प्रेस रिव्यू: नारों में कैशलेस, मुख्यालय में सिर्फ़ कैश!

भाजपा के कार्यकर्ता इमेज कॉपीरइट AFP

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के साथ-साथ भाजपा के तमाम नेता डिजिटल पेमेंट या कैशलेस ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देने में जुटे हैं. देशभर में घूम-घूमकर कैशलेस लेन-देन के फ़ायदे गिना रहे हैं.

लेकिन राष्ट्रीय सहारा की एक ख़बर के मुताबिक़, "भाजपा मुख्यालय स्थित विक्रय केन्द्र में अब तक डिजिटल पेमेंट की कोई व्यवस्था नहीं हो पाई है. वहां से खरीदी जाने वाले पत्र-पत्रिकाओं के लिए नगद ही भुगतान करना पड़ता है. नोटबंदी को लगभग तीन महीने होने वाले हैं, लेकिन यह विक्रय केन्द्र अब भी कैशलेस व्यवस्था का इंतजार कर रहा है."

अख़बार ने भाजपा मुख्यालय के सूत्रों के हवाले से लिखा है, "लाभ-हानि रहित' के आधार पर चल रहे इस विक्रय केन्द्र का अपना कोई खाता ही नहीं है. इस विक्रय केन्द्र का संचालन पार्टी फंड से किया जाता है और यहां से प्राप्त होने वाली राशि पार्टी फंड में ही चली जाती है."

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

'हिंदुस्तान टाइम्स' की एक ख़बर के मुताबिक़ मध्य प्रदेश के देवास में दो बहनों ने यौन उत्पीड़न से बचने के लिए अपने घर की बाहरी दीवारों पर अपनी मृत मां के लिए यह संदेश लिखा था.

अख़बार के मुताबिक़ नौ और 11 साल की इन बहनों में से बड़ी बेटी का उनके सौतेले पिता यौन शोषण करते थे और छोटी बेटी को मारते थे. जब किसी रिश्तेदार से मदद नहीं मिली तो इन बच्चियों ने दीवार पर संदेश लिखे जिसे एक राहगीर ने देखा. फिर एक स्थानीय एनजीओ और पुलिस की मदद से बच्चियों का बचाया गया.

'जनसत्ता' में छपी ख़बर के अनुसार आयकर विभाग ने 27 करोड़ रुपए के चंदे के बारे में आम आदमी पार्टी की ओर से तैयार ऑडिट रिपोर्ट में गड़बड़ियां होने और इसके ग़लत होने का दावा किया है.

अख़बार का कहना है कि चुनाव आयोग को सौंपी गई एक रिपोर्ट में बीते एक साल से ज़्यादा समय से पार्टी की चंदा सूची की जांच कर रहे विभाग का कहना है कि साल 2013-14 और 2014-15 के दौरान पार्टी के चंदा रिकार्ड में 'तथ्यात्मक गड़बड़ियां' हैं. चंदा देने वालों से मिली असल रकम से मेल नहीं खाता.

'बलात्कार पीड़ित' की मां पर मामला वापस लेने का दबाव

'रेप पीड़िता डरी हुई थीं कि कहीं पति न छोड़ दें'

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption फ़ाइल फ़ोटो

'इंडियन एक्सप्रेस' के पहले पन्ने पर है पहली ख़बर है नगालैंड की, जहां स्थानीय निकाय चुनाव में महिलाओं को दिए गए 33 फ़ीसद आरक्षण का विरोध शुक्रवार को लगातार तीसरे दिन भी जारी रहा. प्रदर्शनकारियों ने कोहिमा-डिमापुर राजमार्ग को रोके रखा.

इससे पहले उन्होंने कई सरकारी और निजी दफ्तरों को आग के हवाले कर दिया था.

अख़बार के अनुसार कोहिमा और दीमापुर में कुछ इलाकों में अनिश्चितकालीन कर्फ्यू लगा दिया गया है. राज्य में मोबाइल और इंटरनेट सुविधाएं 30 जनवरी से ही बंद हैं. इधर हिंसा के बीच राज्य मे एकमात्र रेलवे स्टेशन दीमापुर में कई यात्री फंसे हुए हैं.

नगालैंड में हिंसक प्रदर्शन, कई सरकारी भवन आग के हवाले

इमेज कॉपीरइट EPA

इसी अख़बार में छपी एक अन्य ख़बर के अनुसार कश्मीर और भारतीय सेना पर कथित तौर पर ग़ैरज़िम्मेदार टिप्पणी करने के लिए जेएनयू की प्रोफेसर निवेदिता मेनन के ख़िलाफ़ पुलिस में शिकायत दर्ज की गई है.

अख़बार के अनुसार शिकायत राजस्थान के जोधपुर के जय नारायण व्यास विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार ने दर्ज कराई है.

विश्वविद्यालय के कुलपति आरपी सिंह का कहना है कि निवेदिता मेनन ने विश्वविद्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा था कि कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा नहीं है और सैनिक देश के लिए नहीं, अपनी जीविका कमाने के लिए काम करते हैं.

अख़बार लिखता है कि मेनन ने इन आरोपों से इनकार किया है. उन्होंने कहा है कि 'अफ़वाहों को आधार' बना कर 'बेवजह विवाद' पैदा करने की कोशिश की जा रही है.

जन्नत की महिलाओं की आफ़त में ज़िंदगी

'कश्मीर के हल के लिए पाकिस्तान से बात ज़रूरी'

इमेज कॉपीरइट AFP

तमिलनाडु में सूखे से बचने के लिए दो दिन की पूजा का आयोजन किया जा रहा है. यह ख़बर छपी है 'पायनियर' में.

अख़बार के तमिलनाडु के रामेश्वरम में सूखे की मार से बचने के लिए दो दिन के सोम यज्ञ और गाय पूजा का आयोजन किया गया है. इसमें 108 वैदिक पंडित शामिल होगें. अख़बार के अनुसार लोगों को भरोसा है कि इस यज्ञ से बारिश होगी और कष्ट दूर होंगे.

भारत में हर चौथा आदमी सूखा पीड़ित

अगर ये 5 हों तो सूखा क्यों हो

इमेज कॉपीरइट AFP

'दैनिक जागरण' में छपी एक ख़बर के अनुसार सरकार डिजिटल लेनदेन को प्रोत्साहित करने में आड़े आ रहे ट्रांज़ैक्शन चार्ज की ऊपरी सीमा तय करने की तैयारी में है.

वित्त मंत्रालय जल्द ही इसके लिए आदेश जारी कर सकता है. ट्रांज़ैक्शन चार्ज की ऊपरी सीमा के दायरे में फिलहाल क्रेडिट और डेबिट कार्ड से होने वाले लेन-देन पर देय चार्ज के शामिल होने की संभावना है.

टॉयलेट जाएं और करें कैशलेस पेमेंट

कैशलेस पर टैक्स लगेगा कम

इमेज कॉपीरइट cbi.nic.in

'दैनिक भास्कर' में छपी एक ख़बर के मुताबिक़ बिहार के चारा घोटाले में पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव की गिरफ्तारी का आदेश देने वाले केंद्रीय जांच ब्यूरो के पूर्व निदेशक 70 साल के जोगिंदर सिंह का निधन हो गया है.

वो लंबे समय से बीमारी थे. वो 1996-97 में 11 महीने के लिए सीबीआई के निदेशक रहे.

चारा घोटाला: लालू यादव दोषी करार, जेल भेजे गए

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)