केरल: रिश्तेदारों ने 'आईएस लड़ाके' के मारे जाने की पुष्टि की

  • 27 फरवरी 2017
इमेज कॉपीरइट Imran Qureshi

ख़ुद को इस्लामिक स्टेट कहने वाले चरमपंथी गुट के कथित लड़ाके हफ़ीज़ुद्दीन टीके के रिश्तेदारों ने ड्रोन हमले में उनके मारे जाने की पुष्टि कर दी है.

हफ़ीज़ुद्दीन के मारे जाने की ख़बर उनके किसी दोस्त ने घरवालों को मैसेज से दी. मैसेज में कहा गया कि उनका बेटा 'शहीद' हो गया.

केरल में हफ़ीज़ुद्दीन के नज़दीकी रिश्तेदार बीसी रहमान ने बीबीसी से कहा, "बीते छह महीने सबसे ज़्यादा तक़लीफ़देह रहे. हमें अंदेशा था कि किसी भी दिन इस तरह का संदेश आ सकता है."

बीते साल जुलाई में हफ़ीज़ुद्दीन की मां इस कदर परेशान थीं कि वे बीमार हो गईं. हफ़ीज़ुद्दीन ने 5 जुलाई 2016 को एक मैसेज भेजकर अपनी मां से 'सलाम अलैकुम' कहा था.

खोज़-पड़ताल से जब कुछ पता नहीं चला तो पुलिस में मामला दर्ज करवाया गया.

केरल में मुस्लिम 'कट्टरता', अरब का असर?

केरल के मुसलमान: महेश से रफ़ीक़ बनने का सफ़र

केरल में 'बीफ़ फ्राई' के दीवाने लोग

हफ़ीज़ुद्दीन ने ग्रैजुएशन पूरा नहीं किया था. घरवालों ने इस उम्मीद से उनकी शादी करवा दी थी कि वे इसके बाद ज़्यादा गंभीर हो जाएंगे. लेकिन बीते तीन साल से हफ़ीज़ुद्दीन यकायक कुछ ज़्यादा ही धार्मिक हो गए थे.

साल 2016 के मई में उन्होंने घर फ़ोन कर कहा कि मैं कोझीकोड में हूं और वायदा किया कि वे ईद के मौके पर ज़रूर आएंगे. लेकिन इसके बाद उनकी मां ने कई बार फ़ोन किया तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया. एक बार मैसेज किया कि वे श्रीलंका में हैं.

परिवार के लोगों को बाद में पता चला कि करसगोड के 17 युवा लड़के और लड़कियां यकायक गायब हो गईं.

इमेज कॉपीरइट Supplied
Image caption अफ़ग़ानिस्तान में आईएस का प्रभाव बढ़ रहा है

रहमान ने बीबीसी से कहा, "हमें जितने मैसेज मिले, हमने पुलिस को बता दिया. हर परिवार ने पुलिस में मामला दर्ज करवा दिया. लेकिन न पुलिस और न ही राष्ट्रीय जांच एजेंसी उनका ठिकाना तलाश पाई."

दरअसल, रहमान ने अशफ़ाक मजीद का मैसेज मिलने के बाद हफ़ीज़उद्दीन से संपर्क करने की कोशिश की. उन्होंने टेलीग्राम ऐप से एक वॉयस मैसेज भेजा.

रहमान ने कहा, "मैंने पाया कि वे मेरे वॉयस मैसेज का जवाब नहीं दे रहे हैं, सिर्फ़ टेक्स्ट में जवाब दे रहे हैं. वे एक स्थानीय सेल नंबर से मैसेज कर रहे थे."

मजीद ने मैसेज में लिखा था, "हफ़ीज कल ड्रोन हमले में मारे गए. हम उन्हें शहीद मानते हैं. अल्लाह बेहतर जानता है."

इमेज कॉपीरइट AFP

रहमान के मैसेज के जवाब में मजीद ने लिखा, "हम अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं, इंशा अल्लाह."

केरल के एक आला पुलिस अफ़सर ने कहा कि वे इस मुद्दे पर कुछ नहीं कह सकते, क्योंकि मामला राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के पास है.

एनआईए से संपर्क करने की कोशिश नाकाम रही. एनआईए ने अपनी चार्जशीट में कहा कि ग़ायब लोग अफ़ग़ानिस्तान में हो सकते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे