मणिपुर: क्या बीजेपी तोड़ पाएगी इबोबी का वर्चस्व

  • 5 मार्च 2017

शनिवार को 38 सीटों पर हुआ मतदान ख़त्म भी नहीं हुआ था, अलग-अलग दावे और जोड़-घटाव लगने शुरू हो गए थे.

बुलेट मोटरसाइकिल पर बैठे होमश्वर शर्मा दावा करते हैं कि बीजेपी को कम से कम 40 सीटें हासिल होंगी. पास खड़ी औरत पंजा दिखाकर कहती हैं कि जीत तो उनकी पार्टी की ही होगी.

पक्की सड़क से नीचे उतरकर तेलीपट्टी मंदिर के पास जो पोलिंग बूथ था वहां मतदान ख़त्म हो जाने के बाद मर्द, औरत, बूढ़े, जवान सब जमा थे.

'राहुलजी ने तो नारियल से जूस निकाल दिया'

नारियल जूस पर कौन ग़लत - राहुल या मोदी

औरतें रंगीन शोख़ लिबास में गप्पे मारतीं और ठहाके लगाती हुई तो पास खड़े सुरक्षाबल के नौजवान गाड़ियों और दीवारों से पीठ लगाकर थोड़ा सुस्ता रहे थे. मगर पास-पास खड़े लोगों के लिए वोट, वोटिंग और मुद्दे एक-दूसरे से दूर थे.

होबम रंजना और पुष्पा देवी - दोनों के मुद्दे अलग-अलग - दोनों अलग-अलग क्षेत्रों से हैं और दोनों के जातीय आधार भी अलग हैं. एक मैतेई हैं जिनकी तादाद मणिपुर में सबसे ज़्यादा है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

वर्तमान मुख्यमंत्री इबोबी सिंह भी इसी समुदाय से हैं.

दूसरी पुष्पा देवी ख़ुद को तेली बताती हैं.

होबम रंजना कहती हैं कि क्षेत्र के पुराने विधायक ने विकास का कोई काम नहीं किया है.

मणिपुर चुनाव में कहां खड़ी है बीजेपी?

पुष्पा देवी के चारों तरफ और कई औरतें, मर्द और बच्चियां खड़े हो जाते हैं. वो कहने लगती हैं, "हम लोग यहां पुश्तों से रह रहे हैं, लेकिन हमें यहां कीड़ों की तरह समझा जाता है."

वो चाहती हैं कि जैसे पूरे मुल्क में बीजेपी ने कई जगहों पर सरकार बनाई है तो मणिपुर में भी वैसा ही हो.

मणिपुर में क्यों गुस्से में हैं प्रदर्शनकारी?

आखिर क्यों हो रही है मणिपुर में हिंसा

सूबे में 2002 में राष्ट्रपति शासन के खत्म होने के बाद से कांग्रेस पार्टी सत्ता में मौजूद है इसलिए विकास का मुद्दा तो बड़ा है ही, बदलाव की बात भी कही जा रही है.

कई पोलिंग बूथ पर जब मैंने बात की तो लोगों ने चेंज की बात कही.

कांग्रेस की इबोबी सिंह सरकार के सात नए ज़िले बनाने के फ़ैसले को भी भाजपा ने मुद्दा बनाने की कोशिश की, लेकिन उससे पार्टी के लिए ख़ुद ही मुसीबत खड़ी हो गई है.

इबोबी चौथी बार बन पाएंगे मणिपुर के सीएम?

'किसी को मणिपुर की चिंता नहीं है'

नगा समूह यूनाइटेड नगा कांउसिल ने नवंबर से ही नगा इलाक़ों से गुज़रनेवाली सड़कों पर नाकेबंदी कर रखी है जिसका असर आम लोगों और अर्थव्यवस्था पर पड़ रहा है.

कांग्रेस कह रही है कि ये नाकेबंदी मोदी सरकार और नेशनल सोशलिस्ट काउंसिल आफ नगालैंड (आई-एम) की सांठ-गांठ से हो रही है. मोदी सरकार ने एनएससीएन (आई-एम) के साथ शांति समझौता किया था.

बीजेपी ने चुनावी घोषणा पत्र की जगह जो विज़न डोक्यूमेंट निकाला है उसमें मणिपुर से किसी भी क्षेत्र को अलग न करने का वादा सबसे पहला है.

नोटबंदी और नाकेबंदी की दोहरी मार झेलता इंफ़ाल

इमेज कॉपीरइट Narendra Modi, Facebook

एनएससीएन ग्रेटर नगालैंड बनाने के लिए दूसरे राज्यों के कई इलाक़ों पर दावा करती रही है. पार्टी इस मामले पर बैकफुट पर दिख रही है.

हाल के एक चुनावी घोषणाक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कहना पड़ा कि राज्य की अखंडता पर कोई ख़तरा नहीं आएगा.

सूबाई इकाई के बीजेपी अध्यक्ष के भाबनंद सिंह कहते हैं, "जब प्रधानमंत्री ने ख़ुद कहा है तो लोगों को तो भरोसा होना चाहिए. "

इमेज कॉपीरइट AFP

मणिपुर में बाक़ी बची सीटों पर आठ मार्च को मतदान होगा. तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके इबोबी सिंह थौबाल से मैदान में हैं. उनके खिलाफ़ इरोम हैं जिनकी नई पार्टी राजनीति के पुराने खिलाड़ी के लिए कोई ख़तरा नहीं बताई जा रही.

लेकिन शायद ये बात इबोबी सिंह सरकार के लिए फिलहाल कहना जल्दी होगी.

'मरने पर तुम्हें क़ब्र के लिए ज़मीन भी नहीं देंगे'

इरोम शर्मिला को ज़मानत मिली

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे