बुरा न मानो होली है

  • 12 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट Rohit ghosh

कानपुर में लोग होली के कई दिन पहले से ही रंगों में सराबोर होने लगते हैं.

ऐसा नहीं है की मथुरा की तरह कानपुर के लोग भी होली से पहले ही विधिवत तरीके से होली खेलना शुरू कर देते हैं.

दरअसल बात ऐसी है कि उत्तर प्रदेश में रंग का सबसे बड़ा कारोबार हाथरस में है. उसके बाद कानपुर का ही स्थान आता है.

इमेज कॉपीरइट Rohit ghosh

कानपुर के बीचों-बीच बसे जो पुराने मोहल्ले हैं, वहां पर जनवरी के महीने से ही रंग बनाने का काम एक कुटीर उद्योग की तरह शुरू हो जाता है.

होली में इस्तेमाल होने वाले रंग के कारोबारी ताराचंद जयसवाल कहते हैं, "रंग डाई से बनाया जाता है. पूरे भारत में डाई का केंद्र अहमदाबाद है. हम लोग डाई वहीं से खरीदते हैं. डाई की औसत क़ीमत एक हज़ार रूपये प्रति किलो होती है."

इमेज कॉपीरइट Rohit ghosh

ताराचंद जयसवाल बताते हैं, "एक ड्रम में डाई और पानी मिलाया जाता है और फिर उसमें अरारोट या ग्लूकोज डाला जाता है. फिर उस घोल को धूप में कम से कम दो दिन तक सुखाया जाता है. घोल पाउडर की शक्ल ले लेता है. उस रंग को छन्नी से छान से साफ़ किया जाता है."

इमेज कॉपीरइट Rohit ghosh

कानपुर होली महोत्सव के महासचिव ज्ञानेंद्र विश्नोई कहते हैं, "पूरे उत्तर प्रदेश हाथरस के बाद कानपुर में होली के रंग का सबसे बड़ा कारोबार है. और कानपुर में रंगों की सबसे बड़ी मंडी हटिया है."

हटिया कानपुर का पुराना इलाका है. पतली सड़कें है और दोनों तरफ़ कई मंज़िलों की इमारतें.

इमेज कॉपीरइट Rohit ghosh

विश्नोई कहते हैं, "हटिया के करीब करीब हर छत पर रंग बनाने का काम जनवरी के महीने से ही शुरू हो जाता है. होली पास आते ही काम ज़ोर पकड़ लेता है. छत पर रंग सूख रहा होता है और हवा चलने पर रंग उड़ कर घरों के अंदर चला जाता है. ये सुखाने के लिए डाले गए गीले कपड़ों पर भी गिरता है. छतों पर ही रंगों की पैकिंग होती है."

इमेज कॉपीरइट Rohit ghosh

विश्नोई खुद भी हटिया में ही रहते हैं.

वो कई सालों से मांग कर रहे हैं कि रंग बनाने का काम हटिया और उसके आसपास के इलाकों में बंद किया जाए.

वो कहते हैं, "मेरी वजह से कुछ रंग कारखाने हटिया से बाहर गए हैं."

इमेज कॉपीरइट Rohit ghosh

पर होली के साथ एक वाक्य भी जुड़ा है- बुरा न मानो होली है.

इसलिए कानपुर में अगर किसी के कपड़ों पर होली से पहले रंग पड़ भी जाता है तो वह बुरा नहीं मानता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)