प्रेस रिव्यू- भजन गाने वाली मुस्लिम महिला ट्रोलिंग का शिकार

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमर उजाला की एक खबर है कि बेंगलुरू की में कन्नड़ रिएलिटी शो में भजन गाकर एक मुस्लिम युवती कट्टरपंथियों के निशाने पर आ गई है. सोशल मीडिया के ज़रिए उन पर लगातार हमले किए जा रहे हैं.

फेसबुक पर 'मैंगलोर मुस्लिम' नाम के ग्रुप ने एक पोस्ट डालकर सुहाना सईद पर समुदाय की छवि ख़राब करने का आरोप लगाया है.

पोस्ट में कहा गया है कि ' यह मत सोचना कि तुमने इस मंच पर दूसरे धर्म के मर्दों के सामने गाना गाकर और जजों की तारीफ़ हासिल करके कोई बड़ उपलब्धि पा ली है.

अख़बार लिखता है कि इस शो में हिस्सा लेने देने के लिए सुहाना के माता-पिता को भी कोसा गया है. लिखा है कि ' तुमने जहन्नुम का रास्ता चुना है. लेकिन तुम दूसरों को बर्बादी के लिए क्यों उकसा रहे हो.'

इमेज कॉपीरइट ROHIT GHOSH

हिन्दुस्तान टाइम्स ने उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में बुधवार को मारे गए कथित चरमपंथी सैफुल्लाह को हेडलाइन बनाया है और लिखा है 'आईएस है या नहीं. केन्द्र यूपी पुलिस से नाराज़.'

इसमें लिखा है कि बुधवार सुबह मारे गए सैफुल्लाह को लेकर यूपी और मध्यप्रदेश की पुलिस बहुत जल्दी नतीजों पर पहुंच गई थी. जबकि अभी कई सवालों के जवाब नहीं मिले हैं.

अखबार ने गृहमंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के हवाले से लिखा है '' दोनों राज्यों की अधिकारियों को समय से पहले टिप्पणी देने से पहले संयम बरतना चाहिए था. हम पहले भोपाल-उज्जैन ट्रेन में हुए विस्फोटों की जांच सकते थे और बाद में गिरफ्तारी कर सकते थे.''

इमेज कॉपीरइट UP POLICE

वहीं इसी ख़बर पर इंडियन एक्सप्रेस ने लिखा है कि पुलिस शूटआउट में मारे गए चरमपंथी सैफुल्लाह को एक साल पहले चरमपंथी संगठन आईएस से प्रेरित एक चरमपंथी संगठन का मिलिट्री हेड बनाया गया था.

पिछले साल एक संदिग्ध ने पिछले साल फरवरी में एनआईए को पूछताछ में इस बारे में बताया था. पुलिस और खुफिया एजेंसियों को इसकी जानकारी थी.

दस्तावेज़ बताते हैं सैफुल्लाह को यूपी में नए इस्लामिक स्टेट सेल के लिए हथियार जमा करने और ट्रेनिंग का काम सौंपा गया था. और उनपर कई महिनों तक ऑनलाइन सर्विंलांस भी था. लेकिन सूत्रों के मुताबिक प्रयासों ने गति खो दी.

इमेज कॉपीरइट ASHUTOSH TRIPATHY

वहीं हिन्दुस्तान ने लिखा है कि सैफुल्लाह ट्रेनों को उड़ाना चाहता था. उसकी और अन्य चरमपंथियों की चुनाव बाद होली के आसपास ट्रेनों में सीरियल ब्लास्ट करने की साज़िश थी ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को नुकसान पहुंचाया जाए.

अख़बार लिखता है कि कानपुर व इटावा से गिरफ्तार चरमपंथियों ने बताया कि खुरासान मॉड्यूल को लखनऊ व कानपुर में बेस बनाकर शातिर चरमपंथी जीएम ख़ान उर्फ गौस मुहम्मद ख़ान चला रहा था, उसने गुट में सैफुल्लाह समेत दो दर्जन से ज़्यादा लोगों को शामिल किया था.

जनसत्ता ने भारत में आतंकी हमलों की साजिश में अमरीका में एक भारतीय को 15 साल की सज़ा की खबर को पहले पन्ने पर जगह दी है.

खालिस्तान आंदोलन को दस्तावेज़ और संसाधन मुहैया करवाकर भारत में आतंकी हमलों की साज़िश रचने के लिए अमरीका में 42 साल के एक भारतीय नागरिक बलविंदर सिंह को 15 साल की सज़ा सुनाई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)