बिहार का अनोखा ‘एनर्जी कैफे’

इमेज कॉपीरइट Manish shandilya

पटना के बेली रोड में मौजूद विद्युत भवन के अहाते में दाखिल होते ही चटखदार रंगों में सजी एक छोटी सी बिल्डिंग लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचती है. यह 'एनर्जी कैफे' की बिल्डिंग है.

परमाणु ऊर्जा से चलने वाले जहाज़ बनाएंगे: ईरान

यहां धूप दिखाकर चल रहा है टीवी

इमेज कॉपीरइट Manish shandilya

यह इसलिए ख़ास है क्योंकि यहां का सारा फर्नीचर और सजावट का सामान बिजली विभाग के पुराने और ख़राब हो चुके सामान को दोबारा इतेमाल कर बनाया गया है और ये रिसाइक्लिंग से उर्जा बचत का संदेश देते हैं.

बिहार स्टेट पॉवर होल्डिंग के चीफ इंजीनियर (सिविल) सरोज कुमार सिन्हा बताते हैं कि इस कैफे का बेसिक आइडिया उर्जा विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत का था जिसे प्रोफेशनल आर्टिस्ट मंजीत और नेहा सिंह ने साकार किया.

एटमी फ़्यूजन से पूरी होगी ऊर्जा की जरूरतें

'गाय के पेशाब से कैंसर का इलाज..ये भी तजुर्बा है'

इमेज कॉपीरइट Manish shandilya

इस कैफे का साइन बोर्ड भी बहुत आकर्षक तरीके से तैयार किया गया है. इसे बनाने में एक पुरानी साइकिल के अगले हिस्से इस्तेमाल हुआ है.

कैफे के लिए पुराने ड्रमों को काट कर कुर्सी और सेंटर टेबल बनाए गए हैं तो इलेक्ट्रिक पैनल्स से टेबल और बेंच बनाए गए हैं.

इन इलेक्ट्रिक पैनल्स के नट और बोल्ट अब भी साफ-साफ दिखाई देते हैं. वहीं ट्रांसफार्मर के आयल ड्रम से बैठने का टूल तैयार किया गया है.

इंसुलेटर से डस्टबीन तो बिजली के तारों से मॉडर्न आर्ट बनाये गए हैं. मीनू बोर्ड और दीवार घड़ी लकड़ी के पुराने टुकड़ों से तैयार की गई हैं.

सौर ऊर्जा खपाने का अनोखा तरीक़ा

इमेज कॉपीरइट Manish shandilya

कैफे में एक पुरानी एंबेसेडर कार को सोफा में ढाला गया है. यह कार 2001 तक बिहार राज्य बिजली बोर्ड के अध्यक्ष की सरकारी गाड़ी हुआ करती थी. इस कार का नंबर प्लेट भी कैफे की दीवार पर बतौर शो-पीस टंगा हुआ है.

टेस्ला ने घर की छत ही बना दी सोलर पैनल

इमेज कॉपीरइट Manish shandilya

क्या सौर ऊर्जा परमाणु बिजली से बेहतर है?

भारत से ब्रिटेन का सफ़र, ऑटो रिक्शा से

इमेज कॉपीरइट Manish shandilya

पटना के मीठापुर में उर्जा विभाग का एक बंद पड़ा पावर प्लांट है. यहां के कैंटीन में इस्तेमाल की जाने वाली चाय की केतलियां भी इस कैफे के दीवार की रौनक बनी हैं.

सौर ऊर्जा से रेसिंग कार

एप्पल और गूगल को स्वच्छ ईंधन की तलाश

इमेज कॉपीरइट Manish shandilya

सौर ऊर्जा से चलने वाले विमान ने भरी पहली उड़ान

सौर ऊर्जा से फैल रही कंप्यूटर शिक्षा की रोशनी

इमेज कॉपीरइट Manish shandilya

सौर ऊर्जा के सहारे समुद्र में 585 दिन

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे