श्रीनिवास को बचाना चाहने वाले हीरो को भारत यात्रा का न्यौता

  • 4 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट AP
Image caption इयन ग्रिलॉट को अस्पताल से छुट्टी मिल गई है.

भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास कुचीवोतला पर गोली चलाने वाले हमलावर को रोकने की कोशिश करने वाले अमरीकी युवक इयन ग्रिलट को भारत आने का न्योता दिया गया है.

कैनसस हॉस्पिटल यूनिवर्सिटी ने एक बयान जारी कर कहा है कि गुरुवार को भारतीय राजनयिकों ने इयान ग्रिलट से मुलाक़ात की और उन्हें भारत आने का आमंत्रण दिया.

24 साल के इयन इस हमले में घायल हो गए थे. बीते मंगलवार को उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई.

भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज समेत भारतीय समुदाय ने इयान की बहादुरी की तारीफ़ की थी.

अमरीका में मारे गए भारतीय इंजीनियर की पत्नी की भावुक पोस्ट

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption श्रीनिवास कुचीवोतला और उनकी पत्नी सुनयना दुमला की फ़ाइल फ़ोटो

हिंदुस्तान टाइम्स ने इयन के हवाले से कहा कि, "मैं समझता हूं कि अब भारत जाने की एक बेहतर वजह मिल गई है."

22 फ़रवरी को कैनसस के ओलेथ में स्थित ऑस्टिन्स बार एंड ग्रिल रेस्तरां में इयन उस वक्त मौजूद थे जब हमलावर एडम प्यूरिंटन ने दो भारतीय इंजीनयरों श्रीनिवास कुचीवोतला और आलोक मदासानी पर हमला बोला था.

हमलावर ने गोली चलाने से पहले कथित रूप से 'मेरे देश से निकल जाओ' कहा था.

'अमरीका ने प्यार छीना, प्यार बांटने लौटूंगी'

कुचीवोतला की मौत घटना स्थल पर ही हो गई जबकि मदासनी घायल हो गए थे.

इयन ने हमलावर को रोकने की कोशिश की थी और इस दौरान उन्हें हाथ और छाती में गोली लगी थी.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption हमलावर अमरीकी नौसेना का एक रिटायर्ड सैनिक है

हमलावर अमरीकी नेवी का एक रिटायर्ड सैनिक था जिसने हमले के बाद कथित रूप से बारटेंडर से कहा कि उसने "दो ईरानी नागरिकों को गोली मार दी है."

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने कांग्रेस में दिए एक भाषण में भारतीय इंजीनियर के मारे जाने की निंदा की थी. इससे पहले, इस घटना पर कई दिनों तक चुप्पी साधे रखने के लिए उनकी आलोचना हुई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे