गूगल पर सबसे ज़्यादा चुटकले कांग्रेस नेता के हैं: मोदी

इमेज कॉपीरइट EPA

शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के बिजनौर में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी कर निशाना साधा.

उत्तर प्रदेश में 'बीजेपी सीएम' की घुड़दौड़

क्या उलझन में है उत्तर प्रदेश का मतदाता?

बिजनौर से मोदी की कही 10 बातें-

इमेज कॉपीरइट AFP

1- चुनावों की तैयारियां मैंने देखी हैं लेकिन यहां के मुख्यमंत्री ने पुलिस को इस बात के लिए उन लोगों की लिस्ट बनाने के लिए कहा था जो समाजवादी पार्टी के लोगों के ख़िलाफ़ हैं, और उन्होंने ऐसे लोगों को जेलों में बंद कर दिया.

मोदी ने मंच से अखिलेश को चुनौती दी और कहा, "11 मार्च को चुनाव के नतीजे आपका कच्चा चिट्ठा खोल देंगे. इस पर जांच बिठाई जाएगी और आप अपने वफ़ादारों को बचा नहीं पाओगे, लिख कर रखो."

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में कौन कितने पानी में ?

2- उत्तर प्रदेश में परिवर्तन की आंधी चल रही है. जिसको राजनीति का 'र' भी समझ नहीं आता उन्हें भी पता चलता है कि ये आंधी नहीं तो क्या है.

इमेज कॉपीरइट AFP

3- मोदी ने राहुल गांधी पर तंज कसा, "कांग्रेस के एक ऐसे नेता जिनकी बचकाना हरकतें, अगर आप गूगल पर जाएं और देखें, तो शायद किसी राजनेता पर इतने चुटकुले नहीं होंगे जितने कांग्रेस के इस नेता पर हैं. उनका बोलचाल का ढंग और वो ऐसी ऐसी हरकतें करते थे कि कांग्रेस के नेता भी उनसे दस फुट दूर रहना पसंद करते थे."

4- इसके बाद उन्होंने अखिलेश यादव पर तंज कसा, "जिनसे कांग्रेस के बड़े नेता भी किनारा करते थे उन्हें अखिलेश जी ने गले से लगा लिया? मुझे अखिलेश जी की समझदारी पर शक होने लगा है. कोई बड़ी से बड़ी ग़लती कर सकता है पर ऐसी ग़लती नहीं कर सकता."

यूपी: गठबंधन करना आसान, सफल बनाना मुश्किल

इमेज कॉपीरइट Twitter

5- प्रदेश में दिन ढलते ही नहीं, दिन रहते भी मां-बहनें बाहर नहीं निकल सकतीं. महिलाओं की सुरक्षा की बात करें तो यूपी के मुख्यमंत्री मीडिया को ग़लत छवि दिखाने के लिए ज़िम्मेदार ठहराते हैं.

6- समाजवादी पार्टी, पार्टी नहीं कुनबा है. और ये दो पार्टियों का नहीं दो कुनबों का है- एक सैफ़ई वाला कुनबा और एक दिल्ली वाला कुनबा.

उत्तर प्रदेश से क्यों दूर है आप?

मायावती पर मुसलमानों को कितना भरोसा?

Image caption सैफ़ई गांव में रात का नज़ारा

7- सैफ़ई गांव के एक परिवार से सिर्फ़ नेता ही नेता हैं. प्रदेश में एक तरफ 2000 गांवों पर एक एमपी है. लेकिन एक गांव ऐसा है जिस गांव में से एमपी, एमएलए और एमएलसी ही हैं.

8- बीजेपी की सरकार बनी तो छोटे किसानों के कर्ज़ माफ़ कर दिए जाएंगे, ये किसानों का काम मैं सबसे पहले करवा कर रहूंगा.

यूपी में मुस्लिम वोटों को लेकर घमासान

इमेज कॉपीरइट AFP

9- एक कुनबा आलू बनाने वाली फैक्ट्री लगाने वाले हैं, उन्हें किसान की मेहतन का ज्ञान नहीं है.

10- चौधरी चरण सिंह जब पीएम बने थे उन्होंने 30-35 साल तब एक बार देश में खाद के दाम कम हुए थे. उसके बाद अब दिल्ली में ऐसी सरकार आई है जिसने खाद के दाम कम करने का फ़ैसला किया. चौधरी चरण सिंह किसान कल्याण कोष बनाएंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)