नज़रिया: प्रजापति पब्लिक को दिखते हैं, पुलिस को नहीं

इमेज कॉपीरइट PTI

नाम गायत्री प्रजापति, राज्य यूपी और ठिकाना समाजवादी पार्टी हो तो क्या कहने. गायत्री प्रजापति आजकल यूपी की राजनीति और प्रशासन में छाए हुए हैं.

आजकल कहना उनके साथ अन्याय करना होगा. वे तो लंबे समय से सत्ता के गलियारों और परिवार के बरामदों से लेकर स्वर्णिम खदानों तक छाए हुए हैं.

हाँ, आजकल उनकी पूछ कुछ ज़्यादा ही बढ़ गई है. पुलिस उनके दर्शन को तरस रही है. वे हैं कि सामने होकर भी पुलिस को दर्शन नहीं देते.

दरअसल, मध्य फरवरी में सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि गायत्री प्रजापति का स्थान कारागार होना चाहिए. कारागार को धन्य करने के लिए पुलिस प्रजापति की तलाश में है.

मुलायम के खास क्यों हैं प्रजापति?

अमेठी के महल में ताल ठोकती 'रानियां'

वह उनके सरकारी बंगले में जाती है तो सरकारी सुरक्षा गार्ड बताते हैं कि वे महोदय वहां नहीं हैं. विधायक निवास वाले अंगरक्षक कहते हैं कि मंत्री जी अपने चुनाव क्षेत्र में हैं. चुनाव क्षेत्र भी उनका ठहरा - जगप्रसिद्ध अमेठी.

अमेठी के गदगद कार्यकर्ता पुलिस को बताते हैं कि गायत्री जी लखनऊ चले गए. लखनऊ में वे अक्सर एक ख़ास ठिकाने पर विराजमान पाए जाते हैं.

उनकी एक बहुप्रसारित फोटो है जिसमें वे मुलायम के चरण दोनों हाथों से पकड़े हुए कैमरे की तरफ़ मुस्करा रहे हैं. ये चरण उन्हें पार्टी से परिवार तक शक्तिशाली बनाते रहे. अब पुलिस इस ठिकाने तो जा नहीं सकती.

इमेज कॉपीरइट Gayatri Prajapati FB

बात इतनी सी है कि एक महिला ने आरोप लगाया कि प्रजापति ने उनके साथ रेप किया. उनकी नाबालिग बेटी से भी रेप की कोशिश की. उनके विरुद्ध मुक़दमा लिख लिया जाता तो वे प्रजापति कैसे होते.

रेप का आरोप पर मंत्री पद को ख़तरा नहीं

अंतत: सुप्रीम कोर्ट को उनका स्मरण करना पड़ा. मुक़दमा लिखा गया. इस सबके बावजूद प्रजापति जी मंत्री पद पर शोभायमान है. मुख्यमंत्री महोदय उन्हें मंत्रिमंडल से निष्कासित करने की सोच भी नहीं सकते.

एक बार जोश में उन्हें बर्ख़ास्त करके देख लिया था, फौरन वापस लेना पड़ा. मुलायम के चरणों में बैठ कर मुस्कुराते हुए फोटो तभी का है. पार्टी में विवाद के दिनों भी वे शिवपाल के साथ नेता जी के इर्द-गिर्द डटे रहे थे. निष्कासन और पुन: शपथ ग्रहण के बाद वे अखिलेश के पैर छूना भी नहीं भूलते.

एक मेनिफ़ेस्टो जिस पर मोदी, मुलायम सब सहमत

हत्या जैसे संगीन आरोपों वाले मुख्तार अंसारी, कई बर्खास्त मंत्री और टिकट वंचित सपा नेता प्रजापति से रश्क करते हैं. अखिलेश ने कभी डीपी यादव को दूर किया तो कभी चचा शिवपाल की सिफारिश के बावजूद मुख्तार अंसारी और उनकी पार्टी को दुत्कार दिया.

मगर रेप के आरोपी प्रजापति अब भी मंत्री पद पर आसीन हैं, सपा की शान बढ़ा रहे हैं और अमेठी से पार्टी के सुयोग्य प्रत्याशी हैं. सपा के नए सुप्रीमो और लोकप्रिय मुख्यमंत्री स्वयं उनके प्रचार के लिए गए.

इमेज कॉपीरइट Gayatri Prajapati FB
Image caption तस्वीर पुरानी भले ही हो लेकिन पुलिस अधिकारी से गुलदस्ता ही ले रहे हैं गायत्री प्रजापति

अमेठी की चुनावी जन सभा में अखिलेश के पहुंचने तक प्रजापति मंच से अपने सुकर्मों का बखान कर रहे थे. भावुक होकर रो रहे थे कि रेप का आरोप और कारागार भेजने का निर्णय उनके साथ कितना बड़ा अन्याय है. अखिलेश जब सभा मंच पर आए तो प्रजापति का तेज़ सहन नहीं कर सके. मुख्यमंत्री के भाषण तक प्रदीप्त-मुख प्रजापति मंच के सामने बैठे रहे.

प्रजापति के लिए गंभीर आरोप कोई नए तमगे नहीं हैं. उनके खिलाफ संगीन आरोपों की मोटी फ़ाइल प्रदेश के पूर्व लोकायुक्त ने एकाधिक बार सरकार के पास कार्रवाई के लिए भेजी थी. लोकायुक्त ने अपनी जांच में आरोप सही पाए थे. सरकार उस फ़ाइल को अब तक मज़बूत आलमारी में सुरक्षित रखे हैं. इस प्रसंग के कुछ रोचक क्षेपक भी हैं.

चार बार शपथ ले चुके हैं प्रजापति

कोई देढ़-दो वर्ष पहले सोशल साइट्स पर एक ऑडियो वायरल हुआ था जिसमें एक शख़्स फ़ोन पर पुलिस महानिरीक्षक अमिताभ ठाकुर को धमकियां दे रहा है कि अपनी हरकतें बंद कर दो वर्ना बुरा हाल करुंगा. अमिताभ का आरोप था कि यह धमकी मुलायम सिंह यादव ने दी. आवाज़ उनकी जैसी थी.

इमेज कॉपीरइट Gayatri Prajapati FB

पृष्ठभूमि यह कि अमिताभ ठाकुर और उनकी एक्टिविस्ट पत्नी नूतन गायत्री प्रजापति के अवैध धंधों की पड़ताल कर रहे थे. अमिताभ ने इस पर मुलायम के ख़िलाफ़ रिपोर्ट लिखवाई. चंद रोज़ बाद अमिताभ के ख़िलाफ़ एक महिला ने रेप का मुकदमा लिखा दिया. अमिताभ के ख़िलाफ़ जांच अब तक चल रही है जबकि गायत्री प्रजापति शफ्फाक खादी में मंत्री रहते हुए ठसके से चुनाव लड़ रहे हैं.

समझा नहीं, धमका रहे थे मुलायम: अमिताभ

अमिताभ ठाकुर के ख़िलाफ़ बलात्कार का मामला

गायत्री प्रजापति होने का महत्व इस तथ्य से भी समझा जा सकता है कि वर्तमान सपा सरकार में उन्होंने चार बार मंत्री पद की शपथ ली. पहली बार राज्यमंत्री पद की, फिर स्वतंत्र प्रभार के राज्य मंत्री की, उसके बाद कैबिनेट मंत्री की और बर्ख़ास्त होने के बाद पुन: कैबिनेट मंत्री की.

सपा के सर्वेसर्वा रहे मुलायम और उनके प्रभावशाली भ्राता आज हाशिए पर हैं लेकिन उनके शरणागत गायत्री प्रजापति का बाल बांका न हुआ.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे