बाप-दादी ने ली अपने ही मासूम बच्चों की जान

इमेज कॉपीरइट Ravinder singh robin

पंजाब के बठिंडा के गांव में दो बच्चों की सनसनीखेज़ हत्या का मामला सामने आया है.

घटना कोटफत्ता गांव की है जहाँ कथित तौर पर दादी ने अपने बेटे के साथ मिलकर अपने पोते और पोती की बलि चढ़ा दी.

बठिंडा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक स्वपन शर्मा ने बताया कि बच्चों के पिता कुलविंदर सिंह ने अपनी माँ निर्मल कौर के साथ मिलकर अपने बच्चों को करंट लगाने के बाद उनके मुंह में जबरन कांच ठूस दिया.

बच्चों की मौत की ख़बर से गांव वाले इकट्ठा हो गए और अभियुक्तों को गिरफ़्तार करने के लिए पुलिस को बुला लिया.

दोनों अभियुक्तों को गिरफ़्तार कर लिया गया है.

झारखंड: डायन के नाम पर हत्याएं थम नहीं रही

डायन बता कर महिला का सिर काटा

अभियुक्तों के रिश्तेदार लाभ सिंह ने दावा किया कि पिछले चार-पांच दिनों से इनके घर में झगड़े का माहौल चल रहा था.

उनके अनुसार, चार पांच दिन पहले इनके घर एक तांत्रिक आया था. उस वक्त इनके घर से ढोल के बजने की आवाज़ सुनाई पड़ी थी.

लाभ सिंह का दावा है कि तांत्रिक कालांवाली (सिरसा) का रहने वाला है और उसी की वजह से यह सब हुआ है.

इमेज कॉपीरइट Ravinder singh robin

उन्होंने बताया, "बीती रात जब मैं इनके घर गया तो इन्होंने बच्चों का गला दबाकर, मुंह में कांच के बल्ब डालकर मार डाला था और एक दूसरे से गाली गलौच कर रहे थे."

उन्होंने बताया, "मारे जाने वाले बच्चों में पांच साल का एक लड़का और तीन साल की एक लड़की है."

स्कूल में 'डायन' के बारे में पढ़ेंगे बच्चे

बठिंडा के एसएसपी स्वपन शर्मा ने बताया कि बच्चों के दादी की दिमागी हालत ठीक नहीं थी और वो अपने पोते और पोती में भूत प्रेत का साया होने की बात को लेकर तांत्रिकों के पास जाती रहती थी.

पुलिस का दावा है कि यह बुजुर्ग औरत अपने बेटे के साथ मिलकर तीन चार दिनों से बच्चों को बिजली के झटके दे रही थी.

बच्चों के दादा मुख्तार सिंह घर से बाहर रहते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे