ELECTION SPECIAL: 'काम भले न किया हो लेकिन बलिया वालों को नाज़ है चंद्रशेखर पर'

इमेज कॉपीरइट samiratmaj mishra

बलिया ज़िले में क़रीब सौ किलो मीटर की दूरी पर दो गांव हैं- मऊ ज़िले की सीमा से लगा इब्राहिमपट्टी और बिहार की सीमा पर स्थित सिताब दियारा.

इब्राहिम पट्टी जहां पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर का गांव है वहीं सिताब दियारा समाजवादी नेता जयप्रकाश नारायण यानी जेपी का.

मऊ के क़रीब होने और बलिया से सत्तर किमी. दूर होने के बावजूद इब्राहिमपट्टी को सिर्फ़ इसलिए मऊ ज़िले में शामिल नहीं किया गया क्योंकि चंद्रशेखर की पहचान 'बाग़ी बलिया' के निवासी के रूप में थी और ख़ुद उन्हें लोग 'युवा तुर्क' के नाम से जानते हैं.

राम मंदिर दो साल में: सुब्रमण्यम स्वामी

यूपी चुनाव, नोटबंदी और मुस्लिम वोटर

क्या चाहती हैं दंगाग्रस्त इलाक़ों की मुस्लिम लड़कियां

समाजवादी सरकार

इब्राहिमपट्टी गांव से ही संबंध रखने वाले और फ़िलहाल दिल्ली में रह रहे पत्रकार बलिराम सिंह बताते हैं कि इब्राहिमपट्टी सिर्फ़ चंद्रशेखर का जन्म स्थान रहा मगर वे चुनाव हमेशा बलिया से लड़े और वही उनकी कर्मभूमि भी रही.

उन्होंने बताया कि इब्राहीम पट्टी गांव सलेमपुर लोकसभा सीट के तहत आता है.

समाजवादी विचारों के पोषक दो बड़े नेताओं की जन्मस्थली होने के बावजूद न तो इन गांवों का और न ही इस इलाक़े का समुचित विकास हो पाया है.

विकास की स्थिति यहां भी वही है जैसी कि पूरे पूर्वांचल में.

ऐसा तब है जबकि राज्य में समाजवादी पार्टी की चार बार सरकार रह चुकी है और जेपी तो इस पार्टी के प्रमुख विचारकों में गिने जाते हैं.

यूपी में मुस्लिम वोटों को लेकर घमासान

महिलाओं को वोट डलवाने में कितना सफल ‘पिंक बूथ’?

'चुनाव से पहले हथियार डाल चुकी है समाजवादी पार्टी'

इमेज कॉपीरइट samiratmaj mishra

बलिया जिला

बलिया के लोगों को इस बात पर नाज़ है कि देश के पूर्व प्रधानमंत्री उनके इलाक़े से आते थे.

लेकिन लोगों को इस बात का मलाल भी है कि इतने बड़े राष्ट्रीय नेता होने के बावजूद उन्होंने इलाक़े के विकास के लिए कुछ ख़ास काम नहीं किया.

बलिया निवासी वीरेंद्र तिवारी कहते हैं, "बलिया चंद्रशेखर जी की कर्मभूमि ज़रूर रही लेकिन प्रधानमंत्री जैसे पद पर रहने के बावजूद उन्होंने इस क्षेत्र के विकास के लिए कुछ ख़ास नहीं किया.

"विकास के लिहाज़ से ये आज भी उतना ही पिछड़ा है जितना आज़ादी के समय था."

‘नेतृत्वशून्य’ क्यों हो गया पूर्वांचल?

मायावती पर मुसलमानों को कितना भरोसा?

उत्तराखंड में बग़ावत से खंड-खंड पार्टियाँ

इमेज कॉपीरइट YASHWANT SINGH
Image caption इंदिरा गांधी के साथ चंद्रशेखर

क्षेत्र का विकास

हालांकि चंद्रशेखर महज़ छह महीने के लिए ही प्रधानमंत्री हुए थे और इस दौरान उन्होंने क्षेत्र के विकास के लिए कुछ परियोजनाओं की शुरुआत की भी थी लेकिन आगे चलकर वो सब धरी की धरी रह गईं.

बलिराम सिंह कहते हैं, "ऐसा नहीं है कि चंद्रशेखर ने कुछ नहीं किया. मशहूर सुरहाताल को पर्यटन केंद्र बनाने के लिए कोशिश की, गांव में अस्पताल बनवाया, बलिया में काफी बड़े भृगु मंदिर का भी निर्माण कराया. बहुत सी चीजें धरातल पर इसलिए नहीं उतर पाईं क्योंकि उनका कार्यकाल ही बहुत छोटा था."

योगी आदित्यनाथ बीजेपी के साथ या ख़िलाफ़?

जानिए मोदीजी अपने भाषणों में पंच कैसे लाते हैं?

अब 'विकास' का फ़ुलफ़ॉर्म बताया मोदी ने

इमेज कॉपीरइट AFP

इंदिरा विरोधी

स्थानीय लोगों का कहना है कि बलिया ज़िले में जयप्रकाश नारायण की जन्मभूमि सिताबदियारा में जेपी का भव्य स्मारक बनवाने का श्रेय भी चंद्रशेखर को है और इस क़स्बे को अब जेपीनगर के ही नाम से जाना जाता है.

चंद्रशेखर वैसे तो शुरू में कांग्रेस पार्टी से ही जुड़े रहे लेकिन 1977 में इमरजेंसी के समय उन्होंने कांग्रेस छोड़ दी और इंदिरा गांधी के 'मुखर विरोधी' के तौर पर उनकी पहचान बनी. बलिया के लोगों को शायद उनकी यही छवि प्रभावित करती है.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
अखिलेश यादव अब अपने पिता मुलायम सिंह से कोई समझौता नहीं करेंगे.

इब्राहिमपट्टी गांव के पास ही चाय की दुकान चलाने वाले दिनेश मौर्य कहते हैं, "इंदिरा गांधी से मोर्चा लेने की ताक़त उस समय बहुत कम लोगों में थी. चंद्रशेखर चाहते तो कोई बड़ा पद ले सकते थे लेकिन उन्होंने इंदिरा गांधी का विरोध किया."

अमित शाह के लिए बजने लगी है ख़तरे की घंटी?

'अब सिर्फ मोदी रोको प्रतियोगिता होती है'

2017 के नतीजे तय करेंगे 2019 की सियासत

बीजेपी का समर्थन

लखनऊ में वरिष्ठ पत्रकार दयानंद पांडेय कहते हैं, "चंद्रशेखर बलिया से चुनाव लड़ते ज़रूर थे लेकिन अक़्सर वो किसी न किसी के सहयोग से ही जीते हैं.

"कभी भी अपनी बदौलत चुनाव नहीं जीते. यहां तक कि बीजेपी के समर्थन से भी जीत चुके हैं और चुनाव हारे भी हैं. ऐसे में क्षेत्र के विकास के लिए बहुत कुछ करने की स्थिति में नहीं थे."

चंद्रशेखर 1977 से लेकर लगातार इस सीट से चुनाव जीतते रहे. सिर्फ़ 1984 में वो इंदिरा लहर में हारे थे.

चंद्रशेखर के समय में विकास की दृष्टि से बलिया की स्थिति चाहे जो रही हो लेकिन राजनीतिक फलक पर इस शहर और संसदीय क्षेत्र की एक अलग हैसियत रहती थी.

मऊ ज़िले के पत्रकार वीरेंद्र चौहान बताते हैं कि चंद्रशेखर की वजह से ही राजधानी जैसी वीआईपी ट्रेन भी बलिया में रुकने लगी.

क्यों राहुल-अखिलेश को यह साथ पसन्द है?

क्या वरुण गांधी से डरती है बीजेपी?

गठबंधन का प्रचार नहीं करेंगे मुलायम

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
'नाटक कर रही है समाजवादी पार्टी'

देश का पीएम

दयानंद पांडेय एक संस्मरण सुनाते हैं, "जब वो प्रधानमंत्री थे तो बलिया के कुछ लोग मिलने गए तो चंद्रशेखर ने उन लोगों से साफ़तौर पर कहा कि मैं सिर्फ़ बलिया का प्रधानमंत्री नहीं हूं बल्कि पूरे देश का हूं. जो भी करूंगा पूरे देश के लिए करूंगा, अकेले बलिया के लिए नहीं."

विकास के नाम पर बलिया का हाल भी वही है जो कि पूर्वांचल के दूसरे ज़िलों का.

रसड़ा में एक चीनी मिल थी लेकिन वो भी बंद पड़ी है.

इब्राहिमपट्टी में बड़ा पॉवर ग्रिड बना ज़रूर है लेकिन स्थानीय लोगों के मुताबिक बिजली यहां भी वैसे ही आती है जैसी पूर्वांचल के दूसरे हिस्सों में.

वो सवाल जिन्हें टालते नज़र आए राहुल-अखिलेश

राहुल-अखिलेश की जुगलबंदी: 'यूपी को साथ पसंद है'

'जेटली जी ने हमारे मेनिफ़ेस्टो की नकल की है'

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
बीजेपी में टिकट बंटवारे को लेकर घमासान, क्या बोले योगी आदित्यनाथ

विरासत पर विवाद

चंद्रशेखर जब तक जीवित थे तब तक उनके परिवार का कोई भी व्यक्ति राजनीति में नहीं था लेकिन उनकी मृत्यु के बाद उनके दोनों बेटों ने राजनीति का रुख़ किया.

हालांकि राजनीतिक विरासत को लेकर विवाद भी हुआ लेकिन बलिया सीट से उनके छोटे बेटे नीरज शेखर ने उपचुनाव में जीत दर्ज की.

'यूपी चुनाव में बीजेपी तो लड़ाई में है ही नहीं'

क्या जाटों की नाराज़गी पड़ेगी बीजेपी को भारी?

अब मायावती इतना मुस्कुराने क्यों लगी हैं?

चंद्रशेखर के बड़े बेटे पंकज शेखर ने लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी का दामन थामा और उन्हें उम्मीद थी की बीजेपी उन्हें सलेमपुर से टिकट दे देगी लेकिन टिकट उन्हें नहीं मिला.

नीरज शेखर समाजवादी पार्टी में शामिल हुए लेकिन 2014 में लोकसभा चुनाव बीजेपी के भरत सिंह से हार गए.

फ़िलहाल वो समाजवादी पार्टी की ओर से राज्यसभा सदस्य हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)