जब 16 साल की लड़की को दिल दे बैठे थे जिन्ना

  • 13 मार्च 2017
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
वो शादी जिसने भारत को हिला दिया

जब नाश्ते की मेज़ पर मुंबई के बड़े रइसों में से एक सर दिनशॉ पेटिट ने अपने प्रिय अख़बार बॉम्बे क्रॉनिकल का आठवाँ पन्ना खोला तो एक ख़बर पर नज़र पड़ते ही अख़बार उनके हाथों से नीचे गिर गया.

तारीख़ थी 20 अप्रैल, 1918 और ख़बर थी कि पिछली शाम मोहम्मद अली जिन्ना ने सर दिनशॉ की बेटी लेडी रति से शादी कर ली. कहानी शुरू हुई थी दो साल पहले जब सर दिनशॉ ने अपने दोस्त और वकील मोहम्मद अली जिन्ना को दार्जिलिंग आने की दावत दी थी.

वहाँ पर दिनशॉ की 16 साल की बेटी रति भी मौजूद थीं, जिनका शुमार उस ज़माने में मुंबई की सबसे हसीन लड़कियों में हुआ करता था. जिन्ना उन दिनों भारतीय राजनीति के शिखर को छूने के बिल्कुल करीब थे.

हालाँकि उस समय उनकी उम्र 40 साल की थी, लेकिन दार्जिलिंग की बर्फ़ से ढकी ख़ामोश चोटियों और रति के बला के हुस्न ने ऐसा समा बाँधा कि रति और जिन्ना एक दूसरे के प्रेम पाश में गिरफ़्तार हो गए.

टैगोर और विक्टोरिया के प्रेम का वो अफ़साना

जब उर्दू ने करवाया मुल्क का बंटवारा

इमेज कॉपीरइट PAKISTAN NATIONAL ARCHIVE

उन्होंने उसी यात्रा के दौरान सर दिनशॉ पेटिट से उनकी बेटी का हाथ माँग लिया. 'मिस्टर एंड मिसेज़ जिन्ना- द मैरेज दैट शुक इंडिया' की लेखिका शीला रेड्डी बताती हैं, "दार्जिलिंग मे ही एक बार रात के खाने के बाद जिन्ना ने सर दिनशॉ से सवाल किया कि दो धर्मों के बीच शादी के बारे में वो क्या सोचते हैं?"

जिन्ना की पेशकश

रति के पिता ने छूटते ही जवाब दिया कि इससे राष्ट्रीय एकता कायम करने में मदद मिलेगी. अपने सवाल का इससे अच्छा जवाब तो ख़ुद जिन्ना भी नहीं दे सकते थे. उन्होंने एक लफ़्ज़ भी ज़ाया न करते हुए दिनशॉ से कहा कि वो उनकी बेटी से शादी करना चाहते हैं.

जिन्ना की इस पेशकश से दिनशॉ गुस्से से पागल हो गए. उन्होंने उनसे उसी वक्त अपना घर छोड़ देने के लिए कहा. जिन्ना ने इस मुद्दे पर पूरी शिद्दत से पैरवी की, लेकिन वो दिनशॉ को मना नहीं सके.'

दो धर्मों के बीच दोस्ती का उनका फ़ॉर्मूला पहले ही परीक्षण में नाकामयाब हो गया. इसके बाद दिनशॉ ने उनसे कभी बात नहीं की और रति पर भी पाबंदी लगा दी कि जब तक वो उनके घर में रह रही हैं, वो जिन्ना से कभी नहीं मिलेंगी.

पेश किया था पहला बजट, बाद में बने पाक पीएम

अब गांधी की तस्वीरों वाली चप्पल पर विवाद

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
जिन्ना का सवाल सीधा सा था और रति के पिता का जवाब भी उतना ही सपाट.

और तो और उन्होंने अदालत से भी आदेश ले लिया कि जब तक रति वयस्क नहीं हो जातीं, जिन्ना उनसे नहीं मिल सकेंगे. लेकिन इसके बावजूद जिन्ना और रति न सिर्फ़ एक दूसरे से चोरी छिपे मिलते रहे बल्कि एक दूसरे को ख़त भी लिखते रहे.

18 साल की रति

शीला रेड्डी बताती हैं, 'एक बार दिनशॉ ने रति को एक ख़त पढ़ते हुए देखा. वो ज़ोर से चिल्लाए कि इसे ज़रूर जिन्ना ने लिखा है. वो रति को पकड़ने के लिए एक डायनिंग टेबिल के चारों और भागने लगे ताकि वो उसके हाथों से जिना का लिखा ख़त छीन लें लेकिन वो रति को नहीं पकड़ पाए.'

सर दिनशॉ का वास्ता एक ऐसे बैरिस्टर से था जो शायद ही कोई मुक़दमा हारता था. दिनशॉ जितने ज़िद्दी थे, लंबे अर्से से इश्क की जुदाई झेल रहा ये जोड़ा उनसे ज़्यादा ज़िद्दी साबित हुआ. दोनों ने धीरज, ख़ामोशी और शिद्दत से रती के 18 साल के होने का इंतज़ार किया.

जिन्ना के एक और जीवनीकार प्रोफ़ेसर शरीफ़ अल मुजाहिद कहते हैं कि 20 फ़रवरी, 1918 तो जब रति 18 साल की हुईं तो उन्होंने एक छाते और एक जोड़ी कपड़े के साथ अपने पिता का घर छोड़ दिया.

मोहन राकेश-अनीता की वो प्रेम कहानी

क़ायदेआज़म जिन्ना का घर बम धमाके में तबाह

इमेज कॉपीरइट PAKISTAN NATIONAL ARCHIVE

जिन्ना रति को जामिया मस्जिद ले गए जहाँ उन्होंने इस्लाम कबूल किया और 19 अप्रैल, 1918 को जिन्ना और रति का निकाह हो गया.

भारतीय समाज

रति जिन्ना पर किताब लिखने वाले ख़्वाजा रज़ी हैदर कहते हैं कि जिन्ना इंपीरियल लेजेस्लेटिव काउंसिल में मुस्लिम समुदाय का प्रतिनिधित्व कर रहे थे. अगर वो सिविल मैरेज एक्ट के तहत शादी करते तो उन्हें संभवत: अपनी सीट से इस्तीफ़ा देना पड़ता.

इसलिए उन्होंने इस्लामी तरीके से शादी करने का फ़ैसला किया और रति इसके लिए तैयार भी हो गईं. निकाहनामे में 1001 रुपये का मेहर तय हुआ, लेकिन जिन्ना ने उपहार के तौर पर रति को एक लाख पच्चीस हज़ार रुपये दिए जो 1918 में बहुत बड़ी रकम हुआ करती थी.

जिन्ना की अपने से 24 साल छोटी लड़की से शादी उस ज़माने के दकियानूसी भारतीय समाज के लिए बहुत बड़ा झटका था.

'सरकारी क़ैद' से आज़ाद होगी जिन्ना की आवाज़

पहला भाषण: नेहरू और जिन्ना का फ़र्क

इमेज कॉपीरइट hkrdb.kar.nic.in
Image caption पंडित नेहरू के साथ उनकी बहन विजयलक्ष्मी पंडित

जवाहरलाल नेहरू की बहन विजयलक्ष्मी पंडित ने अपनी आत्मकथा द स्कोप ऑफ़ हैपीनेस में लिखा है, "श्री जिन्ना की अमीर पारसी सर दिनशॉ की बेटी से शादी से पूरे भारत में एक तरह का आंदोलन खड़ा हो गया. मैं और रति करीब-करीब एक ही उम्र की थीं, लेकिन हम दोनों की परवरिश अलग-अलग ढ़ंग से हुई थी. जिन्ना उन दिनों भारत के नामी वकील और उभरते हुए नेता थे. ये चीज़ें रति को अच्छी लगती थीं. इसलिए उन्होंने पारसी समुदाय और अपने पिता के विरोध के बावजूद जिन्ना से शादी की."

रति का प्यार

भारत कोकिला के नाम से मशहूर सरोजिनी नायडू ने भी डॉक्टर सैयद महमूद को लिखे पत्र में जिन्ना की शादी का ज़िक्र करते हुए लिखा, "आख़िरकार जिन्ना ने अपनी लालसा के नीले गुलाब को तोड़ ही लिया. मैं समझती हूँ कि लड़की ने जितनी बड़ी कुर्बानी दी है उसका उसे अंदाज़ा ही नहीं है, लेकिन जिन्ना इसके हक़दार हैं. वो रति को प्यार करते हैं. उनके आत्मकेंद्रित और अंतर्मुखी व्यक्तित्व का यही एक मानवीय पहलू है."

ख़्वाजा रज़ी हैदर लिखते हैं कि सरोजिनी नायडू भी जिन्ना के प्रशंसकों में से एक थीं और 1916 के कांग्रेस अधिवेशन के दौरान उन्होंने जिन्ना पर एक कविता भी लिखी थी.

'मुहाजिरों' की उर्दू, पाक की राष्ट्रभाषा

किस मोड़ पर खड़ा है जिन्ना के ख़्वाबों का पाकिस्तान?

इमेज कॉपीरइट KHWAJA RAZI HAIDAR
Image caption रती के जीवनीकार ख़्वाजा रज़ी हैदर

जिन्ना के जीवनीकार हेक्टर बोलिथो ने अपनी किताब में एक बूढ़ी पारसी महिला का ज़िक्र किया है जिसका मानना था कि सरोजिनी को भी जिन्ना से इश्क था, लेकिन जिन्ना ने उनकी भावनाओं का जवाब नहीं दिया. वो ठंडे और अलग-थलग बने रहे.

जिन्ना से प्यार

हालाँकि सरोजिनी बंबई की नाइटेंगल के रूप में जानी जाती थीं लेकिन जिन्ना पर उनके सुरीले गायन का कोई असर नहीं हुआ. मैंने शीला रेड्डी से पूछा कि क्या सरोजिनी नायडू को भी जिन्ना से प्यार था? उनका जवाब था, नहीं. लेकिन सरोजिनी उनकी इज़्ज़त बहुत करती थीं.

जिन्ना के एक और बॉयोग्राफ़र अज़ीज़ बेग ने रती और सरोजिनी नायडू के जिन्ना के प्रति प्रेम का ज़िक्र अपनी किताब में एक अलग शीर्षक के तहत किया है और उसका नाम उन्होंने दिया है, 'टू विनसम विमेन.'

अज़ीज़ बेग लिखते हैं कि एक फ़्रेंच कहावत है कि मर्दों की वजह से औरतें एक दूसरे को नापसंद करने लगती हैं. लेकिन सरोजिनी में रति के प्रति जलन का भाव कतई नहीं था. वास्तव में उन्होंने जिन्ना को रति से शादी करने में मदद की.

दिल जीतने की बात और रियासतों को धमकी

जिन्ना का भाषण भारत से 'गायब'

इमेज कॉपीरइट Douglas Miller/Getty Images
Image caption महात्मा गांधी के साथ सरोजिनी नायडू

वर्ष 1918 के उस वसंत में जिन्ना और रति के दमकते और ख़ुशी से भरे चेहरों को देख कर लगता था कि वो एक दूसरे के लिए ही बने हैं.

जिन्ना और रति

रति के हसीन लचकते हुए बदन पर सुर्ख़ और सुनहरे, हल्के नीले या गुलाबी रंग की पारदर्शी पोशाकें होतीं. वो चांदी और संगमरमर के लंबे सिगरेट होल्डरों में दबी अंग्रेज़ी सिगरेटों का जब धुंआँ उड़ातीं, तो उनकी शख्सियत में चार चाँद लग जाते.

वैसे भी उनकी हर अदा और उनकी खनकती हुई बेसाख़्ता हंसी उनकी मौजूदगी को और ख़ुशनुमा बना देती थी.

ख़्वाजा रज़ी हैदर लिखते हैं कि महमूदाबाद के राजा अमीर अहमद खाँ की उम्र साढ़े चार साल की रही होगी जब जिन्ना और रति अपने हनीमून के दौरान उनके पिता की लखनऊ की कोठी में ठहरे थे.

रति सफ़ेद रंग की सुनहरे और काले बॉर्डर की साड़ी पहने हुए थीं और वो उन्हें एक परी की तरह लग रहीं थीं. राजा अमीर खाँ उनसे दोबारा 1923 में मिले थे जब जिन्ना और रति दिल्ली के मेंडेस होटल में ठहरे हुए थे. उस समय उन्होंने उन्हें खिलौने ख़रीदने के लिए पाँच सौ रुपये दिए थे.

रामलीला मैदानः जिन्ना, जेपी, इंदिरा से केजरीवाल तक

गांधी की हत्या पर क्या पाक भी रोया था?

इमेज कॉपीरइट Sheela Reddy
Image caption 'मिस्टर एंड मिसेज़ जिन्ना- द मैरेज दैट शुक इंडिया'

रति और जिन्ना के दोस्त कांजी द्वारका दास ने भी अपनी किताब में लिखा है, "मैं उनसे अपनी आँख नहीं हटा पाता था और तब तक उनकी बग्घी को निहारा करता था जब तक वो मेरी निगाहों से ओझल नहीं हो जाती थी."

गवर्नमेंट हाउज़

ख़्वाजा रज़ी हैदर रति जिन्ना के बारे में एक दिलचस्प किस्सा सुनाते हैं. एक बार बंबई के गवर्नर विलिंगटन ने जिन्ना दंपति को खाने पर बुलाया. रति भोज में एक लो कट पोशाक पहन कर गईं.

जब वो खाने की मेज़ पर बैठीं तो लेडी विलिंगटन ने अपने एडीसी से कहा कि वो रति जिन्ना के लिए एक शॉल ले आएं. कहीं उन्हें ठंड न लग रही हो.

ये सुनते ही जिन्ना तुरंत उठ खड़े हुए और बोले, "अगर श्रीमती जिन्ना को ठंड लगेगी तो वो शॉल मांग लेंगी." वो विरोधस्वरूप अपनी पत्नी को डायनिंग हॉल से बाहर ले गए और विलिंगटन के रहते उन्होंने गवर्नमेंट हाउज़ का कभी रुख़ नहीं किया.

10 बातों में जानिए नेस वाडिया को

जिन्ना पर जसवंत के विचार से भाजपा असहमत

इमेज कॉपीरइट AP

रति मुंहफट भी थीं. शीला रेड्डी बताती हैं, "1918 में जब लॉर्ड चेम्सफ़ोर्ड ने उन दोनों को शिमला के वायसराय लॉज में भोज पर बुलाया तो उन्होंने हाथ जोड़ कर भारतीय तरीके से वायसराय का अभिवादन किया. भोज के बाद चेम्सफ़ोर्ड ने उन्हें सलाह दी कि अगर वो अपने पति के राजनीतिक करियर को फलते-फूलते देखना चाहती हैं जो उन्हें वही करना चाहिए जैसे रोम में रहने वाले रोम में करते हैं. रति ने छूटते ही जवाब दिया, एक्सलेंसी मैंने वैसा ही किया जैसा कि आप कह रहे हैं. भारत में मैंने भारतीय तरीके से आपका अभिवादन किया!"

दोनों की दूरियां

ख़्वाजा रज़ी हैदर बताते हैं कि एक और मौके पर रति एक भोज में वायसराय लॉर्ड रेडिंग की बगल में बैठी हुई थी.

जर्मनी की बात चल निकली तो लॉर्ड रेडिंग ने कहा कि मैं जर्मनी जाना चाहता हूँ, लेकिन युद्ध के बाद जर्मन हम ब्रिटेनवासियों को अब पसंद नहीं करते... इसलिए मैं वहाँ नहीं जा सकता. रति ने फ़ौरन कहा, "तब आप भारत में क्या करने आए हैं ( भारत के लोग भी तो आपको पसंद नहीं करते?)

धीरे-धीरे जिन्ना की व्यस्तता और दोनों के बीच उम्र का फ़र्क जिन्ना और रति के बीच दूरी ले आया. उनके पास अपनी जवान बीवी और दुधमुंही बेटी के नख़रों के लिए कोई वक्त नहीं था.

भारत से पहले आज़ाद हुआ था पाकिस्तान?

'जिन्ना का बंगला गंगाजल से धुलवाया गया था'

इमेज कॉपीरइट photodivision.gov.in
Image caption जस्टिस एमसी छागला

जिन्ना के सचिव रहे और बाद में भारत के विदेश मंत्री बने एमसी छागला लिखते हैं कि जब मैं और जिन्ना किसी कानूनी मसले पर बात कर रहे होते तो रति कुछ ज़्यादा ही बन-ठन कर आतीं और जिन्ना की मेज़ पर बैठ कर अपने पैर हिलाने लगतीं कि जिन्ना कब बातचीत ख़त्म करें और वो उनके साथ बाहर निकलें.

जिन्ना का जवाब

जिन्ना के मुंह से नाराज़गी का एक लफ़्ज़ भी नहीं निकलता और वो अपना काम इस तरह कर रहे होते जैसे रति वहाँ मौजूद ही न हों.

छागला अपनी आत्मकथा 'रोज़ेज़ इन दिसंबर' में एक और दिलचस्प किस्सा बताते है, "एक बार रति बंबई के टाउन हॉल में जिन्ना की शानदार लंबी गाड़ी में आई. जब वो कार से बाहर निकलीं तो उनके हाथ में एक टिफ़िन बास्केट थी. सीढ़ियाँ चढ़ते हुए उन्होंने कहा, जे (वो जिन्ना को इसी नाम से पुकारती थीं) सोचो मैं तुम्हारे लिए लंच में क्या लाई हूँ. जिन्ना का जवाब था मुझे क्या पता तुम क्या लाई हो. इस पर वो बोलीं मैं तुम्हारे पसंदीदा हैम सैंडविच लाई हूँ. इस पर जिन्ना बोले माई गॉड ये तुमने क्या किया? क्या तुम मुझे चुनाव में हरवाना चाहती हो? क्या तुम्हें नहीं पता कि मैं पृथक मुसलमानों वाली सीट से चुनाव लड़ रहा हूँ? अगर मेरे वोटरों को पता चल गया कि मैं लंच में हैम सैंडविच खा रहा हूँ तो मेरे जीतने की क्या उम्मीद रह जाएगी? ये सुनकर रति का मुंह लटक गया. उन्होंने फ़ौरन टिफ़िन उठाया और खटाखट सीढ़ियाँ उतरते हुए वापस चली गईं."

इमेज कॉपीरइट www.npb.gov.pk

रज़ी हैदर का आकलन है कि दोनों के बीच अलगाव के राजनीतिक कारण भी थे. 1926 आते आते जिन्ना का भारतीय राजनीति में वो स्थान नहीं रहा था जो 1916 में हुआ करता था और उन्होंने सांप्रदायिक राजनीति का दामन थाम लिया था. फिर रति बीमार भी रहने लगी थीं.

रति का आखिरी वक्त

फ़्रांस में बीमारी के बाद भारत लौटते हुए रति ने पानी के जहाज़ एसएस राजपूताना से जिन्ना को पत्र लिखा था, "प्रिय मेरे लिए जितना भी तुमने किया, उसके लिए धन्यवाद. मैंने तुमको जितना चाहा है, उतना किसी पुरुष को नहीं चाहा गया होगा. तुम मुझे उस फूल की तरह याद करना जिसे तुमने तोड़ा था न कि उस फूल की तरह जिसे तुमने कुचल दिया था."

20 फ़रवरी, 1929 को मात्र 29 साल की उम्र में रति जिन्ना का निधन हो गया. उनके आखिरी दिनों में उनके दोस्त कांजी द्वारका दास उनके साथ थे.

शीला रेड्डी बताती हैं, "कांजी लिखते हैं कि अपने आखिरी दिनों में रति बहुत डिप्रेस्ड थीं. एक बार मैंने उनसे कहा कि मैं थोड़ी देर में आता हूँ तो उन्होंने बहुत करुणामयी अंदाज़ में कहा तब तक अगर मैं जीवित बची तो... बाद में कांजी ने एक पाकिस्तानी पत्रकार को, जो उनसे मिलने मुंबई आया था, बताया कि रति ने अधिक मात्रा में सोने की गोलियाँ खा कर आत्महत्या की थी."

इमेज कॉपीरइट KHWAJA RAZI HAIDER
Image caption ख्वाजा रज़ी अहमद की किताब

रति की तबियत ख़राब होने की ख़बर जिन्ना के पास तब पहुंची जब वो दिल्ली में वेस्टर्न कोर्ट में बैठे हुए थे. उनके पास मुंबई से एक ट्रंक कॉल आया. दूसरे छोर पर उनके ससुर दिनशॉ पेटिट थे.

पिछले दस सालों में ये पहला मौका था जब दोनों के बीच कोई बात हो रही थी. जिन्ना फ़ौरन ही मुंबई के लिए ट्रेन से रवाना हो गए थे.

रास्ते में ही उन्हें वायसराय और दूसरे बड़े लोगों के शोक टेलिग्राम मिलने शुरू हो गए थे जिससे उन्हें पता चल गया कि रति अब इस दुनिया में नहीं रहीं. मुंबई स्टेशन से वो सीधे खोजा कब्रिस्तान गए. वहाँ उनका इंतज़ार किया जा रहा था.

शीला रेड्डी बताती हैं, "जब रति के पार्थिव शरीर को कब्र में दफ़न करने के बाद जिन्ना से कहा गया कि सबसे नज़दीकी रिश्तेदार होने के नाते वो कब्र पर मिट्टी फेंके तो जिन्ना सुबक-सुबक कर रो पड़े थे. ये पहली और आख़िरी बार था जब किसी ने जिन्ना को सार्वजनिक रूप से अपनी भावनाओं को व्यक्त करते हुए देखा था."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे