ELECTION SPECIAL: प्यासा बुंदेलखंड मांगेगा हिसाब

इमेज कॉपीरइट AFP

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के चौथे दौर के लिए पूरी तैयारियां हो गई हैं. अब बस लोगों के बटन दबाने भर की देर है और इसके साथ ही 12 ज़िलों के 53 सीटों पर 680 उम्मीदवारों की किस्मत ईवीएम में बंद हो जाएगी.

इलाक़े में कुल 1.84 करोड़ वोटर हैं जिनमें 84 लाख महिलाएं और 1,032 किन्नर भी शामिल हैं.

बुंदेलखंड भुखमरी की कगार पर: योगेंद्र यादव

सबसे ज़्यादा 26 उम्मीदवार इलाहाबाद उत्तरी सीट पर मैदान में हैं जबकि फतेहपुर की खगा, कौशांबी की मांझनपुर और प्रतापगढ़ की कुंडा सीट पर केवल छह उम्मीदवार खड़े हुए हैं.

2012 के चुनाव में 53 में से समाजवादी पार्टी को 24, बीजेपी को पांच और बहुजन समाजवादी पार्टी को 15 सीटें मिली थीं. कांग्रेस को छह और अन्य को तीन सीटें हासिल हुईं.

पिछले नतीजों से जाहिर है कि समाजवादी पार्टी के लिए यहां दांव पर ज़्यादा सीटें हैं. लखनऊ में वरिष्ठ पत्रकार शरद प्रधान कहते हैं, "सीटें ज़्यादा होने के साथ ही समाजवादी पार्टी के लिए इलाक़े में विकास ना होना भी बड़ी चुनौती है जो उनके लिए एंटी इंकमबेंसी को ज़्यादा बड़ा बनाएगा. लेकिन उनके विरोधियों की कमज़ोरी उनके लिए फायदेमंद हो सकती है."

'लर्नर्स लाइसेंस' वाले अखिलेश सीख गए राजनीति?

इमेज कॉपीरइट AP

जिन 12 ज़िलों में चुनाव होना है उनमें पानी के लिए तरसते बुंदेलखंड से लेकर नेहरू-गांधी परिवार की सीट माना जाने वाला रायबरेली भी शामिल है.

हालांकि 1998 के बाद पहली बार ऐसा हुआ है कि रायबरेली से सांसद और कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी अपने इलाक़े में चुनाव प्रचार करने नहीं पहुंचीं.

'यहां हम सब प्रियंका को ही नेता समझते हैं'

बुंदेलखंड में सूखा, यूपी ने ठुकराई पानी की ट्रेन

इनके अलावा प्रतापगढ़, इलाहाबाद, जालौन और कौशांबी के साथ ही झांसी, ललितपुर, महोबा, हमीरपुर, चित्रकूट और बांदा में भी चुनाव आज ही हो रहे हैं.

रायबरेली में कांग्रेस ने अदिति सिंह को उतारा है जो अखिलेश सिंह की बेटी हैं, दूसरी तरफ ऊंचाहार से बीएसपी छोड़कर बीजेपी में आए स्वामी प्रसाद मौर्य के बेटे उत्कर्ष मैदान में हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

प्रतापगढ़ के कुंडा से रघुराज प्रताप उर्फ़ राज भैया खड़े हैं तो इसी ज़िले की रामपुर ख़ास सीट से कांग्रेस सांसद प्रमोद तिवारी की बेटी और वर्तमान विधायक अराधना मिश्रा भी अपनी सीट बचाने के लिए संघर्ष कर रही हैं.

पूर्वांचल की राजनीति में कैसे छाते गए दबंग?

उत्तर प्रदेश चुनाव में 997 उम्मीदवार करोड़पति

नेता प्रतिपक्ष चरन दिनकर बांदा भी नरैनी सीट से चुनाव लड़ रहे हैं.

समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता रेवती रमण सिंह के बेटे उज्वल रमण सिंह इलाहाबाद की खरचाना सीट से मैदान में हैं.

इमेज कॉपीरइट Richa Singh Facebook

इलाहाबाद पश्चिम की सीट पर युवा नेता ऋचा सिंह को समाजवादी पार्टी ने टिकट दिया है. ऋचा सिंह इलाहाबाद यूनिवर्सिटी छात्र संघ की अध्यक्ष रह चुकी हैं.

शरद प्रधान मानते हैं कि इस चरण के चुनाव में धार्मिक ध्रुवीकरण की ज़्यादा अहमियत नहीं रहेगी.

उन्होंने बीबीसी से कहा, "लोगों का ध्यान व्यक्तित्व पर ज़्यादा है. एक तरफ मुख्यमंत्री अखिलेश यादव हैं तो दूसरी तरफ प्रधानमंत्री मोदी. कुछ सीटों पर लोग इन चेहरों को ही देख कर वोट देंगे. अमित शाह और नरेंद्र मोदी ने धार्मिक ध्रुवीकरण पर बयान दिए हैं लेकिन मुझे नहीं लगता कि इस दौर में उसका कुछ असर होगा. बहुजन समाज पार्टी के पास पहले से 15 सीटें हैं जो कम नहीं हैं और वो दोनों पार्टियों के लिए अच्छी चुनौती पेश करेगी."

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में कौन कितने पानी में ?

अमेठी के महल में ताल ठोंकती 'रानियां'

इस दौर के चुनाव प्रचार ने नेताओं की तल्ख़ बयानबाज़ी देखी है लेकिन मतदाताओं पर इन बयानों का क्या असर हुआ है ये देखना दिलचस्प रहेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)