शशिकला और सीएम पद में ये दूरी क्यों

इमेज कॉपीरइट AIADMK

जयललिता की मौत के बाद उनकी सहेली शशिकला के हाथों अन्नाद्रमुक की कमान तो आ गई पर राज्य का कंट्रोल अभी उनसे दूर है.

हालांकि पनीरसेल्वम ने रविवार को ही इस्तीफा दे दिया था पर 48 घंटे बाद भी शशिकला के शपथ ग्रहण की खबरें चर्चाओं तक सिमटी दिख रही हैं.

कुछ मीडिया रिपोर्टों में अन्नाद्रमुक विधायकों के एक धड़े में असंतोष की बात भी कही गई है और शशिकला के शपथग्रहण में हो रही देरी को इन्हीं खबरों से जोड़कर देखा जा रहा है.

रैपर ने किया शशिकला के मुख्यमंत्री बनने का विरोध

'जयललिता की मौत कोई साज़िश नहीं थी'

अब शशिकला भी मोदी और मनमोहन के बराबर!

Image caption पत्रकार चो रामास्वामी के साथ शशिकला

इन सब के बीच शशिकला की राह में कुछ कानूनी चुनौतियां भी हैं जिनसे उन्हें रूबरू होना है.

पहला मामला तो आमदनी के ज्ञात स्रोतों से अधिक संपत्ति रखने का है.

22 साल पुराने इस डीए केस में तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता के साथ-साथ शशिकला भी सह-अभियुक्त हैं.

हालांकि इस मामले में पहले ये दोनों बरी हो गई थीं लेकिन कर्नाटक सरकार की अपील फिलहाल सुप्रीम कोर्ट में पेंडिंग है.

शशिकला: न पार्षद, न विधायक, सीधे मुख्यमंत्री!

'पनीरसेल्वम: सिर्फ़ मुसीबत का मुख्यमंत्री'

शशिकला बनेंगी तमिलनाडु की मुख्यमंत्री

इमेज कॉपीरइट IMRAN QURESHI
Image caption चुनाव प्रचार के दौरान जयललिता के साथ शशिकला

इसी केस में सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को हफ्ते के भीतर फैसला सुनाने की बात कही है.

इसके अलावा शशिकला पर विदेशी मुद्रा से जुड़ी गड़बड़ियों यानी फेरा के तीन मामले भी लंबित हैं.

प्रवर्तन निदेशालय ने इन दो दशक पुराने मामलों में उन्हें गिरफ्तार भी किया था. यह साल 1996 की बात है. बाद में एक निचली अदालत ने उन्हें इन मामलों से बरी कर दिया.

स्टालिन-शशिकलाः तमिल राजनीति में एक नया दौर?

'जयललिता का शव निकाला जा सकता है?'

नज़रें अब शशिकला और उनके परिवार पर

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption शशिकला को 2011 में जयललिता ने अन्नाद्रमुक से निलंबित कर दिया था

लेकिन मद्रास हाई कोर्ट ने कुछ दिनों पहले शशिकला को बरी करने के निचली अदालत के फैसले को पलट दिया था.

अब इस मामले में शशिकला को फिर से कानूनी कार्रवाई का सामना करना होगा. अदालती मामलों का पचड़ा केवल शशिकला के ही साथ नहीं हैं.

उनके पति एम नटराजन पर जमीन अवैध रूप पर कब्जा करने का आरोप है. इन मामलों में वे दो बार गिरफ्तार भी हो चुके हैं.

शशिकला के भतीजे दिनाकरन भी फेरा मामले में आरोपी हैं. प्रवर्तन निदेशालय ने दिनाकरन को हवाला और बेनामी लेनदेन के लिए दोषी पाया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे