प्रेस रिव्यू: 'स्कूलों में अनिवार्य हो राष्ट्रगान'

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

इंडियन एक्सप्रेस अख़बार की ख़बर के मुताबिक सर्वोच्च न्यायालय ने स्पष्ट किया है कि अगर राष्ट्रगान किसी फिल्म, न्यूज़ रील या डॉक्युमेंट्री का हिस्सा हो तो दर्शकों को खड़े होने की बाध्यता नहीं है.

इसके साथ ही अदालत ने नवंबर में दिए गए फैसले को बरकरार रखा है, जिसके मुताबिक़ सिनेमाघरों में फिल्म शुरू होने से पहले राष्ट्रगान बजाने और उस दौरान पर्दे पर राष्ट्रीय झंडा दिखाना होगा.

उस समय दर्शकों का खड़ा होना अनिवार्य है, हालांकि शारीरिक रूप से विकलांग लोगों को इससे छूट मिली हुई है. इस आदेश के बाद देश के कई शहरों में लोगों के साथ मार-पीट की घटनाएं सामने आईं थीं.

हालांकि सरकार के अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कहा है कि इसे सभी स्कूलों में अनिवार्य कर देना चाहिए.

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption नर्सरी स्कूल में दाखिले के लिए कोटा खत्म करने के लिए लोगों का विरोध प्रदर्शन(फ़ाइल फ़ोटो)

टाइम्स ऑफ इंडिया ने लिखा है कि दिल्ली में नर्सरी दाख़िला मामले में हाईकोर्ट ने एक अहम फ़ैसला देते हुए दिल्ली सरकार के बनाए नेबरहुड क्राइटेरिया पर अंतरिम रोक लगा दी है और एक किलोमीटर के दायरे में स्कूलों को दाखिला देने के निर्देश को रद्द कर दिया है.

अदालत ने अपने अंतरिम आदेश में कहा है कि स्कूलों से दूरी से जुड़ा नियम मनमाना और भेदभावपूर्ण है. हाईकोर्ट ने कहा है जनहित को 298 स्कूलों में जाने वाले बच्चों तक सीमित नहीं किया जा सकता.

साथ ही कोर्ट ने कहा है कि दिल्ली सरकार की दाखिला नीति में ऐसा कोई प्रावधान नहीं है जिससे फ़र्ज़ी कागज़ातों के जरिए दाखिले को रोका जा सके.

इमेज कॉपीरइट PTI

हिन्दुस्तान टाइम्स की ख़बर के मुताबिक ज्वाइंट कलेक्टर के नेतृत्व वाली गुंटूर ज़िला स्क्रीनिंग कमेटी ने रोहित वेमुला और उनके परिवार को मिले एससी दर्जे को रद्द करने की सिफारिश की है.

कमेटी ने जिला कलेक्टर से अपील की है कि रोहित और उनके परिवार के सदस्यों को ओड (वाडेरा) समुदाय (पिछड़ा-ए) का घोषित किया जाए और उनके एससी जाति प्रमाण पत्र को रद्द किया जाए.

गुंटूर के कलेक्टर ने रिपोर्ट के निष्कर्षों को रोहित वेमुला के परिवार को भेज दिया है और उन्हें नोटिस भी जारी किया है. कलेक्टर ने परिवार से पूछा है कि उनका जाति प्रमाण-पत्र ख़ारिज क्यों ना किया जाए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)