नज़रिया: वामपंथ को मिटाने की कसम क्यों खा रहा है आरएसएस?

दिल्ली में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के छात्रों का प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट AFP GETTY
Image caption दिल्ली में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के छात्रों का प्रदर्शन

"हम कम्युनिस्टों को इसकी इजाज़त नहीं देंगे कि वे दिल्ली विश्वविद्यालय को जेएनयू बना दें".

रामजस कॉलेज में 'प्रतिरोध की संस्कृति' पर होने वाली एक गोष्ठी को जबरन बंद करवाने और वामपंथी छात्र संगठनों के छात्रों पर हमला करने के बाद देश के एकमात्र राष्ट्रवादी संगठन के एक सदस्य ने अपना आख़िरी इरादा बताया.

मोदी राज में कितना बदल गया है जेएनयू

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK
Image caption प्रदर्शन के दौरान घायल हुए डीयू के प्रोफेसर

हरियाणा केंद्रीय विश्वविद्यालय में महाश्वेता देवी की एक कहानी के मंचन के बाद उसके आयोजन के लिए जिम्मेवार अध्यापिका पर हमला करते हुए कहा गया कि इसे जेएनयू-कम्युनिस्टों का गढ़ नहीं बनने देंगे.

यही धमकी राजस्थान में, पुणे में और मुंबई में भी सुनाई पड़ती है.

वामपंथ या कम्युनिज़्म ऐसा ख़तरा है जिसे जड़ से उखाड़े बिना यह देश बच नहीं सकता- ऐसा बताया जा रहा है.

'डिग्री की दुकान बनकर ना रह जाएं यूनिवर्सिटी'

क्या नंदिनी सुंदर सच में माओवादी समर्थक हैं?

इमेज कॉपीरइट Twitter

वामपंथ के लिए सबसे बुरा वक़्त

इसे देखकर कहा जा सकता है कि भारत में वामपंथ के लिए यह सबसे बुरा वक़्त है. बुरा इसलिए कि राजनीतिक रूप से इस वक़्त वह सबसे कमज़ोर स्थिति में है.

संसद में उसकी संख्या नगण्य है. केरल और त्रिपुरा में उसका एक हिस्सा ज़रूर सत्ता में है, लेकिन 33 साल तक जिस प्रदेश पर उसका एकछत्र राज था, उस बंगाल में उसका आत्मविश्वास सबसे कम है. वामपंथ वहां वापस खड़ा हो पाएगा या नहीं, कहना कठिन है.

उमर ख़ालिद विवाद, पत्रकार भी बने निशाना

आइसा और एबीवीपी के छात्रों में हुई झड़प

राजनीतिक रूप से बिहार वामपंथ के लिए हमेशा से उत्साह दिलाने वाला राज्य रहा था. अब वहां उसका सिर्फ नाम ही बचा है.

माओवादियों का हौव्वा कितना ही क्यों न खड़ा किया जाए, यह भी सबको पता है कि वो अपने इतिहास के सबसे कमज़ोर क्षण पर खड़े हैं.

वामपंथियों के ख़िलाफ़ हूँ, वामपंथ के नहीं: ममता

भारतीय सिनेमा में वामपंथी विचारधारा

कम्युनिस्ट पार्टियों के दफ़्तर अब न तो नौजवानों को और न शहरों के बुद्धिजीवियों को आकर्षित करते हैं.

लेकिन यही वक़्त है जब वह सबसे कमज़ोर हालत में है, उस पर शासक दल और उसके संगठनों के हमले सबसे तेज़ हो गए हैं.

जो आज उन पर आक्रमण कर रहे हैं, उन्होंने ही भारत-चीन युद्ध के समय कम्युनिस्ट पार्टियों के ऊपर भयानक हमले किए थे, उनके दफ़्तरों को नष्ट कर देने की कोशिश की थी.

Image caption उमर ख़ालिद के विरोध के दौरान झड़प

वामपंथ और चुनौतियां

कहा जा सकता है कि उसके बाद यह पहला मौक़ा है कि हर प्रकार के वामपंथी चौतरफा हमला झेल रहे हैं. इसी वजह से कहा जा सकता है कि यह वामपंथ के लिए सबसे अच्छा वक़्त है, क्योंकि कई बार आप अपने विरोधी द्वारा परिभाषित होते हैं.

अगर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संगठन आप पर हमला कर रहे हैं और आपको मिटाने की कसम खा रहे हैं तो ज़रूर आपमें कुछ दम होगा! एक नई निगाह तो कम से कम आपमें अपने लिए आशा की किरण देख लेगी.

अगर विचार के तौर पर आप अभी भी सबसे बड़ी चुनौती हैं, तो संख्या के हिसाब से कम होने के बावजूद भी आप अपना उद्धार कर सकते हैं. शायद पुनर्जीवन का स्रोत वही विचार हो!

'क्या वामपंथी दे सकते हैं राजनीतिक विकल्प'

'एक फ़ैशनेबल बहस है आइडिया ऑफ़ इंडिया'

वह मूल विचार बराबरी का है, सबकी बराबरी का और सबकी गरिमा का. इस सपने का किसी की ख़ुशहाली किसी और की कीमत पर न होगी.

ऐसे में शायद वामपंथ ऐसे स्रोतों की ओर जा पाए जिनकी ओर उसने पहले अपने अहंकार में देखा नहीं था, मसलन गाँधी की ओर.

वामपंथ और बदलता नज़रिया

इमेज कॉपीरइट Manish Shandilya

उसने आंबेडकर की बात करनी शुरू कर दी है, लेकिन यह अभी बहुत कुछ बदहवासी में और रणनीतिक है. गाँधी और आंबेडकर से अभी उसकी ईमानदार चर्चा होनी बाक़ी है. नारीवाद से रिश्ता भी जनसंख्या के एक हिस्से से जुड़ने का ज़रिया भर नहीं, अपना नज़रिया बदलने का तरीका सुझाएगा.

जनतंत्र का महत्व भी उसे पहली बार क़ायदे से समझ में आया है. एकजुटताओं का भी. इस बात का अहसास कि सिर्फ और सिर्फ वही विचार रहेगा और बाक़ी को अपदस्थ कर देगा, यह सिर्फ कोरा ख़्याल नहीं एक ख़तरनाक इरादा है.

वामपंथी राह पर बढ़ता ब्रितानी लेबर?

'संघ के एजेंडे को छात्रों से मिली चुनौती'

अपने विरोधियों के साथ बहस करते हुए उन्हें बर्दाश्त ही नहीं बल्कि उनके साथ इज़्ज़त से पेश आना, यह बात उसे नेहरू से सीखनी थी. अब शायद याद आए तो भी बुरा नहीं.

यह कहने का वक़्त है कि वह जिसे सबसे अधिक त्याज्य मानता है, वह है हिंसा. यह कि व्यक्ति की निजी स्वतंत्रता एक ऐसा मूल्य है जिससे किसी भी बड़े आदर्श के नाम पर समझौता नहीं किया जा सकता.

यह कि उत्पादन-बहुलता का सिद्धांत समाज की ख़ुशहाली की बुनियाद नहीं हो सकता. उसे मेधा पाटकर से काफी कुछ सीखना है.

इमेज कॉपीरइट Manish Shandilya

क्या वामपंथ अप्रासंगिक हो गया है?

अतीत को संबोधित करने का यह सबसे अच्छा समय है: यह कहने का कि वह स्टालिन, ख्रुश्चेव, माओ, ख्मेर रूज़ का वारिस नहीं और वह कास्त्रो से भी अलग रास्ता चुन सकता है.

अगर वामपंथ अप्रासंगिक हो गया होता तो फिर उसे नेस्तनाबूत कर देने की मुहिम ही क्यों चलती? यह ऐसा ख्याल है जो अभी भी मानव मुक्ति के लिए उपयोगी है.

लेकिन उसे एक नए, जनतांत्रिक, व्यक्ति की गरिमा के आदर की भावना के साथ ख़ुद को पुनः परिभाषित करना होगा. उसे मनुष्य और समाज की इंजीनियरिंग करके उसे उपयोगी बनाने की जगह एक ब्रह्मांडीय और पर्यावरणीय दृष्टि विकसित करनी है.

यह सब मुश्किल है, लेकिन नामुमकिन नहीं. हमेशा ख़ुद को नए ढंग से खोजने की संभावना बनी रहती है.

अपनी कमज़ोरी को ही वह अभी अपनी ताकत बना सकता है और यही हमें उम्मीद भी करनी चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे