एक मज़ाक के लिए मुझे फांसी पर मत लटकाओ: रणदीप हुड्डा

  • 28 फरवरी 2017
रणदीप हुड्डा इमेज कॉपीरइट FACEBOOK

करगिल युद्ध में मारे गए एक सैनिक की बेटी गुरमेहर कौर के एक पुराने वीडियो की तर्ज पर भारत के पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने 26 फ़रवरी को एक ट्वीट किया था.

इस ट्वीट को लेकर सहवाग की काफी आलोचना हो रही है. सहवाग के इस ट्वीट पर बॉलीवुड अभिनेता रणदीप हुड्डा ने प्रतिक्रिया में कुछ स्माइली पोस्ट की थी.

इस स्माइली के कारण हुड्डा को भी लोगों ने घेरा. कई लोगों का मानना है कि हुड्डा की यह स्माइली गुरमेहर कौर की ट्रोलिंग करने वालों के पक्ष में है.

पिछले हफ्ते रामजस कॉलेज में एबीवीपी और वामपंथी छात्र संगठनों के बीच हिंसक झड़प हुई थी. इसे लेकर एबीवीपी की आक्रामकता पर लोगों ने सवाल खड़े किए. इसी दौरान गुरमेहर कौर सामने आईं और उन्होंने कहा, ''मैं दिल्ली यूनिवर्सिटी की छात्रा हूं. मैं एबीवीपी से नहीं डरती हूं. मैं अकेली नहीं हूं. भारत के सभी छात्र मेरे साथ हैं.''

गुरमेहर कौर के पोस्टर के पीछे जो वीडियो है, उसकी पूरी कहानी ये रही

इमेज कॉपीरइट Twitter

एक तबके को गुरमेहर का यह क़दम पसंद नहीं आया और लोगों ने ऑनलाइन ट्रोलिंग शुरू कर दी. ट्रोल करने वालों ने सहवाग और हुड्डा के ट्वीट का भी खूब इस्तेमाल किया. अब हुड्डा ने अपने ट्वीट को लेकर फ़ेसबुक पर सफ़ाई में एक पोस्ट लिखी है. हुड्डा ने लिखा है-

हंसने के लिए मुझे लटकाओ मत. वीरू ने एक जोक साझा किया था और मैं स्वीकार करता हूं कि मुझे उस जोक पर हंसी आई थी. वह बहुत मज़ाकिया हैं और यह उन कई चीज़ों में से एक था जिसने मुझे हंसने पर मजबूर किया. बस इतना ही था!!

मेरे दोस्तों को रेप की धमकी दी गई - गुरमेहर कौर

सहवाग ने क्यों कहा- मैंने नहीं, बल्ले ने मारे दो तिहरे शतक?

लेकिन अब मैं हैरान हूं कि मुझे एक युवती के ख़िलाफ़ नफ़रत भड़काने के लिए जिम्मेदार बताया जा रहा है. वह लड़की भी ऐसा ही मानती है. उसने यह बात कही थी और वह खुलकर सामने आई थी. ऐसे में उसे अपने ख़िलाफ़ आवाज़ भी धैर्य से सुनने का साहस दिखाना चाहिए था.

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK

यदि आप किसी पर उंगली उठाते हैं (इस मामले में मैं) और उस पर आने वाली प्रतिक्रियाओं के लिए किसी को जिम्मेदार ठहराते हैं तो यह सही नहीं है. मैं बिल्कुल उस लड़की के ख़िलाफ़ नहीं हूं.

मैं मजबूती के साथ इस बात को मानता हूं कि हिंसा ग़लत है. महिला को धमकी देना एक जघन्य अपराध है. ऐसा करने वालों को कड़ी सजा मिलनी चाहिए.

मैं उस लड़की के वीडियो को पसंद करता हूं जिसमें उसने युद्धरत देशों के बीच शांति की अपील की है. यह सराहने लायक है, लेकिन टकराव का बिन्दु यह नहीं है. उसे अधिकार है कि वह जो सोचती है उसके आधार पर किसी भी चीज़ का विरोध करे.

दूसरी तरफ़ वीरू को भी अधिकार है कि वह मज़ाक उड़ाएं. हम एक लोकतंत्र में रहते हैं और हमें अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का हक़ हासिल है. हम पर बदमाशी का आरोप लगाना और उस लड़की को ट्रोल करना ग़लत है.

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK

सहवाग के जोक में उस लड़की को टैग नहीं किया गया था. वह हमारी हंसी में शामिल नहीं थी लेकिन कुछ पत्रकारों ने अन्य लोगों के साथ हमलोगों के ऊपर उंगली उठाना शुरू कर दिया.

उन्होंने अपने एजेंडे के हिसाब से हमें घेरना शुरू कर दिया. यह बदमाशी है. यदि आप सोचते हैं आप किसी को सता सकते हैं तो आपको दूसरी तरफ़ से भी सामना करना होगा.

डीयू में हुई हिंसा को युद्ध के ख़िलाफ़ उसकी अपील से कैसे जोड़ा गया? वीरू के जोक को हिंसा के समर्थन में कैसे जोड़ दिया गया?

मुद्दा यह है कि यह कोई मुद्दा ही नहीं है, लेकिन इस मामले में चीज़ों को जानबूझकर घालमेल किया जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK

लड़की की आवाज़ बहुत अहम है लेकिन सभी नागरिकों की आवाज़ से ज़्यादा महत्वपूर्ण नहीं है. ऐसा नहीं है कि वह सभी शहीदों और उनके बच्चों का प्रतिनिधित्व करती है.

यह उसकी निजी राय थी और उसी रूप में लिया जाना चाहिए. मेरी निजी राय है कि लोगों को युवाओं के कंधे पर बंदूक रखकर नहीं दागना चाहिए. छात्रों को पढ़ना चाहिए, बहस करनी चाहिए और उन्हें एक-दूसरे से सीखना चाहिए.

वे हमारे देश के भविष्य हैं और मैं अपने भविष्य को लेकर दुखी नहीं हूं क्योंकि हमलोगों के चारों तरफ़ ऐसे साहसिक और खुलकर बोलने वाले लोग हैं.

एक शहीद की बेटी के प्रति असंवेदनशीलता को लेकर मैं आप सबसे कहना चाहता हूं कि मेरे 6 दोस्तों ने देश के लिए अपनी जान दे दी. इनके साथ मेरे और कई लोग भी हैं. मेरे राज्य के हर गांव में शहीद हैं.

हां, युद्ध ग़लत है, लेकिन इसकी शुरुआत हम नहीं करते हैं. हम अपनी सीमा की रक्षा करने से पीछे नहीं हट सकते चाहे इसके लिए हमें जान ही गंवानी पड़े. हम आख़िर इससे कैसे निपट सकते हैं? हंसी और मज़ाक से? अब इस मुद्दे को मैं यहीं ख़त्म करना चाहता हूं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे