बीबीसी के नाम पर इलेक्शन सर्वे का फर्जीवाड़ा

बीबीसी इमेज कॉपीरइट Getty Images

अक्सर चुनाव के समय देखा जाता है कि लोग ये दुष्प्रचार करते हैं कि बीबीसी ने 'चुनाव सर्वेक्षण' किया है और फलां पार्टी जीत रही है.

बुधवार को भी ऐसा दुष्प्रचार किया गया. इसमें बताया गया कि उत्तरप्रदेश चुनाव-2017 को लेकर बीबीसी ने एक सर्वे किया है जबकि बीबीसी ने ऐसा कोई सर्वे नहीं किया था.

बीबीसी ये स्पष्ट करना चाहता है कि न तो बीबीसी चुनावी सर्वेक्षण कराता है और न ही किसी एक पक्ष की ओर से किए गए 'इलेक्शन सर्वे' को प्रकाशित ही करता है.

चुनाव ब्रॉडकास्ट को लेकर बीबीसी के संपादकीय दिशा निर्देश

चुनाव सर्वेक्षण को लेकर बीबीसी के संपादकीय दिशा निर्देश

इमेज कॉपीरइट Screengrab

अतीत में भी बीबीसी ने उसके नाम पर होने वाले चुनावी सर्वेक्षणों की विश्वसनीयता का खंडन किया है.

लेकिन इसके बावजूद कुछ लोग बीबीसी की विश्वसनीयता का फायदा उठाने की फ़िराक़ में रहते हैं.

इससे पहले इसी वर्ष मुंबई नगर निगम चुनावों में भी बीबीसी के नाम पर एक फर्ज़ी 'इलेक्शन सर्वे' जारी किया गया था.

व्हॉट्स ऐप और सोशल मीडिया के दूसरे प्लेटफॉर्म्स पर कुछ लोगों ने यह प्रचारित किया था कि बीबीसी हिंदी ने 'बृहन्मुंबई महानगरपालिका' का चुनाव पूर्व सर्वेक्षण किया और इसके रुझान प्रकाशित किए.

ऐसे मामले पहले भी देखे गए हैं जब राज्य विधानसभा चुनावों के दौरान बीबीसी के नाम पर ऐसे चुनावी सर्वेक्षण चलाए गए.

हरियाणा विधानसभा चुनाव के दौरान बीबीसी संवाददाता सलमान रावी से राज्य के एक मंत्री ने कहा, "बीबीसी ने भी सर्वे किया है जिसमें पता चला है कि हम जीत रहे हैं."

बीबीसी संवाददाता ने मंत्री का भ्रम दूर किया कि बीबीसी की नीति के तहत चुनावी सर्वेक्षण नहीं किए जाते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)