फ्रीडम 251 लांच करने वाली कंपनी पर धोखाधड़ी का आरोप

इमेज कॉपीरइट Getty Images

केवल 251 रुपए की क़ीमत वाला स्मार्टफ़ोन लाँच करने वाली कंपनी रिंगिंग बेल्स के निदेशक मोहित गोयल को गाजियाबाद पुलिस ने गिरफ़्तार किया है.

उन पर आयाम एंटरप्राइज़ेस नाम की एक कंपनी ने 16 लाख रुपए की धोखाधड़ी का आरोप लगाया है.

उत्तर प्रदेश पुलिस के प्रवक्ता राहुल श्रीवास्तव ने मोहित गोयल की गिरफ़्तारी की पुष्टि की.

उन्होंने बीबीसी को बताया, "हम उन्हें न्यायायिक हिरासत में लेने की कोशिश करेंगे. राज्य के कई और हिस्सों से भी उनके ख़िलाफ़ कुछ शिकायतें आई हैं. हम सभी आरोपों की जांच करेंगे."

फ़्रीडम 251 फ़ोन से जुड़े 4 बड़े सवाल

251 रुपए के अलावा 'फ्रीडम' पर पड़ा है पर्दा!

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पुलिस प्रवक्ता ने कहा, "हमारे लिए ज़रूरी है कि धोखाधड़ी के ऐसे मामलों की पूरी जांच करें क्योंकि आम आदमी के ख़ून-पसीने की कमाई का नुक़सान होता है. टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में हम आजकल अधिक धोखाधड़ी देख रहे हैं."

उन्होंने लोगों से अपील की कि इस तरह के स्कीमों में पैसे फंसाने से पहले इसकी पूरी जांच कर लें. उहोंने कहा, "आज मोबाइल फ़ोन बेचे जा रहे हैं, कल सस्ते एयर कंडीशनर भी हो सकते हैं."

251 रुपए का स्मार्टफ़ोन!

आख़िर ये 251 रुपए का स्मार्टफ़ोन है कैसा?

इमेज कॉपीरइट EPA

रिंगिंग बेल्स ने अपनी वेबसाइट पर लोगों से ऑर्डर लेना शुरू किया था और इसे जून तक मुहैया करने का वादा भी किया था. लेकिन कंपनी ये वादा पूरा नहीं कर सकी.

'मेक इन इंडिया' वाला फ़ोन 'मेड इन चाइना'

इमेज कॉपीरइट EPA

इसके बाद कंपनी ने वादा किया था कि 2016 की नवंबर तक कंपनी 2 लाख फ़ोन ग्राहकों को दे देगी. लेकिन कंपनी ऐसा नहीं कर पाई.

लाँच के बाद कंपनी ने दावा किया था कि करीब सात करोड़ लोगों ने इसके लिए रजिस्टर किया है.

इससे पहले भारतीय जनता पार्टी के सांसद किरीट सोमैया ने फ़्रीडम 251 की योजना एक 'पौंजी स्कीम' बताया था. उन्होंने कहा था, " मुझे 110 फ़ीसदी विश्वास है कि यह एक पौंजी कंपनी का बड़ा घोटाला है."

सुनिए फ़्रीडम 251 के बारे में क्या कहा किरीट सोमैया ने

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे