ग्राउंड रिपोर्ट: पूर्वांचल की राजनीति में कैसे छाते गए दबंग?

इमेज कॉपीरइट Samiratmaj Mishra
Image caption चिल्लूपार विधानसभा सीट से 22 साल तक विधायक रहे हरिशंकर तिवारी (काले रंग के स्वेटर में)

पूर्वी उत्तर प्रदेश के गोरखपुर ज़िले की एक विधानसभा सीट है चिल्लूपार. 1985 में ये सीट एकाएक उस वक़्त चर्चा में आई जब हरिशंकर तिवारी नाम के निर्दलीय उम्मीदवार ने जेल की दीवारों के भीतर रहते हुए चुनाव जीता और भारतीय राजनीति में 'अपराध' के सीधे प्रवेश का दरवाज़ा खोल दिया.

इसके बाद से ही भारतीय राजनीति में अपराध और राजनीति के गठजोड़ की नहीं, बल्कि अपराध के राजनीतिकरण की बहस शुरू हुई.

हरिशंकर तिवारी के राजनीति में प्रवेश से न सिर्फ़ उनके चिरविरोधी कहे जाने वाले वीरेंद्र प्रताप शाही ने भी लक्ष्मीपुर विधानसभा सीट से जीत हासिल की बल्कि ख़ुद तिवारी भी राजनीति की बुलंदियां छूते चले गए.

दबाव बना रहे हैं योगी आदित्यनाथ?

मुख़्तार अंसारी: माफ़िया या मसीहा?

'अखिलेश से ख़ुश नहीं, फिर भी वोट देंगे'

इमेज कॉपीरइट Samiratmaj Mishra

सरकारी उत्पीड़न

हरिशंकर तिवारी ने जब चिल्लूपार विधानसभा सीट से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर जीत हासिल की, उस समय उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री वीर बहादुर सिंह थे और उनका भी इलाक़ा गोरखपुर ही था.

तिवारी बताते हैं कि राजनीति में वो पहले से ही थे, लेकिन चुनाव लड़ने के पीछे मुख्य कारण सरकारी उत्पीड़न था.

बकौल हरिशंकर तिवारी, "कांग्रेस पार्टी में मैं पहले से ही था. पीसीसी का सदस्य था, एआईसीसी का सदस्य था. इंदिरा जी के साथ काम कर चुका था, लेकिन चुनाव कभी नहीं लड़ा था. तत्कालीन राज्य सरकार ने मेरा बहुत उत्पीड़न किया, झूठे मामलों में जेल भेज दिया और उसके बाद ही जनता के प्रेम और दबाव के चलते मुझे चुनाव लड़ना पड़ा."

'अखिलेश ने अपनी मां का बदला लिया है'

'अखिलेश ने अब तक कोई झंडे नहीं गाड़े हैं'

अंदर मुलायम नरम, बाहर अखिलेश समर्थक गरम

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
'नाटक कर रही है समाजवादी पार्टी'

वर्चस्व की लड़ाई

तिवारी कहते हैं कि ये क्रिया की प्रतिक्रिया थी जो वो चुनावी राजनीति में आए. तिवारी नाम तो नहीं लेते हैं, लेकिन जिस समय की वो घटना बता रहे हैं उस समय उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री वीर बहादुर सिंह थे और उनका इशारा ज़ाहिर है, उन्हीं की ओर था.

गोरखपुर के इस इलाक़े में पहले दो गुटों में वर्चस्व की लड़ाई होती थी, लेकिन दोनों गुटों के प्रमुखों के राजनीति में आने के बाद ये लड़ाई राजनीति के कैनवास पर भी लड़ी जाने लगी.

हालांकि साल 1997 में वीरेंद्र शाही की लखनऊ में हुई दिनदहाड़े हत्या ने इस वर्चस्व की लड़ाई पर तो विराम लगाया, लेकिन उसके बाद ये लड़ाई पूर्वांचल के दूसरे गुटों तक फैलते हुए पूर्वांचल से आगे भी चली गई.

अमित शाह के लिए बजने लगी है ख़तरे की घंटी?

'नोट बंद होने से कुछ पार्टियां ग़रीब हो गईं!'

बीजेपी बौद्ध पॉलिटिक्स: कहां पहुंचेगी 'यात्रा'?

इमेज कॉपीरइट Samiratmaj Mishra
Image caption गोरखपुर से दबंग छवि वाले नेता विजय मिश्रा

अपराध और राजनीति

पूर्वांचल से ही वास्ता रखने वाले लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार योगेश मिश्र कहते हैं, "दरअसल, वर्चस्व की ये लड़ाई पहले से ही चल रही थी, लेकिन इसे राजनीति का साथ मिलने का सिलसिला यहीं से शुरू होता है. उसके बाद तो पूर्वांचल में माफ़िया और राजनीति का कथित गठजोड़ मुख़्तार अंसारी, ब्रजेश सिंह, योगी आदित्यनाथ, रमाकांत यादव, उमाकांत यादव, धनंजय सिंह के साथ-साथ अतीक अहमद, अभय सिंह, विजय मिश्र और राजा भैया तक पहुंच गया."

दरअसल, अपराध और राजनीति के इस गठजोड़ के पीछे इन नेताओं को प्रमुख पार्टियों की ओर से मिलने वाला महत्व भी था.

बात यदि हरिशंकर तिवारी की करें तो जेल की सलाखों के पीछे रहकर विधायक बनने के बाद वो न सिर्फ़ लगातार 22 वर्षों तक विधायक रहे, बल्कि साल 1997 से लेकर 2007 तक लगातार मंत्री भी रहे. इस दौरान प्रदेश में सरकारें बदलती रहीं, लेकिन हर पार्टी की सरकार में तिवारी मंत्री बने रहे.

क्या वरुण गांधी से डरती है बीजेपी?

2019 में कांग्रेस सरकार से अच्छे दिन आएंगे:राहुल

राहुल जोखिम लेना सीख गए हैं?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
बीजेपी में टिकट बंटवारे को लेकर घमासान, क्या बोले योगी आदित्यनाथ

'अपराध से लेना-देना नहीं'

शुरुआत कल्याण सिंह के मंत्रिमंडल से हुई और राजनाथ सिंह, मायावती से लेकर मुलायम मंत्रिमंडल में भी उनका नाम पक्का होता रहा. ये बात अलग है कि राजनीति की शुरुआत उन्होंने कांग्रेस पार्टी से की.

उसके बाद तो माफ़िया तत्वों को राजनीतिक दलों में जगह देने की होड़ सी मच गई. चाहे बीजेपी हो या फिर सपा और बसपा, किसी ने भी ऐसे तत्वों को पार्टी में जगह और टिकट देने से कोई गुरेज़ नहीं किया.

मुख़्तार अंसारी और उनके परिवार के लोग बीएसपी में भी रहे और समाजवादी पार्टी में भी. उसी तरह आज़मगढ़ के यादव बंधु यानी रमाकांत यादव और उमाकांत यादव भी कभी बीजेपी, कभी सपा तो कभी बीएसपी से विधायक-सांसद बनते रहे.

उमाकांत यादव ने तो 2004 के लोकसभा चुनाव में मछलीशहर सीट से बीजेपी के तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष और इस समय पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी को हराया था.

Image caption रमाकांत यादव अपने भाई के साथ सपा, बसपा, में भी रहे और बीजेपी में भी

मऊ और ग़ाज़ीपुर में ख़ासा वर्चस्व रखने वाले अंसारी बंधुओं को समाजवादी पार्टी में शामिल करने को लेकर पिछले दिनों यादव परिवार में ही घमासान मच गया. इस परिवार में मची कलह के तमाम दूसरे कारणों के अलावा एक प्रमुख कारण ये भी था.

पूर्व सांसद और पूर्व विधायक अफ़ज़ाल अंसारी बीबीसी से बातचीत में सीधे तौर पर आरोप लगाते हैं, "अखिलेश यादव और समाजवादी पार्टी को जब राज्यसभा और विधान परिषद चुनाव में हमारी मदद लेनी थी तो हम अच्छे हो गए और जब काम हो गया तो हम माफ़िया हो गए."

साल 2012 के विधानसभा चुनाव में ब्रजेश सिंह जेल से ही भारतीय समाज पार्टी से चंदौली ज़िले की सैयदराजा सीट चुनाव लड़े, लेकिन हार गए. हालांकि उसके बाद उन्होंने उच्च सदन यानी विधान परिषद का चुनाव लड़ा और रिकॉर्ड वोटों से जीत हासिल की.

'काम हो गया तो हम माफ़िया हो गए'

भदोही में तीन बार से विधायक रहे विजय मिश्र का भी मुख़्तार अंसारी की तर्ज पर समाजवादी पार्टी ने टिकट काट दिया. विजय मिश्र अब अपने दम पर चुनाव लड़ रहे हैं. वो कहते हैं, "समाजवादी पार्टी के दोनों खेमों ने मुझे टिकट दिया था, फिर अचानक अखिलेश खेमे ने काट दिया. उसके बाद मुझसे बीएसपी और बीजेपी दोनों ने संपर्क किया लेकिन मैं कहीं नहीं गया. मेरी वजह से राजनीतिक पार्टियों की चार-छह सीटें सुनिश्चित होती हैं, अपने लिए मुझे इनकी नहीं जनता के स्नेह की ज़रूरत होती है और वो मुझे मिल रहा है."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पत्रकार राघवेंद्र त्रिपाठी बताते हैं कि वर्चस्व की लड़ाई के पीछे रेलवे और दूसरे सरकारी ठेकों के अलावा नेपाल की सीमा से होने वाली हथियारों और दूसरी अन्य चीजों की तस्करी भी रही है. राजनीतिक संरक्षण के चलते ऐसे काम इन लोगों के लिए आसान हो गए और राजनीतिक दलों को इनकी वजह से सीटें जीतने में सहूलियत हो गई.

बताया जाता है कि अस्सी के दशक में हरिशंकर तिवारी का इतना दबदबा था कि गोरखपुर मंडल के जो भी ठेके इत्यादि होते थे वो बिना हरिशंकर तिवारी की इच्छा के किसी को नहीं मिलते थे, लेकिन हरिशंकर तिवारी कहते हैं कि अपराध से उनका कोई लेना-देना नहीं था.

उनके ख़िलाफ़ दो दर्जन से ज़्यादा मुक़दमे दर्ज थे, लेकिन सज़ा दिलाने लायक़ मज़बूती किसी मुक़दमे में नहीं दिखी, लिहाज़ा उनके ख़िलाफ़ लगे सारे मुक़दमे अब ख़ारिज हो चुके हैं.

आर्थिक मज़बूती के लिए जहां माफ़िया छवि के तमाम नेताओं ने राजनीति का रुख़ किया और उसके चलते तमाम ठेके इत्यादि हथियाए वहीं पिछले क़रीब दो दशक से गोरखपुर की राजनीति में अपना दबदबा रखने वाले बीजेपी सांसद योगी आदित्यनाथ अरबों रुपये के गोरखधाम मंदिर के महंत और ट्रस्ट के सर्वेसर्वा हैं.

मऊ ज़िले के वरिष्ठ पत्रकार वीरेंद्र चौहान कहते हैं कि इन नेताओं के चुनाव जीतने के पीछे एक बड़ा कारण यह भी है कि इनमें से कई ने ख़ुद को ग़रीबों के मसीहा के रूप में भी पेश किया.

चुनाव के समय राम लला को नहीं भूलती भाजपा

हैकर्स से बच सकते थे राहुल और कांग्रेस

इस साल राहुल गांधी कितनी बार 'भूकंप' लाए?

इमेज कॉपीरइट HARSH JOSHI
Image caption मऊ से चार बार विधायक चुने जा चुके हैं मुख़्तार अंसारी

माफ़िया या मसीहा

वो बताते हैं, "मुख़्तार अंसारी या फिर हरिशंकर तिवारी जैसे लोग बार-बार विधायक सिर्फ़ इसलिए ही नहीं हो रहे हैं कि इनकी छवि बाहुबली की है. दरअसल ग़रीबों की व्यक्तिगत मदद और उनके काम के लिए अधिकारियों पर दबाव बनाना भी इनकी लोकप्रियता की एक बड़ी वजह है."

हालांकि पूर्वांचल की राजनीति में 'माफ़िया' तत्व की शुरुआत करने वाले हरिशंकर तिवारी को राजनीति में पहली पटखनी दी इलाक़े के ही एक गुमनाम व्यक्ति राजेश त्रिपाठी ने. 2007 के विधान सभा चुनाव में बीएसपी के उम्मीदवार के तौर पर उन्होंने हरिशंकर तिवारी को हरा दिया.

2012 में राजेश त्रिपाठी फिर जीते और हरिशंकर तिवारी तीसरे नंबर पर आ गए. उसके बाद उन्होंने ख़ुद कोई चुनाव नहीं लड़ा लेकिन अपने दोनों बेटों समेत एक भांजे को भी राजनीति में स्थापित कर चुके हैं.

'माफ़िया' छवि वाले कुछ और नेताओं को भी चुनाव में पराजय का मुंह देखना पड़ा है, लेकिन तिवारी की तरह ऐसे दूसरे नेताओं ने भी अब अपनी अगली पीढ़ी के लिए राजनीतिक ज़मीन तैयार करनी शुरू कर दी है.

जानकारों के मुताबिक 2017 का चुनाव जहां तमाम दलों के राजनीतिक भविष्य के लिए अहम साबित होने जा रहा है, वहीं इन नेताओं के पारिवारिक भविष्य के लिए भी इसकी ख़ासी अहमियत होगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)