जिसके घर केजरीवाल के रुकने पर हुआ बवाल

Image caption गुरविंदर सिंह पर 90 के दशक में एक मंदिर में बम रखने का आरोप था (फ़ाइल तस्वीर)

आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पंजाब में चुनाव प्रचार के दौरान ख़ालिस्तान कमांडो फ़ोर्स (केसीएफ) के पूर्व चरमपंथी गुरविंदर सिंह की कोठी में रुके.

इसके बाद वो विपक्षी दलों के निशाने पर आ गए.

राज्य के उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कैप्टन अमरिंदर सिंह ने केजरीवाल को पंजाब की शांति के लिए ख़तरा बताया.

वहीं भाजपा ने आशंका जताई कि अगर आम आदमी पार्टी पंजाब की सत्ता में आई तो वहाँ चरमपंथ फिर पनप सकता है.

हिंदू तख्त के प्रमुख महंत पंचानंद गिरी ने गुरविंदर सिंह की कोठी में दो दिन रुकने को लेकर अरविंद केजरीवाल से सफ़ाई मांगी है.

इमेज कॉपीरइट AFP

वहीं आप के पंजाब संयोजक गुरप्रीत सिंह वड़ैच ने कहा कि गुरविंदर का किसी भी चरमपंथी या राष्ट्रविरोधी तत्व से कोई संबंध नहीं है.

बागा पुराना के डीएसपी के सुखदेव सिंह थिंद के मुताबिक़ मोगा के एनआरआइ गुरविंदर सिंह के ख़िलाफ़ बागा पुराना पुलिस थाने में नौ जुलाई 1997 को धारा 302 ,307 और आर्म्स एक्ट के तहत एक मामला दर्ज हुआ था.

उन पर एक मंदिर में बम रखने का आरोप था जहाँ हुए धमाके में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी और एक महिला ज़ख़्मी हो गई थी.

इमेज कॉपीरइट EPA

इस मामले में भूपिंदर सिंह को उम्रक़ैद की सज़ा सुनाई गई थी और गुरविंदर सिंह को बरी कर दिया गया था.

केजरीवाल पर लग रहे आरोपों को आप के पंजाब प्रभारी संजय सिंह ने नकार दिया.

उन्होंने कहा कि केजरीवाल जिस गुरविंदर सिंह घाली के घर रूके थे वो इंग्लैंड के नागरिक हैं. उन्होंने कहा कि मोगा में उनके ऊपर जो मामले दर्ज थे, उनमें वो बरी हो चुके हैं. घटना के समय गुरविंदर इंग्लैंड में थे. इस घटना में बाद में उनका नाम जोड़ा गया.

उन्होंने कहा कि जिस घर में अरविंद रुके वो गुरविंदर की पत्नी करमजीत कौर के नाम पर है.

आप नेता ने कहा कि अगर गुरविंदर आतंकवादी थे तो पंजाब पुलिस ने इसकी जानकारी क्यों नहीं दी क्योंकि उस घर में पंजाब पुलिस के दो अधिकारी रहते हैं.

अखाड़ा कीर्तनी जत्था के आरपी सिंह के चरमपंथियों से संबंधों और उनके घर अरविंद केजरीवाल के जाने पर सुखबीर बादल के आरोपों के सवाल पर संजय सिंह ने कहा कि सुखबीर को पहले अपने पिता के खिलाफ़ मुक़दमा दर्ज कराना चाहिए क्योंकि उन्होंने आरपी सिंह के साथ बैठक की है.

आप नेता ने इस बैठक की फ़ोटो भी पत्रकारों को दिखाई.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)