'जयललिता को किसी ने धक्का दिया था'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

एआईएडीमके के एक वरिष्ठ नेता पी एच पांडियन ने पूर्व मुख्यमंत्री जे जयललिता की मृत्यु पर संदेह जताते हुए दावा किया है कि उनकी मृत्यु स्वाभाविक परिस्थितियों में नहीं हुई.

पांडियन ने चेन्नई में मंगलवार को एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस में कहा,"मुझे पता चला था कि जया डिप्रेस्ड थीं और पोएज़ गार्डन में उनकी किसी से बहस हुई थी और किसी ने उनको धक्का दिया जिसके बाद वो गिर गईं."

उन्होंने दावा किया कि किसी को संदेह ना हो इसलिए उन्हें अस्पताल ले जाया गया.

उन्होंने पार्टी में शशिकला को पार्टी महासचिव और विधायक दल का नेता चुने जाने के फ़ैसले पर भी सवाल उठाया है.

एआईएडीएमके में असंतोष होने की अटकलों के बीच पहली बार किसी बड़े नेता ने ख़ुलकर ऐसा गंभीर बयान दिया है.

पांडियन पार्टी के संस्थापक सदस्य और पूर्व विधानसभा स्पीकर रहे हैं.

पांडियन के दावे से एक दिन पहले ही एक ब्रिटिश डॉक्टर ने एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर कहा था कि जयललिता की मृत्यु स्वाभाविक कारणों से हुई थी.

जयललिता की मौत कोई साज़िश नहीं थी

शशिकला और सीएम पद में ये दूरी क्यों

शशिकला कैसे पहुंचीं मुख्यमंत्री की कुर्सी तक

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अस्पताल के ब्यौरे पर संदेह

पी एच पांडियन ने कहा कि 22 सितंबर को जयललिता को अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया मगर अस्पताल ने जो ब्यौरा दिया है वो संदिग्ध है.

उन्होंने कहा कि कुछ समाचारपत्रों में तब ख़बर छपी थी कि जयललिता को उनके पोएज़ गार्डन स्थित घर पर किसी ने धक्का दिया था जिससे वो गिर गई थीं.

पांडियन ने कहा,"मैं उन्हें देखने अपोलो हॉस्पिटल गया था मगर वहाँ उनके बारे में किसी ने कोई जानकारी नहीं दी. बाद में मुख्यमंत्री के अंगरक्षकों ने मुझसे कहा कि उनकी तबीयत ठीक है जिसके बाद मैं घर लौट आया."

पांडियन ने कहा कि ऐसा कई दिनों तक चलता रहा.

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption जयललिता और शशिकला

उंगलियों के लिए गए निशान

उन्होंने कहा कि बाद में राज्य में दो सीटों पर हुए उपचुनाव के दौरान जयललिता के अंगूठों के निशान से चुनाव के फ़ैसलों पर उनकी मंज़ूरी लिए जाने की ख़बरें आईं और तब भी मैंने सवाल पूछा मगर मुझे संतोषजनक जवाब नहीं मिला.

पांडियन ने कहा कि इसके बाद 5 दिसंबर को बताया गया कि जयललिता को अचानक दिल का दौरा पड़ा है.

उन्होंने कहा,"उस रात शशिकला अपने परिवार के साथ अस्पताल से बाहर निकलीं, मगर उनके चेहरे पर मुझे कोई दुःख नहीं नज़र आया."

पांडियन ने ये भी संदेह जताया कि जयललिता की ऊँगलियों के निशान का इस्तेमाल कर उनकी संपत्ति भी चुराई जा सकती है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

शशिकला पर सवाल

प्रेस कॉन्फ़्रेंस में मौजूद पी एच पांडियन के बेटे और एआईएडीएमके नेता मनोज पांडियन ने दावा किया कि जयललिता नहीं चाहती थीं कि शशिकला तमिलनाडु की मुख्यमंत्री बनें.

उन्होंने कहा कि शशिकला को पार्टी का अस्थायी प्रभार दिया गया था और उनपर आर्थिक अपराधों में लिप्त रहने के भी आरोप हैं जिससे उन्हें मुख्यमंत्री नहीं बनाया जा सकता.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)