वासंती हुए मोदी के मन की 10 ख़ास बातें

  • 26 फरवरी 2017
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट AFP

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने नियमित रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' में इस बार वसंत के मौसम, इसरो की उपलब्धि और कैशलेस लेनदेन के बढ़ते चलन की बात की.

शुरुआत वंसत के स्वागत से हुई और बात महिला सशक्तिकरण पर जाकर ख़त्म हुई, लेकिन इन सबके बीच पीएम कई मसलों पर बोले.

'बूढ़ी मां का सियासी दुरुपयोग कर रहे हैं मोदी'

'मोदी जी विकास से श्मशान तक पहुंच गए'

प्रमुख बिंदु -

  • डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देने वाली लकी ग्राहक योजना या डिजिधन व्यापार योजना के तहत इनाम पाने वालों में 15 साल के युवा भी हैं तो 65-70 के बुज़ुर्ग भी.
  • मछुआरों की मदद के लिए बनाए गए ऐप का भी मोदी ने ख़ास तौर पर ज़िक्र किया. ये ऐप फ़िशिंग ज़ोन, हवा की दिशा और चाल के बारे में बताता है.
  • एक साथ 104 उपग्रह अंतरिक्ष में भेजने वाले इसरों की उपलब्धि पर को पीएम ने एक विश्व रिकॉर्ड और भारत के लिए गर्व की बात बताया.
  • बैलिस्टिक इंटरसेप्टर मिसाइल के सफल परीक्षण पर प्रधानमंत्री ने बताया कि इससे जमीन से 100 किमी की ऊंचाई पर दुश्मन की मिसाइल गिराई जा सकती है.
  • बेटी बचाने की बात पर पीएम ने कहा कि अब ये सिर्फ़ सरकारी कार्यक्रम नहीं रहा है, ये एक सामाजिक संवेदना है और लोकशिक्षा का अभियान बन गया है.
  • नेत्रहीन क्रिकेट के टी-ट्वेंटी मुकाबले में पाकिस्तान पर भारत की जीत को लेकर भी मोदी ने अपनी खुशी जाहिर की.
  • अन्न और खासकर दाल के रिकॉर्ड उत्पादन पर प्रधानमंत्री ने किसानों को धन्यवाद कहा. मोदी के मुताबिक किसानों की ये उपबल्धि गरीबों की बड़ी सेवा है.
  • 'शौच से संसाधन' तैयार करने के ट्विन-पॉट टॉयलेट का जिक्र भी 'मन की बात' कार्यक्रम में हुआ. इस तकनीक से मानव मल को खाद में बदला जाता है.
  • प्रधानमंत्री ने ट्विन-पॉट टॉयलेट की उपयोगिता को साबित करने के लिए पखाना साफ करने वाले आईएएस अफ़सर परम लैयर की तारीफ़ भी की.
  • उन्होंने कहा कि भीम ऐप इंस्टॉल करने का तरीका हर किसी को कम से कम 125 लोगों को सिखाना चाहिए.

रमज़ान ही नहीं, दिवाली में भी बिजली आए: मोदी

नोटबंदी से बंद तो नहीं होगी 'बीजेपी की दुकान'

मोदी-शाह के किले को ढहा पाएंगे केजरीवाल?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे