करोड़ों की ड्रग्स के साथ बौद्ध भिक्षु गिरफ़्तार

इमेज कॉपीरइट AFP

म्यांमार में एक बौद्ध भिक्षु को भारी मात्रा में नशीली दवाओं के साथ गिरफ़्तार किया गया है.

पुलिस के मुताबिक बौद्ध मठ में 40 लाख से ज़्यादा मेथाम्फेटामाइन की गोलियां छिपा कर रखी गईं थी.

बौद्ध भिक्षु को पहले रकाइन प्रांत में 4 लाख गोलियों के साथ रोका गया जो उनकी कार में रखे थे.

नशीली दवाओँ की इस भारी खेप की कीमत तो नहीं बताई गई लेकिन 2015 में संयुक्त राष्ट्र के एक आकलन के मुताबिक मेथाम्फेटामाइऩ की एक गोली की कीमत करीब 2 डॉलर होती है.

भिक्षु ने दी यूएन दूत को गालियां

बर्मा का आग उगलता बौद्ध भिक्षु

इस लिहाज से तो इन गोलियों की कीमत करीब 92 लाख डॉलर यानी 60 करोड़ रुपये से ज़्यादा है.

अरसारा नाम के इस वरिष्ठ भिक्षु को तब रोका गया जब वो बांग्लादेश से लगती सीमा के पास मौजूद माउंगडॉ शहर जा रहे थे.

इसके बाद उन्हें गिरफ़्तार कर लिया गया और उनके मठ से दूसरी खेप बरामद हुई जो कार में मौजूद खेप से 10 गुना ज़्यादा थी.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption पकड़े जाने पर इस तरह नशीली दवाओँ का जलाती है पुलिस.

माउंगडॉ शहर के बौद्ध समुदाय में असरारा जाने माने लोगों में हैं.

बीते कुछ सालों में म्यांमार अवैध नशीली दवाओँ के बड़े उत्पादक देश के रूप में सामने आया है.

नशीली दवा की नीति बदलने की सिफ़ारिश

यहां बड़ी मात्रा में मेथाम्फेटामाइन, अफ़ीम और भांग होती है और रकाइन प्रांत ख़ासतौर से नशीली दवाओँ की तस्करी के लिए कुख़्यात है.

पहाड़ी इलाक़ों और सीमा पर ज़्यादा सख़्ती ना होने की वजह से यह धंधा वहां खूब फल फूल रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं