वो दलबदलू जिन्होंने चांदी काटी

  • 11 मार्च 2017
नवजोत सिंह सिद्धू इमेज कॉपीरइट Twitter

इन विधानसभा चुनावों में दलबदलुओं की चांदी रही. जिन्होंने अपनी पूर्व पार्टी को छोड़ दूसरी पार्टी का दामन थामा और उन्हें जीत भी मिली.

यह पंजाब, उत्तराखंड से लेकर उत्तर प्रदेश तक में देखने को मिला. हम आपको वैसे प्रत्याशियों के बारे में बता रहे हैं जिन्होंने दल बदलने के बाद जीत हासिल की.

नवजोत सिंह सिद्धू

चुनाव के ठीक पहले सिद्धू ने कांग्रेस का दामन थामा था. बीजेपी से नाराज़गी के बाद सिद्धू के आम आदमी पार्टी के साथ आने की चर्चा थी लेकिन आख़िर में वह कांग्रेस के साथ गए.

"खिसियानी बहनजी ईवीएम नोचे"

भाजपा की जीत पर क्या बोले मुसलमान?

मोदी और अमित शाह से बड़े इवेंट मैनेजर नहीं हैं पीके

सिद्धू ने कांग्रेस के टिकट पर अमृतसर विधानसभा से चुनाव लड़ा और वह जीतने में कामयाब रहे. पंजाब में कांग्रेस को बहुमत मिला है.

रीता बहुगुणा जोशी

इमेज कॉपीरइट Twitter
Image caption रीता बहुगुणा जोशी

रीता बहुगुणा जोशी उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की कद्दावर ब्राह्मण नेता मानी जाती थीं लेकिन चुनाव से ठीक पहले वह पार्टी छोड़ बीजेपी में शामिल हो गई थीं.

जोशी ने बीजेपी के टिकट पर लखनऊ कैंट से चुनाव लड़ा और वह जीतने में कामयाब रहीं. रीता ने मुलायम की छोटी बहू अपर्णा यादव को हराया.

स्वामी प्रसाद मौर्य

इमेज कॉपीरइट Twitter
Image caption स्वामी प्रसाद मौर्य

स्वामी प्रसाद मौर्य उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी में पिछड़ी जाति के बड़े नेता थे. वह उत्तर प्रदेश विधानसभा में बहुजन समाज पार्टी की तरफ से नेता प्रतिपक्ष भी रहे.

चुनाव के ठीक पहले मौर्य ने बहुजन समाज पार्टी को छोड़ बीजेपी का दामन थाम लिया था. और चुनाव से पहले बसपा छोड़ बीजेपी आने का फैसला सही साबित हुआ.

उन्होंने पडरौना से बीजेपी को जीत दिलाई. हालांकि ऊंचाहार से उनके बेटे उत्कर्ष मौर्य समाजवादी पार्टी प्रत्याशी मनोज कुमार पांडे से हार गए.

सौरभ बहुगुणा जोशी

इमेज कॉपीरइट facebook
Image caption सौरभ बहुगुणा जोशी

सौरभ बहुगुणा जोशी उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा जोशी के छोटे बेटे हैं.

अपने पिता की बीजेपी में एंट्री के साथ ही उनका भी बीजेपी में आगमन हो गया था.

बीजेपी ने सौरभ को उत्तराखंड में सितारगंज से टिकट दिया था. सौरभ इस सीट से जीत चुके हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)