क्यों नहीं बिक रहा माल्या का किंगफिशर विला?

  • 6 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट Getty Images

भगोड़े घोषित किए गए कारोबारी विजय माल्या के मुंबई स्थित किंगफिशर हाउस और गोवा स्थित किंगफिशर विला के लिए सोमवार को लगी बोली में कोई भी ख़रीदार नहीं मिला.

ये दोनों माल्या की बंद हो चुकी किंगफिशर एयरलाइंस के दफ्तर हैं. पहले भी तीन बार इनकी नीलामी की कोशिश की गई थी, लेकिन तब भी किसी ने इन्हें ख़रीदने में दिलचस्पी नहीं दिखाई.

क्यों मुश्किल है विजय माल्या को भारत लाना?

बिहार पुलिस को भी चाहिए विजय माल्या

स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया की अगुवाई वाले कंसोर्टियम ने किंगफिशर को लगभग 9,000 करोड़ रुपए का कर्ज़ दिया था. बैंक इन संपत्तियों की नीलामी कर वसूली करना चाहते हैं.

नीलामी में ख़रीदार न मिलता देख इस बार मुंबई में विलेपार्ले स्थित किंगफिशर हाउस की रिज़र्व कीमत पिछली बार से 10 प्रतिशत कम रखी गई थी. पिछली बार रिज़र्व कीमत 115 करोड़ थी जो घट कर 103 करोड़ 50 लाख के करीब थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

विलेपार्ले में किंगफिशर हाउस की जगह 17000 वर्ग फुट के करीब है और हवाई अड्डे के पास होने की वजह से पहली नीलामी में रिजर्व कीमत 150 करोड़ के करीब रखी गई थी. लेकिन कोई खरीददार नहीं मिलने पर दूसरी नीलामी के लिए कीमत घटाकर 135 करोड़ रुपए कर दी गई थी.

इसके बावजूद नीलामी में हिस्सा लेने एक भी खरीददार नहीं आया था. बैंकों की ओर से एसबीआई कैपिटल नीलामी का जिम्मा उठा रहा है.

विजय माल्या कैसे बने 'किंग ऑफ़ बैड टाइम्स'

समाचार एजेंसियों ने स्टेट बैंक के अधिकारियों के हवाले से बताया, "किंगफिशर हाउस की लोकेशन बहुत अच्छी है, लेकिन अर्थव्यवस्था में अभी उछाल नहीं आया है और रियल एस्टेट बाज़ार भी बुरे दौर में है. इसके अलावा भारत में लोग ऐसी संपत्तियों को ख़रीदने से बचते हैं, जिनमें उन्हें किसी तरह के कानूनी पचड़ों की आशंका रहती है."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

दिसंबर में गोवा के किंगफिशर विला को भी नीलाम करने की प्रक्रिया अपनाई गई थी और तब इसकी रिजर्व कीमत 81 करोड़ थी, इस बार इसकी रिज़र्व कीमत में भी 10 फ़ीसद की कटौती कर 73 करोड़ रुपये रखा गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे