'पहले भीख मांगते थे, अब काम चाहते हैं'

इमेज कॉपीरइट Manish Shandilya

अनीता पिऊन का काम करना चाहती हैं तो ब्रह्मदेव कोई भी स्थाई रोजगार कर लेंगे. वहीं सोनल बड़ी होकर डांस टीचर बनना चाहती हैं.

ये छोटी-छोटी बातें तब आपको बहुत खास लगेंगी जब आप ये जानेंगे कि ये ख्वाहिशें उनकी हैं जो भीख मांगना छोड़कर फिर से सामान्य ज़िंदगी जीने की जद्दोजहद कर रहे हैं.

बिहार सरकार के समाज कल्याण विभाग की सोसाइटी 'सक्षम' मुख्यमंत्री भिक्षावृत्ति निवारण योजना चलाती है, जिसके तहत भिखारियों को इज्ज़त की ज़िंदगी जीने लायक बनाने की कोशिशें हो रही हैं.

भिखारी भी कर रहे स्वाइप मशीन का प्रयोग: मोदी

एक एकड़ ज़मीन फिर भी भिखारी

योजना से जुड़े अविनाश कुमार के मुताबिक इसके लिए सात जिलों में चौदह पुनर्वास केंद्र शांति और सेवा कुटीर के नाम से चलाए जा रहे हैं. इन केंद्रों में रहने वाले लोगों ने पटना में आयोजित एक ख़ास मैराथन में हिस्सा लिया.

बीबीसी ने इस मैराथन में शामिल चंद लोगों से बात की और उनके सपनों और ख़्वाहिशों के बारे में जाना.

इमेज कॉपीरइट Shailendra Kumar

बारह साल की सोनल (बदला हुआ नाम) के माता-पिता बचपन में ही गुजर गए थे. उनका पालन-पोषण एक ऐसे परिवार ने किया जो उनसे भीख भी मंगवाता था.

ट्रेन के भिखारी नहीं 'स्ट्रीट आर्टिस्ट' हैं

ग़रीबों के लिए ट्रेन में 'भीख' मांगता एक प्रोफ़ेसर

सोनल को ये पसंद नहीं था और वह एक दिन भागकर बाढ़ रेलवे स्टेशन पहुंची. फिर रेल थाने से पटना के शांति कुटीर भेज दी गईं. यहां अब वह स्कूल जाती हैं. डांस, जूडो-कराटे भी सीखती हैं.

सोनल बताती हैं कि उन्हें डांस के लिए कई पुरस्कार भी मिले हैं. सोनल आगे कॉलेज तक पढ़ना चाहती हैं और बड़ी होकर डांस टीचर बनकर अपने पैरों पर खड़ा होने की ख्वाहिश रखती हैं.

इमेज कॉपीरइट Manish Shandilya
Image caption भीख मांगना छोड़कर अब काम पर लग गए हैं ब्रह्मदेव कामती.

समस्तीपुर ज़िले के ब्रह्मदेव कामती करीब तीन साल पहले अपने भाई से झगड़कर पटना आ गए थे. उन्होंने काम की तलाश की, लेकिन काम न मिलने पर पटना के मशहूर हनुमान मंदिर के बाहर भीख मांगने लगे.

करीब एक महीने तक भीख मांगने के बाद वे सक्षम से जुड़े कार्यकर्ताओं के ज़रिए सेवा कुटीर पहुंचे.

भीख में मिली कॉमिक्स ने कार्टूनिस्ट बना दिया

सड़कों पर भीख मांगता बचपन

ब्रह्मदेव कहते हैं, ''यहां भोजन और रहने का इंतज़ाम तो मिला ही, साथ ही मेरी कार्यक्षमता को देख कर मुझे केंद्र के केयरटेकर का भी काम सौंपा गया. मेरे परिवार से भी मुझे फिर से जोड़ दिया गया. मैं अब छुट्टी मिलने पर उनसे मिल भी आता हूं. यहां आकर मैं फिर से स्वावलंबी हो गया हूं. हमें परिवार के साथ जीवन-यापन करने के लिए कोई स्थाई काम चाहिए. हम ऐसा काम ढूंढ सकें, इसके लिए ट्रेनिंग चाहिए. यहां से वापस लौटने के बाद अगर हम फिर से बेरोजगार हो गए तो दिक्क्त होगी.''

इमेज कॉपीरइट Manish Shandilya
Image caption अब पिउन बनना चाहती हैं अनीता देवी

तब करीब तीस साल की अनीता देवी ससुराल छोड़कर बेटे के साथ पटना के मीठापुर इलाके में अपने मायके पहुंची थीं. लेकिन मायके में भी इनकी नहीं बनी. इसके बाद ये अपने बच्चे को वहीं छोड़ एक दिन घर से निकल गईं. भीख मांग कई साल गुज़ारा करने के बाद वो सेवा कुटीर पहुंचीं.

भीख में मिले पैसों से खोद डाला तालाब

भीख के 'कटोरों से छुटकारे' का अकाउंट

अनीता ने बताया, ''मैंने यहां सिलाई-कढ़ाई का काम भी सीखा. अभी यहीं कपड़ा सफ़ाई का काम कर थोड़ पैसे कमा लेती हूं. यहां आने के बाद अपने-बिछड़े बेटे और परिवार से भी मिल चुकी हूं. लेकिन अभी खुद पर इतना भरोसा नहीं हुआ कि मैं अपने दम पर ज़िंदगी जी पाऊं. मैं मैट्रिक पास हूं अगर किसी ऑफिस में चपरासी, पिऊन का काम मिल जाए तो मैं ऐसा कर पाऊंगी.''

इमेज कॉपीरइट Manish Shandilya

मैराथन में गोपालगंज के अशोक कुमार भी मिले. वे अभी भी भीख मांग कर ही गुज़ारा करते हैं. करीब बीस साल के अशोक ने बार-बार पूछने पर भी यह नहीं बताया कि उन्होंने किन हालातों में भीख मांगना शुरू किया.

उनके माता-पिता नहीं है. बुआ ने उनको पाल-पोस कर बड़ा किया. उन्होंने कहा, ''अगर हमको भी ये लोग सेंटर पर ले जाएंगे तो अच्छा रहेगा.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)