जेएनयू के दलित छात्र ने की कथित तौर पर ख़ुदकुशी

  • 13 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट Facebook Rajini Krish
Image caption रजनी कृष के फ़ेसबुक प्रोफ़ाइल से ली गई फ़ाइल फोटो.

दिल्ली पुलिस का कहना है कि जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में दलित शोध छात्र मुथुकृष्णनन जीवानंदम का शव सोमवार शाम एक मित्र के घर फंदे से लटका मिला है. पुलिस इसे आत्महत्या का मामला मान रही है लेकिन ये भी कह रही है कि उसे कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है.

मेरा बेटा आत्महत्या नहीं कर सकता: जीवानंदम

दिल्ली पुलिस में अतिरिक्त डीसीपी चिन्मय बिस्वाल ने बीबीसी संवाददाता वात्सल्य राय को बताया "सोमवार शाम पांच बजे पीसीआर कॉल आई थी. कॉल के बाद पुलिस टीम मुनिरिका विहार के एक घर पहुंची. मौके पर पहुंची पुलिस को एक कमरा अंदर से बंद मिला. पुलिस जब दरवाज़ा तोड़कर अंदर घुसी तो शव पंखे से लटकता मिला."

उन्होंने बताया, "अभी तक हमें लग रहा है कि ये निजी कारण से आत्महत्या का मामला है. हमें कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है. अभी इसे यूनिवर्सिटी से जोड़कर देखने का कोई कारण हमारे पास नहीं है."

इमेज कॉपीरइट RAJINI KRISH FACEBOOK

मुथुकृष्णनन जीवानंदम ने फ़ेसबुक पर रजनी कृष के नाम से अपना प्रोफ़ाइल बनाया था जिस पर उन्होंने हाल ही में कुछ पोस्ट में जेएनयू में समानता के मुद्दे पर सवाल उठाए थे.

इमेज कॉपीरइट Facebook

दिल्ली पुलिस में अतिरिक्त डीसीपी चिन्मय बिस्वाल से जब रजनी कृष की सोशल मीडिया पोस्टों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अभी हम उनकी सोशल मीडिया पोस्टों को आत्महत्या से जोड़ कर नहीं देख रहे हैं, लेकिन उनकी भी जांच की जाएगी.

मृतक मुथुकृष्णनन जीवानंदम उर्फ रजनी कृष तमिलनाडु के सेलम ज़िले के रहने वाले थे और एक साल पहले उन्होंने जेएनयू में दाख़िला लिया था.

पुलिस के मुताबिक, रजनी कृष सोमवार को अपने एक दक्षिण कोरियाई मित्र के घर गए थे जिन्होंने होली के मौके पर जेएनयू के अपने दो-तीन मित्रों को घर पर खाने के लिए आमंत्रित किया था.

पुलिस का कहना है कि आत्महत्या से पहले रजनी कृष कमरे में सोने चले गए थे. पुलिस का कहना है कि उन्होंने कमरा अंदर से बंद कर लिया था. जब दरवाज़ा बाहर से खटखटाया गया और कोई जवाब नहीं मिला तो पुलिस को जानकारी दी गई.

इमेज कॉपीरइट facebook/Rajini Krish

पुलिस का कहना है कि फिलहाल शव को शवगृह में रखा गया और मंगलवार को पोस्टमार्टम किया जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे