ELECTION SPECIAL: अमेठी के इस गांव के लोग नहीं कर रहे हैं वोटिंग

  • 27 फरवरी 2017
अमेठी का परसौली गांव इमेज कॉपीरइट samiratmaj mishra

अमेठी विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले परसौली गांव के लोग मतदान का बहिष्कार कर रहे हैं.

गांव के क़रीब दो हज़ार मतदाता इस बात से नाराज़ हैं कि उनके यहां तीन दशक पुरानी सड़क की आज तक मरम्मत भी नहीं की गई है, नई सड़क बनाने का मुद्दा तो दूर की बात है.

गांव के एक व्यक्ति दीप नारायण कहते हैं, "उनके गांव को मुख्य मार्ग से जोड़ने वाली सड़क संजय गांधी ने तब बनवाई थी जब वो यहां से सांसद थे."

लेकिन उसके बाद से इस टूटी सड़क की कभी मरम्मत भी नहीं की गई.

अमेठी के महल में ताल ठोंकती 'रानियां'

सपा-कांग्रेस गठजोड़ में अमेठी-रायबरेली का पेंच

इमेज कॉपीरइट samiratmaj mishra

गांव के लोगों का कहना है कि उन्होंने तीन महीने पहले से ही मतदान के बहिष्कार की घोषणा की थी और गांव के बाहर बैनर भी लगा दिया था.

कई अधिकारी आए भी लेकिन उन्होंने किसी तरह का कोई आश्वासन नहीं दिया.

अमेठी सीट में इस बार समाजवादी पार्टी, कांग्रेस और बीजेपी में त्रिकोणीय लड़ाई है.

अखिलेश के लिए क्यों अहम है पांचवां चरण?

यूपी चुनाव से कहाँ ग़ायब हैं स्मृति इरानी?

इमेज कॉपीरइट samiratmaj mishra

समाजवादी पार्टी से मौजूदा विधायक और कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रजापति उम्मीदवार हैं जबकि कांग्रेस और बीजेपी से संजय सिंह की दोनों पत्नियां चुनाव लड़ रही हैं.

गांव के एक व्यक्ति ने आरोप लगाया कि गायत्री प्रजापति ने धमकी दी थी कि वो इस गांव की सड़क नहीं बनने देंगे क्योंकि यहां के लोगों ने उन्हें वोट नहीं दिया था.

कई आला अधिकारी और पुलिस अधिकारी लोगों को मतदाने के लिए मनाने में लगे हैं.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
उत्तर प्रदेश के अमेठी विधानसभा सीट पर ताल ठोक रही हैं भूपति महल में रहने वाली दो रानियां.

'यहां हम सब प्रियंका को ही नेता समझते हैं'

मुलायम के खास क्यों हैं प्रजापति?

'सपा के साथ गठबंधन में प्रियंका का हाथ'

झोपड़ी में रहने और भैंस दुहने वाले मंत्री

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)