लखनऊ में मुठभेड़, 'चरमपंथी' को घेरा गया

इमेज कॉपीरइट VIVEK TRIPATHI

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एक संदिग्ध चरमपंथी को पकड़ने के लिए अभियान चलाया जा रहा है जिसके बाद वहाँ मुठभेड़ होने की ख़बर है.

मुठभेड़ शहर के ठाकुरगंज इलाक़े की हाजी कॉलोनी में हो रही है जो घनी आबादी वाला इलाक़ा है. वहाँ गोलीबारी होने से आस-पास दहशत का माहौल है.

उत्तर प्रदेश पुलिस का कहना है कि चरमपंथियों के बारे में एक औऱ प्रदेश से जानकारी मिलने के बाद कानपुर और लखनऊ में ऑपरेशन किया गया था.

बीबीसी से बात करते हुए यूपी पुलिस के प्रवक्ता राहुल श्रीवास्तव ने बताया, "हमें बाहरी एजेंसी से जानकारी मिली थी. कानपुर से फ़ैज़ान और इमरान नाम के दो संदिग्ध गिरफ़्तार किए गए हैं."

इमेज कॉपीरइट VIVEK TRIPATHI

लखनऊ के ऑपरेशन के बारे में उन्होंने बताया, "एक संदिग्ध की घेराबंदी की गई है. पुलिस गोलीबारी में संदिग्ध की मौत की रिपोर्टों ग़लत हैं. हमारा प्रयास उसे ज़िंदा पकड़ने का हैं."

राहुल श्रीवास्तव के मुताबिक लखनऊ में घेराबंदी में किए गए संदिग्ध का नाम सैफ़ुल है.

प्रदेश के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (क़ानून-व्यवस्था) दलजीत चौधरी के अनुसार पुलिस को इस इलाक़े में एक संदिग्ध चरमपंथी होने की गुप्त सूचना मिली थी जिसके बाद उसे पकड़ने के लिए पूरे क्षेत्र में घेराबंदी कर एक ऑपरेशन शुरु किया गया.

अधिकारी के अनुसार मुठभेड़ के दौरान जब सुरक्षाबलों ने फ़ायरिंग की तो जवाब में संदिग्ध चरमपंथी ने भी गोलियां दागनी शुरू कर दीं.

इसके बाद प्रदेश के आतंकवाद निरोधी दस्ते (एटीएस) को बुलाया गया.

विशेष दस्ते ने आकर इलाक़े की नाकेबंदी की और संदिग्ध को घेर लिया है.

दलजीत चौधरी के अनुसार अभी संदिग्ध के किसी निश्चित वाकये से संबंध होने की पड़ताल की जा रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे