वो दिग्गज जिन्हें हार का मुंह देखना पड़ा

इमेज कॉपीरइट PTI FACEBOOK IMPHAL FREE PRESS

पांच विधानसभा चुनावों में जहां पार्टियों को अप्रत्याशित नतीजों का सामना करना पड़ा, वहीं चुनावी मैदान में उतरे कई दिग्गज नेताओं को हार का मुंह देखना पड़ा है.

जबकि पार्टियों की अंदरूनी कलह भी सामने आ रही है. जसवंत नगर सीट से समाजवादी पार्टी के नेता शिवपाल यादव जीत गए. उन्होंने कहा है कि अखिलेश का घमंड समाजवादी पार्टी की हार का कारण बना.

उन्होंने मीडिया से कहा, "लोगों ने नेताजी और मेरे अपमान का बदला लिया है."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

बड़ी खबर उत्तराखंड से आई, जहां हरिद्वार ग्रामीण सीट और किच्छा, दोनों जगहों से मुख्यमंत्री हरीश रावत हार गए. किच्छा सीट पर वो भाजपा के राजेश शुक्ला से बेहद कम वोटों से हार गए.

उत्तराखंड में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट को हार का सामना करना पड़ा. रानीखेत सीट से उनके विरोधी कांग्रेस के करण महारा की जीत हुई है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

गोवा के मुख्यमंत्री लक्ष्मीकांत पारसेकर को भी हार का मुंह देखना पड़ा है. मनोहर पर्रिकर के केंद्रीय मंत्री बनने के बाद नवंबर, 2014 में पारसेकर को गोवा का मुख्यमंत्री बनाया गया था.

गोवा के पूर्व सीएम कांग्रेस के दिगंबर कामत मार्गाओ सीट से जीते हैं.

मणिपुर में अपनी नई पार्टी बनाकर चुनाव लड़ने वाली इरोम शर्मिला को भी मुख्यमंत्री इबोबी सिंह के सामने हार का मुंह देखना पड़ा.

हार के बाद उन्होंने कहा, "मैं किसी तरह के चुनाव लड़ना नहीं चाहती."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पंजाब में पटियाला शहर की सीट कांग्रेस के खाते में गई, यहां से कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आम आदमी पार्टी के नेता बलबीर सिंह को हराया है.

लेकिन लांबी सीट पर उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा है. उन्हें प्रदेश के मौजूदा मुख्यमंत्री अकाली दल के प्रकाश सिंह बादल ने हरा दिया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

जबकि दल बदल कर बीजेपी में गईं रीता बहुगुणा जोशी ने उत्तर प्रदेश के लखनऊ कैंट सीट से जीत हासिल की. उन्होंने मुलायम सिंह यादव की बहू अपर्णा यादव को तीस हज़ार से अधिक वोटों से हराया.

वो कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष थीं और चुनावों से पहले बीजेपी में शामिल हो गई थीं.

मऊ से बहुजन समाज पार्टी के मुख्तार अंसारी बड़े अंतर से जीते.

इमेज कॉपीरइट PTI

बीते साल मायावती को अपशब्द कहने के बाद चर्चा में आए भीजपा नेता दयाशंकर की पत्नी स्वाति सिंह सरोजिनी नगर से जीत गई हैं. दयाशंकर को भाजपा ने पहले प्रदेश उपाध्यक्ष पद से और फिर उसके बाद पार्टी से निष्कासित कर दिया था.

यूपी में बीजेपी का महिला चेहरा बन पाएंगी स्वाति सिंह?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे