आशिक-माशूक की मज़ार, जहां दुआ मांगते हैं प्रेमी जोड़े

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

कहते हैं दो दिल मिल जाएं तो फिर मोहब्बत कहां? शायद इसीलिए दुनिया की सभी लोकप्रिय प्रेम-कथाओं का अंजाम जुदाई ही रहा है.

इन्ही में से एक प्रेमकथा वाराणसी के आशिक-माशूक की भी है.

इस्लामाबाद में वेलेंटाइल डे मनाने पर पाबंदी

वेलेंटाइन डे की तैयारी

शहर के औरंगाबाद इलाक़े में आशिक-माशूक की मज़ार उन्हीं दो प्रेमियों की मिसाल है, जो ज़िंदा रहते तो नहीं मिल सके, लेकिन मौत ने उनको मिला दिया. अब ये जगह प्यार करने वालों के लिए किसी धार्मिक स्थल से कम नहीं है.

यूं तो गाहे-बगाहे आशिक-माशूक की मज़ार पर छुप-छुपाकर या खुले में प्यार के परिंदे उड़ते हुए आ जाते हैं. लेकिन वेलेंटाइन डे पर यहां आने वालों की संख्या कुछ बढ़ जाती है.

अनुराधा ने बीबीसी हिंदी से कहा, "मंदिर-मस्जिद में तो लोग दुआएं मांगने जाते हैं, लेकिन आशिक-माशूक की मज़ार ऐसी जगह है, जो प्यार करने वालों के लिए बनाई गई है. यहां लोग अपने प्यार की हिफ़ाज़त की दुआ मांगने आते हैं. यही देखने-जानने मैं भी यहां आई हूं."

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

इस मज़ार पर पहुंची परी ने बताया, " जो मिल नहीं पाते वे यहां आते हैं. मैं भी जिसे चाहती हूं उसे पाने की दुआ करने यहां आई हूं."

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

इस मज़ार पर सजदा करने आए राहुल कहते हैं, " ये उन मोहब्बत करने वालों की मज़ार है जो मिल तो नहीं सके लेकिन अपनी जान देकर अमर हो गए. वेलेंटाइन डे पर बाकी जगहों पर भीड़ और शोर रहता है. लेकिन यहां आने से शांति मिलती है. प्यार और बेहतर होता है.''

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

मज़ार की देखभाल करने वाली कमेटी के प्रमुख शिराज़ अहमद ने बताया, " ये उस प्रेमी-प्रेमिका की मज़ार है, जो मिल नहीं पाए तो गंगा में डूबकर जान दे दी. जब उनकी लाश निकाली गई तो वो एक-दूसरे के साथ थे. इसके बाद उन दोनों की क़ब्र यहां एक साथ बनाई गई.''

वेलेंनटाइन डे और बृहस्पतिवार को यहां ज़्यादा लोग आते हैं. शादी-ब्याह और औलाद जैसी मुरादें पूरी होने पर लोग यहां चादर और फूल चढाते हैं."

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

शहर-ए-मुफ़्ती मौलाना अब्दुल बातिन नोमानी ने बनारस की धरोहरों पर 'तारीख़ असारे-बनारस' नाम से किताब लिखी है. साल 2015 में इस किताब का पांचवां और संशोधित संस्करण प्रकाशित हुआ.

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

इस किताब में आशिक और माशूक की मोहब्बत और मज़ार का भी ज़िक्र है.

उन्होंने बताया कि ये क़रीब 400 साल से भी पुरानी घटना है. उस समय बनारस के एक व्यापारी अब्दुल समद किसी काम के सिलसिले में कुछ दिनों के लिए शहर के बाहर गए. इस दौरान उनके नौजवान लड़के मोहम्मद यूसुफ़ को एक लड़की से मोहब्बत हो गई.

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

लड़की के परिवारवालों को जब पता चला तो उन्होंने लड़की को अपने एक रिश्तेदार के यहां भेज दिया. लेकिन यूसुफ़ भी नाव पर सवार होकर पीछे हो लिया.

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

लड़की के साथ दूसरे नाव पर बैठी बूढ़ी औरत ने लड़की की जूती को पानी में फेंक दिया और यूसुफ़ से कहा कि अगर तुम्हारी मोहब्बत सच्ची है तो जूती लेकर आओ. ये सुनते ही यूसुफ़ नदी में कूद गया, लेकिन वापस नहीं आया. कुछ दिनों बाद वापस घर जाते वक्त ठीक उसी जगह पर लड़की ने भी कूदकर अपनी जान दे दी. दोनों की लाश एक साथ नदी में मिली.

प्रेमी-प्रेमिका ने मरने के बाद भी एक-दूसरे का हाथ थाम रखा था. दोनों को शहर के औरंगाबाद इलाक़े में दफ़न किया गया. इसे ही अब आशिक-माशूक का मकबरा कहा जाता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)