अरविन्द केजरीवाल क्या 'ख़तरनाक खेल' खेल रहे हैं?

एक चुनावी पोस्टर इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption अमृतसर में अरविन्द केजरीवाल की तस्वीर थामे एक आप समर्थक

पंजाब में मतदान से ठीक पहले 'आतंकवाद' और 'ख़ालिस्तानी' जैसे शब्द दोबारा सुनाई दिए हैं.

वहाँ चुनाव में एक बार फिर से राजनीतिक पार्टियों के बीच ख़ालिस्तानी अलगाववादियों से मेलजोल रखने को लेकर आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है.

मौर मंडी में हुए धमाके के बाद गुरुवार को कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने केजरीवाल पर आरोप लगाया था कि वह पंजाब को अस्थिर करने में मदद कर रहे हैं. इस धमाके में 6 लोग मारे गए थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पंजाब में अरविंद केजरीवाल की पार्टी पर अलगाववादियों से मेलजोल रखने के आरोप लग रहे हैं

दूसरी तरफ़, पंजाब के चरमपंथी हिंसा के दौर में पुलिस प्रमुख रहे के पी एस गिल ने भी कहा कि चुनाव से पहले मौर मंडी विस्फोट काफी चिंताजनक है.

'केजरी पंजाब में चेहरा तो दिल्ली का सीएम कौन

पंजाब में 'आप' की ज़मीन कितनी मजबूत

उन्होंने 'इंडियन एक्सप्रेस' से कहा कि पंजाब की राजनीति में आम आदमी पार्टी के आने से विदेशों में रह रहे कट्टर सिखों को एक मंच मिला है. पंजाब में चरमपंथ को ख़त्म करने में गिल की अहम भूमिका रही थी. हालांकि इसे लेकर काफी विवाद भी हुआ था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

के पी एस गिल ने कहा, ''दरअसल, मैं इसकी आशंका इसलिए जता रहा हूं क्योंकि कुछ राजनीतिक पार्टियों की गतिविधियों से इन्हें मदद मिलेगी. विदेशों में रहने वाले कट्टर सिखों में भारी निराशा है क्योंकि वे बुरी तरह से नाकाम रहे हैं. अब ये आम आदमी पार्टी के साथ आ रहे हैं. उन्हें लगता है कि फिर से ज़मीन हासिल करने के लिए यह बढ़िया मौका है.''

वैसे गिल ने कहा कि हो सकता है कि आम आदमी पार्टी को इसके बारे में पता नहीं हो.

इंस्टीट्यूट ऑफ़ कॉन्फ्लिक्ट मैनेजमेंट के निदेशक अजय साहनी ने गिल के आरोप पर बीबीसी से कहा,"एक अरसे से विदेशी जमीन पर ख़ालिस्तानियों की मौजूदगी रही है. आम आदमी पार्टी को जो चंदा मिल रहा है वह काफी संदिग्ध है. इनमें ख़ालिस्तानी एलिमेंट्स शामिल हैं. ख़ालिस्तानी अलगाववादियों को लेकर जो अकालियों का दोहरा व्यवहार रहा था, उससे उन्हें काफी नुक़सान उठाना पड़ा था. इसलिए अकालियों ने उस राजनीति से पिंड छुड़ा लिया. अब इस राजनीति के करीब आम आदमी पार्टी जा रही है.''

केजरीवाल पंजाब के सीएम क्यों नहीं बन सकते?

राहुल गांधी के आरोप पर केजरीवाल ने ट्वीट कर जवाब दिया है. उन्होंने अपने ट्वीट में कहा,''राहुल ने अपने भाषण में सुखबीर बादल और मजीठिया का नाम नहीं लिया. आप केवल मुझे कोसते हैं. क्या मैं नशे के खेल में बाधा बन रहा हूं? क्या राहुल मुझसे डर गए हैं?''

इमेज कॉपीरइट Twitter

इससे पहले सुखबीर सिंह बादल भी केजरीवाल पर कट्टरवादियों से संबंध रखने का आरोप लगा चुके हैं.

पिछले हफ़्ते अपने पंजाब दौरे पर केजरीवाल विवादों में आ गए थे. वह ख़ालिस्तान लिबरेशन फ्रंट (केएलएफ़) के नेता गुरविंदर सिंह के घर रुके थे.

गुरविंदर केएलएफ़ के पूर्व प्रमुख रहे हैं. पंजाब में जब चरमपंथी घटनाएं शिखर पर थीं तब गुरविंदर पर हिन्दुओं और सिखों के बीच दंगे भड़काने का आरोप लगा था. हत्या और अन्य संगीन आरोपों में गुरविंदर जेल भी जा चुके हैं. वह रिहा होने के बाद इंग्लैंड चले गए थे. आरोप है कि वह इंग्लैंड से केएलएफ के लिए काम करते हैं.

कांग्रेस के सीनियर नेता दिग्विजय सिंह ने भी इस मामले में ट्वीट कर अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा है. उन्होंने अपने ट्वीट में कहा, ''अरविंद केजरीवाल ख़तरनाक खेल खेल रहे हैं. मैंने इसकी आशंका भी जताई थी. केजरीवाल ने कनाडा के वैसे लोगों के से भारी रकम जुटाई है.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

दिग्विजय सिंह के जवाब में आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता आशुतोष ने कहा, ''दिग्विजय सिंह जी पंजाब के लोग आपकी पार्टी की भूमिका के बारे में बखूबी जानते हैं. लोग आप पर हँस रहे हैं, सर!''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)