मैटरनिटी लीव अब होगी 26 हफ़्ते, बिल पास

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

भारत में कामकाजी महिलाओं की मैटरनिटी लीव को 12 हफ़्ते से बढ़ाकर 26 हफ़्ते किए जाने के प्रस्ताव को संसद ने मंज़ूरी दे दी है. इसके बाद इसे क़ानून बनाए जाने की

गुरुवार को लोकसभा ने इस विधेयक को पारित कर दिया. ये विधेयक राज्यसभा में पहले ही पास हो चुका है.

इससे संगठित क्षेत्रों में काम करने वाली करीब 18 लाख महिलाओं को फ़ायदा मिलेगा.

मैटरनिटी बेनिफ़िट (संशोधित) 2016 की मुख्य बातें

  • पहले और दूसरे बच्चे के लिए 26 हफ्ते की मैटरनिटी लीव मिल सकेगी, जो पहले 12 हफ्ते थी.
  • तीसरे या इससे ज्यादा बच्चों के लिए 12 हफ्ते की छुट्टी का ही प्रावधान रहेगा.
  • तीन महीने से कम उम्र के बच्चों को गोद लेने वाली या सेरोगेट माँओं को भी 12 हफ़्ते की छुट्टी दी जाएगी.
  • 50 से ज़्यादा कर्मचारियों वाले दफ्तर के आसपास क्रेच का इंतज़ाम करना होना, जहां माँएं काम के घंटों के दौरान चार बार अपने बच्चे से मिलने जा सकेंगीं.
  • अगर संभव हो तो कंपनी महिलाओं को घर से ही काम करने की अनुमति दे सकती है.
  • हर प्रतिष्ठान को उनकी नियुक्ति के समय से महिलाओं को इन लाभों को देना होगा.

'छुट्टी बढ़ाने से कामकाजी औरतों की तादाद बढ़ेगी'

'मुझे भी लंबी पैटरनिटी लीव दें, मेनका जी'

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

पिछले साल अगस्त में राज्य सभा में बिल पास होने के बाद केंद्रीय श्रम और रोज़गार मंत्री बंडारू दत्तात्रेय ने बताया था कि बिल के कानून बनने के बाद गर्भवती महिलाओं को मिलने वाली छुट्टी के मामले में भारत दुनिया में तीसरे नंबर पर आ जाएगा.

भारत से ज्यादा छुट्टी सिर्फ कनाडा और नॉर्वे में दी जाती है. कनाडा में 50 हफ्ते और नॉर्वे में 44 हफ्ते का अवकाश मिलता है.

इमेज कॉपीरइट Pib

महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने देश की लाखों महिलाओं मांग को उठाने और राज्यसभा और लोकसभा में में बिल को पेश करने के लिए श्रम और रोज़गार मंत्री बंदारू दत्तात्रेय को धन्यवाद दिया.

मेनका गांधी ने उन महिलाओं को बधाई दी जो बच्चे के जन्म की योजना बना रही हैं और कहा कि महिला एवं बाल विकास मंत्रालय महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए काम जारी रखेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे