नज़रिया- 'नीतीश कुमार आज ख़ुश तो बहुत होंगे!'

  • 12 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट Reuters

उत्तर प्रदेश के चुनावी नतीजे बिहार की राजनीति में भी नए रंग दिखाने लगे हैं.

यहां सत्ताधारी गठबंधन के साझेदार तीन दलों में से दो दल मायूसी की मुद्रा में हैं. लेकिन तीसरा दल अंदर से प्रसन्न है.

इस बाबत राष्ट्रीय जनता दल (राजद) और कांग्रेस की निराशा सबकी समझ में आ रही है. लेकिन, ख़बर तो जनता दल यूनाइटेड (जदयू) की अंतर्मुखी प्रसन्नता में छिपी है.

विधानसभा चुनाव नतीजे: जानिए किसे कितनी सीटें मिलीं

विधानसभा चुनाव 2017

इमेज कॉपीरइट Reuters

माना जाता है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की नज़र आगामी लोकसभा चुनाव और प्रधानमंत्री की कुर्सी पर है.

यह तय था कि अगर अखिलेश यादव जीत जाते, तो निश्चित रूप से नीतीश कुमार पर भारी पड़ जाते.

तब लालू प्रसाद यादव की भी ताक़त नीतीश के साथ नहीं, अखिलेश के साथ जुड़ जाती.

मोदी और अमित शाह से बड़े इवेंट मैनेजर नहीं हैं पीके

इमेज कॉपीरइट AFP

इतना ही नहीं, यूपी में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की पराजय हो जाती, तो राष्ट्रीय स्तर पर बीजेपी विरोधी मोर्चे का नेतृत्व अखिलेश-राहुल रूपी युगल जोड़ी के हाथों मे चला जाता.

इधर बिहार में भी यादव-मुस्लिम वोटबैंक वाले लालू ख़ेमे का मनोबल इतना बढ़ जाता कि नीतीश उसके और अधिक दबाव में रहते.

अब सोचकर देखिए कि इतने सारे ख़तरों से बचे नीतीश कुमार का अंदर से प्रसन्न होना स्वाभाविक है या नहीं !

इमेज कॉपीरइट PTI

नीतीश के विश्वस्त प्रशांत किशोर ही थे, जिन्होंने अखिलेश को मुलायम से अलग करने, समाजवादी पार्टी (सपा) और कांग्रेस में गठजोड़ कराने और कई अन्य सलाहों में कथित तौर पर मुख्य भूमिका निभाई.

परिणाम बताते हैं कि उनके ये तमाम दांव उल्टे पड़ गए.

इस बात में काफ़ी दम है कि अखिलेश-राहुल के सलाहकारों ने उन्हें सांप्रदायिक ध्रुवीकरण से बचाया नहीं, बल्कि उसमें फंसाया.

नरेंद्र मोदी पर गदहे वाले कटाक्ष की आख़िर क्या ज़रूरत थी? सपा-कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के कई तीखे बोल मोदी को सहानुभूति के रूप में सहारा दे गए.

'लालटेन लेकर खोज रहे हैं कहां है क्योटो?'

लालू प्रसाद के भाषणों का भी इसमें नकारात्मक योगदान रहा.

यह भी ग़ौरतलब है कि लालू ख़ेमे ने यूपी चुनाव प्रचार से नीतीश की बेरुख़ी को बीजेपी का परोक्ष समर्थन बताया.

राजद के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने सीधा हमला करते हुए कहा,''नीतीश कुमार ने सपा-कांग्रेस के ख़िलाफ़ बीजेपी को मदद पहुँचाने जैसी भूमिका निभाई.''

वो दलबदलू जिन्होंने चांदी काटी

'मोदी की ऐसी लहर थी, पर दिखाई नहीं दी'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

राजद का मानना है कि अगर नीतीश चाहते तो यूपी चुनाव में कुर्मी समाज को बीजेपी की तरफ़ जाने से रोक सकते थे.

मोदी ने 2019 की दौड़ में बाकियों को पछाड़ दिया?

अब होगा ये कि नीतीश कुमार अपने लिए दो सियासी विकल्पों पर आगे बढेंगे.

एक यह कि बीजेपी की ताज़ा बढ़त से ख़ौफ़ खाए विपक्षियों में ख़ुद के लिए बड़ी जगह तलाशेंगे.

दूसरी बात कि ऐसा नहीं होने पर बीजेपी से अपने टूटे रिश्ते फिर जोड़कर सत्ता-राजनीति में बने रहेंगे.

यूपी के चुनावी नतीजे ने बिहार में बदरंग पड़ी बीजेपी में भी नए रंग और उमंग का संचार किया है.

ज़ाहिर है कि यहां सत्तारूढ़ महागठबंधन के ख़िलाफ़ मुहिम चलाने में सुस्त पड़ी बीजेपी अब सक्रिय हो जाएगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)