कर्नाटक हादसा: वो सड़क पर तड़पता रहा, लोग वीडियो बनाते रहे

कर्नाटक के कोप्पल ज़िले में बुधवार को हुई एक सड़क दुर्घटना में घायल युवक सड़क पर तड़पता रहा, लेकिन कोई उसकी मदद को आगे नहीं आया. वहां खड़े लोग मोबाइल फ़ोन पर वीडियो बनाने में लगे रहे.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ नज़दीक के अस्पताल में ले जाए जाने से पहले तक युवक क़रीब 25 मिनट तक सड़क पर ही तड़पता रहा.

यह दुर्घटना कैमरे में क़ैद हो गई. इसमें ख़ून से लथपथ युवक दर्द से तड़पता देखा जा सकता है. इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है. इसमें युवक सहायता के लिए पुकार रहा है.

3डी ज़ेब्रा क्रासिंग से कम होंगे हादसे

हाइवे ठेकों पर पाबंदी से लाखों लोगों की जान बचेगी

पटना हादसा: वो जिसने अकेले निकाली 20 लाशें

जबकि कैमरा के पीछे खड़े लोगों को यह बात करते हुए इस वीडियो में साफ सुना जा सकता है कि हादसा सरकारी बस से हुआ है. इस मामले में सरकारी केस ज़रूर दर्ज होगा. ऐसे में लड़के की मदद करते वक्त, अगर उसकी मृत्यु हो गई तो समस्या खड़ी हो सकती है.

स्थानीय पुलिस ने गुरुवार को बताया कि बुधवार सुबह दुर्घटना उस समय हुई जब अनवर अली साइकिल से बाज़ार जा रहे थे, जहां वो काम करते थे.

उन्हें हुबली से हासपेट जा रही राज्य सड़क परिवहन निगम की एक बस ने टक्कर मार दी थी. अनवर अली के भाई रियाज़ ने कहा, ''अली को एक एंबुलेंस से अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी मौत हो गई.''

उन्होंने बताया, ''कोई भी मदद को आगे नहीं आया. सब लोग वीडियो बनाने और फ़ोटो खींचने में लगे थे. अगर किसी ने मदद की होती तो मेरे भाई को बचाया जा सकता था. 15-20 से मिनट से अधिक समय बर्बाद कर दिया गया.''

कैसे रुकेंगे भारत में सड़क हादसे

'भाई को मलबे के नीचे दबा हुआ देखा'

बकरे की कुर्बानी से रुकेंगे पाकिस्तान में हवाई हादसे?

Image caption अनवर अली को टक्कर मारने वाली बस.

इस मामले में पुलिस ने एक मामला दर्ज किया है.

घटना का गवाह होने का दावा करने वाले एक व्यक्ति ने बताया, ''घटनास्थल पर मौज़ूद लोग चकित थे. वो यह नहीं समझ पा रहे थे कि मदद कैसे की जाए क्योंकि पीड़ित बुरी तरह से घायल था और बहुत ख़ून बह रहा था.''

स्थानीय लोगों की शिकायत है कि जहां दुर्घटना हुई वो दुर्घटना की आशंका वाला क्षेत्र है, इसके बाद भी अधिकारियों ने कोई क़दम नहीं उठाया है.

मैसूर में हुई इसी तरह की एक दुर्घटना में समय से अस्पताल न पहुंच पाने की वजह से एक पुलिस अधिकारी की मौत हो गई थी.

हालांकि कर्नाटक में दुर्घटना में घायल लोगों को अस्पताल पहुंचाने वाले लोगों की रक्षा करने का अच्छा क़ानून है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)