मेरे दोस्तों को रेप की धमकी दी गई - गुरमेहर कौर

गुरमेहर कौर इमेज कॉपीरइट FACEBOOK

दिल्ली यूनिवर्सिटी के रामजस कॉलेज के एक कार्यक्रम में जेएनयू छात्र उमर ख़ालिद के शामिल होने के विरोध में जो विवाद शुरू हुआ वो अब तक थमने का नाम नहीं ले रहा है. सड़क से लेकर सोशल मीडिया पर छात्र अपनी आवाज़ उठा रहे हैं.

दिल्ली विश्वविद्यालय की लेडी श्रीराम कॉलज की छात्रा गुरमेहर कौर ने सोशल मीडिया पर अपनी तस्वीर डाली है जिसमें उनके हाथ में एक तख्ती पर संदेश लिखा है 'मैं एबीवीपी से नहीं डरती.'

उनकी तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई और उनके बाद एबीवीपी के ख़िलाफ़ सोशल मीडिया पर छात्रों ने मोर्चा खोल दिया.

उमर ख़ालिद विवाद, पत्रकार भी बने निशाना

उमर ख़ालिद को लेकर डीयू में भिड़े छात्र

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK

कई छात्र छात्राओं ने गुरमेहर की तरह ही तस्वीरें सोशल मीडिया पर पोस्ट कीं और अपनी प्रोफ़ाइल फ़ोटो बदलकर एबीवीपी का विरोध किया.

गुरमेहर आरोप लगाती हैं, ''मेरी कई सहेलियों को बलात्कार की धमकियां दी गई थी. मेरे कई दोस्तों को मारा गया था पीटा गया था. अपने दोस्तों के समर्थन में मैंने ये विरोध शुरू किया है.''

उनका दावा है, ''यही कारण है कि ये आग की तरह फैला है. मैं अकेली नहीं हूं इस विचार के साथ. पूरे भारत में छात्र हमारे साथ हैं जो मानते हैं कि हम एक छात्र संगठन के ख़िलाफ़ खड़े हों जो लोग गुंडागर्दी को बढ़ावा देता है.''

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK

ऐसा नहीं है कि उन्हें सिर्फ़ सोशल मीडिया पर समर्थन मिला. एबीवीपी के समर्थन में कुछ लोगों ने गुरमेहर पर निशाना भी साधा.

गुरमेहर कहती हैं, ''सोशल मीडिया पर मुझे काफ़ी ट्रोल किया गया और कई लोगों ने मुझे राष्ट्रविरोधी कहा. जिन्होंने राष्ट्रवाद के नाम पर मेरा मज़ाक उड़ाया है उस पर मैं कहूंगी कि ये कोई मज़ाक नहीं है.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

गुरमेहर ने कहा, ''मेरे घर में सबने मुझे यही सिखाया है कि सही बात के लिए खड़े होना चाहिए, अपनी आवाज़ उठानी चाहिए.''

वो कहती हैं कि जिस तरह सोशल मीडिया पर उन्हें ट्रोल किया जा रहा है, परिवार में इसे लेकर चिंता ज़रूर है फिर भी परिवार के लोग उन्हें अपनी आवाज़ उठाने की प्रेरणा देते हैं.

इमेज कॉपीरइट TWITTER

गुरमेहर का कहना है कि वो किसी राजनीतिक विचारधारा से नहीं जुड़ी हैं. वो कहती हैं कि भारत की रीढ़ संविधान है जिसमें मूलभूत अधिकार दिए गए हैं. अगर कोई भी मूलभूत अधिकार छीनता है तो राष्ट्रवाद नहीं होता.

गुरमेहर मानती हैं, ''दिल्ली विश्वविद्यालय में जो हुआ वो राजनीतिक कलह नहीं बल्कि छात्रों के साथ हुआ अत्याचार था. विश्वविद्यालय परिसर में डर का माहौल बन गया है और जो भी दल डर का माहौल पैदा करने की कोशिश करेगा हम उससे यही कहेंगे कि हम डरते नहीं हैं.''

वहीं एबीवीपी की नेता प्रियंका छावरी जो दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ की उपाध्यक्ष भी हैं, उनका कहना है कि ये विरोध केवल एबीवीपी का नहीं बल्कि रामजस कॉलज के छात्रों का भी विरोध है. वो कहती हैं कि जब कश्मीर को लेकर नारे लगेंगे और देश को बांटने की बात होगी तो वो बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

प्रियंका का कहना है कि एबीवीपी को युवाओं में भरपूर समर्थन मिल रहा है और एबीवीपी एक राष्ट्रवादी संगठन है जिसने हमेशा छात्रों और देश के मुद्दों पर ग़लत के खिलाफ़ आवाज़ उठाई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे