यूपी: प्रचार में कौन रहा नंबर वन और कौन पिछड़ गया

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव इमेज कॉपीरइट SANJAY KANOJIA/AFP/Getty Images

आखिरी चरण के मतदान के साथ ही 11 फरवरी से शुरू हुआ उत्तर प्रदेश का चुनावी घमासान अब खत्म हो चुका है.

करीब 27 दिन तक चले चुनावों में नेताओं ने कितनी मेहनत की, इसका अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने संसदीय क्षेत्र बनारस में लगातार तीन दिन तक चुनावी रैलियां करते रहे.

बीबीसी के नाम पर झूठा इलेक्शन सर्वे

बनारस में रोड शो और चुनावी सभाएं करने के साथ जिस तरह से नरेंद्र मोदी ने घर-घर जाकर लोगों से वोट मांगे हैं, वैसा उदाहरण किसी प्रधानमंत्री के लिए इससे पहले नहीं दिखा है.

हर जगह वोट ही वोट

यूपी में वाराणसी समेत 40 सीटों पर मतदान

इमेज कॉपीरइट SANJAY KANOJIA/AFP/Getty Images

लेकिन प्रधानमंत्री ने यूपी चुनाव में अपना सबकुछ झोंक दिया हो, ऐसा उत्तर प्रदेश के सात चरणों के चुनावी प्रचार से जाहिर नहीं होता है.

मोर्चे पर पीएम

चार फरवरी को मेरठ में चुनावी सभा करने के साथ नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश में चुनावी अभियान की शुरुआत की और कुल 23 चुनावी सभाओं को उन्होंने संबोधित किया.

प्रधानमंत्री ने 11 ज़िलों में एक-एक सभाएं कीं, वहीं छह ज़िलों में उन्होंने दो-दो चुनावी सभा को संबोधित किया.

मोदी ने उत्तर प्रदेश की 403 सीटों की तुलना में महज 243 विधानसभा सीटों वाले बिहार में 36 चुनावी सभाएं की थीं, लेकिन वहां उनकी पार्टी को करारी हार का सामना करना पड़ा था.

"माता हमको कहते हो, प्रेरणा गधों से लेते हो?"

परंपरागत वोटों पर दाव कितना चल पाया यूपी चुनाव में?

इमेज कॉपीरइट CHANDAN KHANNA/AFP/Getty Images

वैसे उत्तर प्रदेश के चुनावी समर में सबसे ज़्यादा चुनावी सभाएं राज्य के मौजूदा मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कीं.

रैलियों का रेला

उन्होंने 24 जनवरी, 2017 को सुल्तानपुर से अपने चुनावी अभियान की शुरुआत की.

36 दिनों तक चुनावी प्रचार में अखिलेश ने 221 चुनावी सभाओं को संबोधित किया, औसतन हर दिन करीब छह सभाओं को उन्होंने संबोधित किया.

इसके अलावा अखिलेश यादव ने राहुल गांधी के साथ मिलकर समाजवादी पार्टी-कांग्रेस गठबंधन की ओर से लखनऊ, इलाहाबाद और वाराणसी में रोड शो भी किया.

'अखिलेश कैबिनेट में क्यों हैं गायत्री प्रजापति'

नज़रिया: क्या यूपी चुनाव में बीजेपी वाकई फ़ायदे में है?

इमेज कॉपीरइट Sanjay Kanojia/AFP/Getty Images

इतनी चुनावी सभा इस बार के चुनाव में किसी ने नहीं की, लेकिन अखिलेश अपने पिता मुलायम सिंह के 2012 के 300 चुनावी रैलियों के करीब तक नहीं पहुंच पाए.

स्टार प्रचारक

मुलायम सिंह ने इस बार समाजवादी पार्टी के लिए महज चार चुनावी सभाओं को संबोधित किया.

समाजवादी पार्टी की ओर से इस बार स्टार प्रचारक अखिलेश यादव की पत्नी और कन्नौज से पार्टी की सांसद डिंपल यादव साबित हुईं.

उन्होंने वाराणसी के रोड शो में अखिलेश और राहुल गांधी का साथ देने के अलावा कुल 33 चुनावी सभाएं कीं.

'मुझे गंगा मइया की सौगंध खाने की ज़रूरत है?'

वाराणसी में बीजेपी दिग्गजों का जमावड़ा क्यों?

इमेज कॉपीरइट MONEY SHARMA/AFP/Getty Images

राज्य में चुनावी सभा करने के मामले में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्या 150 चुनावी सभा के साथ दूसरे नंबर पर रहे.

चुनावी सभाएं

वहीं पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पूरे राज्य में 100 चुनावी सभाओं को संबोधित किया.

उत्तर प्रदेश से आने वाले और केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी 90 चुनावी सभाओं को संबोधित किया, जबकि योगी आदित्यनाथ ने भी 75 से ज़्यादा चुनावी रैलियों में हिस्सा लिया.

प्रचार के लिहाज से मायावती भी बहुजन समाज पार्टी की ओर से इकलौती स्टार प्रचारक थीं और उन्होंने पूरे राज्य में कुल 52 चुनावी सभाओं को संबोधित किया.

भाजपा के 'बुर्क़ा दांव' को चुनाव आयोग ने नकारा

'खाट ले गए, अब खटिया खड़ी करने की बारी'

इमेज कॉपीरइट Dimple Yadav Facebook

एक दो दिन को अपवाद मान लें तो मायावती ने औसतन हर दिन दो सभाओं को संबोधित किया.

रोड शो

कांग्रेस पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने लखनऊ, इलाहाबाद और वाराणसी में अखिलेश के साथ रोड शो करने के अलावा कुल 45 जन सभाओं को संबोधित किया.

पार्टी की ओर से सबसे ज्यादा 65 चुनावी सभाएं, प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर ने की.

राज्य के प्रभारी और राज्यसभा में पार्टी के नेता गुलाम नबी आज़ाद ने कुल 45 चुनावी सभाओं को संबोधित किया.

'यूपी को पप्पू और गप्पू की जोड़ी पसंद नहीं'

योगी और मुख़्तार के पूर्वांचल में पार्टियों की परीक्षा

इमेज कॉपीरइट RAVEENDRAN/AFP/Getty Images

हालांकि चुनावी समर शुरू होने से पहले माना जा रहा था कि प्रियंका गांधी समाजवादी पार्टी-कांग्रेस गठबंधन की ओर से स्टार प्रचारक होंगी, लेकिन उन्होंने महज दो चुनावी सभाओं को संबोधित किया.

वेस्ट यूपी

इस चुनाव में राष्ट्रीय लोकदल अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहा था, लिहाजा अजित सिंह ने काफी चुनाव प्रचार किया और पूरे राज्य में उन्होंने कुल 96 चुनावी सभाओं को संबोधित किया, जिसमें 42 चुनावी सभाएं उन्होंने अपने गढ़ पश्चिमी उत्तर प्रदेश में कीं.

बहरहाल, अब सबकी नजरें अब 11 मार्च को आने वाले चुनावी नतीजों पर टिक गई हैं, उसी दिन ये तय होगा कि किसकी मेहनत रंग लाई और किसका जादू फीका पड़ा है.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
उत्तर प्रदेश के अमेठी विधानसभा सीट पर ताल ठोक रही हैं भूपति महल में रहने वाली दो रानियां.

प्रजापति पब्लिक को दिखते हैं, पुलिस को नहीं

नारियल जूस पर कौन ग़लत - राहुल या मोदी

'राहुलजी ने तो नारियल से जूस निकाल दिया'

मोदी के ख़िलाफ़ मुहिम छेड़ने का लालू का वादा, और सच

पहला वोटर धोबी, फिर 'राजा-रानी', अंत में 'प्रजा'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)