताया, "मूल पत्र कुछ 3 फ़ीट लंबा और डेढ़ फ़ीट चौड़ा है. माओ खुद एक अच्छे कैलिग्राफ़िस्ट थे. चारकोल से उन्होंने वह पत्र लिखा था. मैं तब कुछ चार या पांच साल की थी. कोई बड़े चीनी नेता या अधिकारी एक दिन घर आकर वह पत्र दे गए थे. एक सुंदर-सा लंबा बॉक्स था जिसमें कैलेंडर की तरह गोल आकार में लपेट कर ये चिट्ठी रखी गई थी. बाद में 1977-78 के आस-पास उनका कोई डेलिगेशन आया था. उन्होंने देखा कि लेटर ख़राब हो रहा है तो वो उसे लेकर चीन गए. 1982 में जब मैं पहली बार चीन गई तो उन्होंने चिट्ठी को पहले जैसा करके मुझे लौटाया था. अबकी बार दूसरी बार उन्होंने उसे रिस्टोर किया है."

माओ के मल पर स्टालिन की नज़र

चीन: माओ की इतनी बड़ी मूर्ति !

इमेज कॉपीरइट SALAHODDIN SHAIKH, SOLAPUR

चिट्ठी के क़द्रदान

क्या लोग चिट्ठी को देखने आते हैं. इस सवाल पर डॉ. सुमंगला कहती हैं, "केवल चीनी लोग ही आते हैं उस चिट्ठी को देखने. उनके कोई लीडर, कोई नए अधिकारी आते हैं तो उसे देखने आते हैं. सोलापुर संग्रहालय में जब यह दिया गया तो लोगों को इतना महत्वपूर्ण नहीं लगा था."

सोलापुर महानगर पालिका की मेयर पिछले दिनों मुम्बई जाकर इस पत्र ले कर आई थीं. सोलापुर में कोटनीस परिवार का पुश्तैनी मकान अब संग्रहालय बन चुका है जहाँ यह चिट्ठी प्रदर्शित की जाएगी.

माओ के चीन में आम का जुलूस निकलता था !

सब कुछ वैसा ही जैसा माओ छोड़ गए थे

इमेज कॉपीरइट SALAHODDIN SHAIKH, SOLAPUR
Image caption सोलापुर में डॉं कोटणीस के संग्रहालय के सामने डॉ. द्वारकानाथ कोटणीस की प्रतिमा

सोलापुर की मेयर सुशीला अबूती बताती हैं, "उन्होंने इस पत्र को जैसा था वैसा बनाकर हमारे सोलापुर को दिया है. डॉ. कोटणीस का घर अब मेमोरियल बन गया है जहां इसे रखा जाएगा. सोलापुर के पुत्र के तौर पर हमें डॉ. कोटणीस पर अभिमान है."

सुशीला अबूती बताती हैं, "जब नए चीनी राजदूत या काउंसल जनरल आते हैं तो वो इसे देखने आते हैं. चीनी राष्ट्रपति या प्रधानमंत्री से हम मिलने जाते हैं. 2015 में जब चीनी नेता आए थे तो उन्होंने मंगवाकर चिट्ठी देखी थी. उन्होंने उसे रिस्टोर करने की बात की थी. 30 सालों में एक बार इस चिट्ठी को रिस्टोर करने की ज़रूरत पड़ती है."

जब भारतीय उपराष्ट्रपति ने माओ के गाल थपथपाए

इमेज कॉपीरइट SALAHODDIN SHAIKH, SOLAPUR

इस चिट्टी की अहमियत के बारे में डॉ. सुमंगला कहती हैं, "डॉ. कोटणीस की मौत के बाद इस चिट्ठी में माओत्से तुंग ने लिखा है कि उनकी सेना ने अपना एक हाथ और देश ने एक मित्र गँवा दिया है."

वो कहती हैं, "अब देखें लगता है कि चीन अब हमारा दोस्त नहीं रहा. अभी तो वो शत्रु ही है. फिर भी ये चिट्ठी एक संबंध की तरह है जिसके ज़रिए दोस्ती बनी हुई है. मुझे याद है जब पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल चीन गई थीं तो उन्होंने कहा था कि डॉ. कोटणीस के परिवार के कुछ लोग साथ आएंगे तो दोस्ती के लिहाज़ से अच्छा रहेगा. मेरी बुआजी तब जीवित थीं और वो चीन गई थीं ताकि दोस्ती बनी रहे. डॉ.कोटणीस का योगदान इतना है कि उनके परिवार का कोई भी सदस्य चीन जाता है तो उसे वहां अपनापन मिलता है."

वो कहती हैं, "हमें चीन के लोगों से सीखना चाहिए. अपने देश के लिए जान देनेवालों को हम भूल जाते हैं. वो लोग डॉ. कोटणीस को आज भी याद करते हैं. चीन में उनकी याद में संग्रहालय बनाया गया है. चीनी लोग हमसे उनकी चीज़ें माँगते हैं. कहते हैं कि कुछ है तो हमें लौटा दो."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे