ओडिशा में एक रुपए किलो टमाटर बेचने पर मजबूर किसान

  • 28 फरवरी 2017
इमेज कॉपीरइट Subrat Kumar Pati

ओडिशा में इस वर्ष टमाटर की पैदावार करने वाले किसानों को काफी आर्थिक हानि उठानी पड़ रही है.

किसानों को एक रुपये प्र​ति किलोग्राम से भी कम में टमाटर बेचना पड़ रहा है.

क्योंझर ज़िले में इस मसले को लेकर किसान पिछले कई दिनों से विरोध प्रदर्शन भी कर रहे हैं.

क्योंझर में सोमवार को कई किसानों ने कलेक्टर कार्यालय के सामने सड़क पर टमाटर फेंक कर प्रदर्शन किया.

'हिंदू बिजली, मुसलमान टमाटर..नहीं चाहिए'

टमाटर घटाता है प्रोस्टेट कैंसर का ख़तरा

महादेइजोड़ा गांव के एक किसान ने बीबीसी से कहा, ''इस वर्ष टमाटर की अच्छी फसल हुई थी, लेकिन इस फ़सल का कोई ख़रीदार नहीं मिल रहा है. कई टन टमाटर खेत में पड़ा है. शहर से आए व्यापारी इसे एक रुपए से भी कम क़ीमत पर ख़रीद रहे हैं. अब हमारे पास इस फ़सल को फेंकने के अलावा और कोई चारा नहीं है.''

विरोधी दल का विरोध प्रदर्शन

इमेज कॉपीरइट Subrat Kumar Pati

किसानों को फ़सल की ब्रिकी की कम कीमत मिलने को लेकर मंगलवार को ओडिशा विधानसभा में विरो​धी दलों ने जमकर शोरगुल किया.

इस विरोध के कारण सदन की कार्रवाई नहीं चल पाई. स्पीकर निरंजन पुजारी ने इस विरोध के कारण सदन को बुधवार तक के लिए स्थगित कर दिया है.

भाजपा के विधायक प्रदीप पुरोहित के अनुसार,''हर वर्ष किसानों को मजबूरन कम दाम में फ़सल को बेचना पड़ रहा है. सरकार इस पर कोई ठोस कदम नहीं उठा रही है.''

टमाटरों को खाऊं या इनसे नहाऊं?

बीबीसी ने राज्य के कृषि मंत्री प्रदीप महारथी से इस मसले पर प्रतिक्रिया लेनी चाही, लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो पाया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे