कहां किसकी प्रतिष्ठा दांव पर

इमेज कॉपीरइट TWITTER

पांच राज्यों में कुल सात चरणों में हुए मतदान के बाद अब सबकी नज़रें परिणामों पर हैं.

इन चुनावों में कई दिग्गज नेताओं की प्रतिष्ठा दांव पर है.

उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी, भाजपा और बहुजन समाज पार्टी के बीच कांटे की टक्कर है.

उत्तर प्रदेश में कुल 403 सीटें हैं और बहुमत के लिए 202 का आंकड़ा पार करना होगा.

इन चुनावों में जहां सपा के अखिलेश की प्रतिष्ठा दांव पर है वहीं बीजेपी की तरफ से योगी आदित्यनाथ, केशव प्रसाद मौर्या से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी प्रतिष्ठा दांव पर है क्योंकि उन्होंने बाकी राज्यों की तुलना में यूपी में सबसे अधिक रैलियां की.

हां मायावती की बसपा का भविष्य भी इन चुनावों पर निर्भर करता है.

पंजाब

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK

पंजाब के उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल के सामने आम आदमी पार्टी के सांसद भगवंत मान हैं. दूसरी ओर कांग्रेस ने युवा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह के पोते और सांसद रवनीत सिंह बिट्टू हैं.

सुखबीर 2009 के उपचुनाव में जलालाबाद सीट जीतने के बाद से ही वहाँ से विधायक हैं तो बाकी दोनों के लिए मैदान नया है.

पंजाब की लांबी विधान सभा सीट से मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल पांचवीं बार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं.

वैसे तो यह विधानसभा की सीट बठिंडा संसदीय क्षेत्र में आती है जहाँ से बड़े बादल की बहू हरसिमरत कौर बादल सांसद हैं.

पंजाब में 117 सीटें हैं और बहुमत के लिए बहुमत के लिए किसी भी पार्टी को 59 सीटों का आंकड़ा छूना होगा.

फिर छाएँगे बादल या बढ़ेगा भगवंत का मान ?

सत्ता विरोधी लहर का नाम सुखबीर तो नहीं ?

उत्तराखंड

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हरीश रावत इस पार दो जगहों किच्छा और हरिद्वार ग्रामीण से चुनाव लड़ रहे हैं. जबकि कांग्रेस के किशोर उपाध्याय और दिग्गज नेता इंदिरा हृदयेश भी मैदान में हैं.

बीजेपी की तरफ से मदन कौशिक, स्वामी यतिश्वरानंद, सतपाल महाराज, हरक सिंह रावत, अजय भट्ट, यशपाल आर्य और सौरभ बहुगुणा क़िस्मत आजमा रहे हैं.

चुनाव की घोषणा के बाद टिकट न मिलने पर दोनों ही पार्टियों के बहुत सारे नेता बाग़ी हुए और प्रतिद्वंद्वी पार्टी में जा शामिल हुए.

ऐसे में ये देखना दिलचस्प होगा कि कौन कहां बाजी मारता है.

70 विधानसभा सीटों वाले उत्तराखंड में बहुमत के लिए 36 सीटों का आंकड़ा चाहिए.

उत्तराखंड: बाग़ियों से कितनी मुसीबत में बीजेपी-कांग्रेस?

हाइकमान के रिमोट से फिर चलेगा उत्तराखंड?

मणिपुर

इमेज कॉपीरइट IMPHAL FREE PRESS

इबोबी सिंह के थौबाल चुनाव क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे हैं और उनके विरोध में हैं भारतीय जनता पार्टी के बसंत सिंह और पीआरजेए की इरोम शर्मीला.

इरोम शर्मिला ने जब अपनी 16 साल लंबी भूख हड़ताल तोड़ने के बाद राजनीतिक दल बनाने का ऐलान किया तो साथ-साथ ये भी कहा कि वो मुख्यमंत्री बनना चाहती हैं.

एम गैखनगम प्रदेश के उप मुख्यमंत्री हैं. वो सूबे के गृह मंत्री भी हैं और नुंगबा चुनाव क्षेत्र से फिर से क़िस्मत आज़मा रहे हैं. उनका ताल्लुक़ रोंगमइ समुदाय से है.

पांच बार लगातार साएकोट से विधायक रह चुके हाओकिप इस बार फिर से मैदान में हैं. वो प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भी हैं.

मणिपुर में 60 सीटें हैं और बहुमत के लिए 31 सीटें जरूरी हैं.

मणिपुर में दूसरे चरण के चुनाव के चार अहम चेहरे

गोवा

इमेज कॉपीरइट PTI

गोवा में आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार एल्विस गोम्स हैं.

बीजेपी ने गोवा विधानसभा चुनाव लक्ष्मीकांत पारसेकर के नेतृत्व में लड़ा गया था.

वर्तमान में वो मेंड्रम विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं और इसी सीट से चुनाव में उतरे हैं.

पारसेकर को मनोहर पर्रिकर के केंद्रीय मंत्री बनने के बाद नवंबर, 2014 में गोवा का मुख्यमंत्री बनाया गया था.

गोवा में 40 सीटें और बहुमत के लिए 21 सीटें चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे