नज़रिया: मोदी के 'सब का साथ' में कहां हैं मुसलमान?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर असमर बेग का कहना है कि मुस्लिम वोट बैंक एक मिथक है.

हाल ही में संपन्न हुए उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में बीजेपी की जीत को दो तरीकों से बयान किया जा सकता है.

बीजेपी के विरोधियों ने इसे 'धर्मनिरपेक्ष' राजनीति के ऊपर हिंदुत्व की ताकत की जीत करार दिया है.

जबकि बीजेपी इसे 'सब का साथ, सब का विकास' की सोच का नतीजा बता रही है.

दोनों ही दलीलें भले ही एक दूसरे के उलट हों, लेकिन इसे 'मुस्लिम वोट' से जोड़ कर ही देखा जा रहा है.

धर्मनिरपेक्षता वाली दलील बीजेपी की गोलबंदी की राजनीति पर सवाल खड़े करती है.

EVM के 'मायाजाल' में उलझीं मायावती

निलंबित दयाशंकर की भाजपा में हुई वापसी

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
यूपी के नतीजों से हम हैरान हैं: शाहिला

हमें बताया जाता है कि बीजेपी अपनी इस राजनीति का सहारा लेकर मुसलमानों को आख़िरकार देश के ख़िलाफ एक अहम ख़तरा करार दे देती है.

मुसलमान विधायक

बीजेपी ने मुसलमानों को टिकट देने से साफ़ तौर पर इनकार कर दिया. प्रधानमंत्री ने इलेक्शन कैम्पेन के दौरान ईद और क़ब्रिस्तान का ज़िक्र किया.

फिर इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन की कथित छेड़खानी के आरोप लगे और आख़िरकार दलीलें मुस्लिम वोटों के बंटवारे पर आकर ठहर गईं. नतीजा बीजेपी की जीत में निकला.

ये भी कहा जा रहा है कि उत्तर प्रदेश की 17वीं विधानसभा के लिए केवल 24 मुसलमान विधायक चुने गए और राज्य में उनकी आबादी के लिहाज़ से ये संख्या 'वाजिब प्रतिनिधित्व' नहीं करती है.

मायावती ने हार का ठीकरा ईवीएम पर फोड़ा

नोटा ने बिगाड़ा कई उम्मीदवारों का खेल

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
इस बार क्या करेंगे उत्तर प्रदेश के मुसलमान?

इस पर बीजेपी का जवाब भी कम दिलचस्प नहीं था. पार्टी नेता उम्मीदवारों के जीतने की संभावना पर लगातार ज़ोर देते रहे.

धर्मनिरपेक्ष छवि

ये दावा किया गया कि बीजेपी जाति-मज़हब की राजनीति के बारे में नहीं सोचती और ऐसे उम्मीदवारों को तरजीह देती है जो जिताऊ वोट जुटाने का माद्दा रखते हैं.

इस लिहाज़ से पार्टी की जीत को उम्मीदवारों और मतदाताओं की धर्मनिरपेक्ष छवि के साथ जोड़कर देखा गया.

शायद इसीलिए कुछ मुस्लिम बहुल सीट पर बीजेपी की जीत को 'सब को साथ लेकर चलने की' पार्टी की नीति के नतीजे के तौर पर दिखाया जा रहा है.

क्या ईवीएम के साथ छेड़छाड़ हो सकती है?

मोदी की जीत पर क्या बोले पाकिस्तानी?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
ओवैसी का कहना है कि मुसलमान बेहद पिछड़े हुए हैं और उनके इलाक़ों में बैंक भी कम हैं.

ये दलीलें उस हक़ीक़त को नज़रअंदाज़ करती हैं कि उत्तर प्रदेश के सभी मुसलमानों की सियासी सोच एक जैसी नहीं है.

राजनीतिक समीकरण

यूपी का मुस्लिम समाज भी कई परतों में बंटा हुआ है. उनके राजनीतिक झुकाव भी अलग-अलग हैं और वोट देते वक्त भी उनकी पसंद बंटी हुई दिखती है.

जाति, धर्म, आर्थिक पृष्ठभूमि और क्षेत्रीय परिस्थितियां- ये वो मुद्दे हैं जो कई सतहों पर राजनीतिक समीकरणों को प्रभावित करती हैं.

यही वजह है कि चुनावों में मुसलमानों के वोट देने के तौर-तरीकों को लेकर कोई पक्की बात नहीं कही जा सकती है.

यूपीः मुस्लिम विधायकों की संख्या घटकर एक तिहाई

यूपी में बीजेपी बनाएगी सरकार

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
मिलिए देवबंद शहर से

मुस्लिम वोटरों की इस विविधता को भटका हुआ कहने के बजाय 'रणनीतिक मतदान' कहा जाता है.

अलग पहचान

वास्तव में यही कारण रहा है कि ग़ैर-बीजेपी पार्टियां मुस्लिम मतदाताओं के एकता की बात करती हैं, लेकिन निर्वाचन क्षेत्र के स्तर पर ये नज़रअंदाज़ हो जाता है.

लेकिन इसके साथ ही मुसलमानों की अपनी एक अलग पहचान भी है.

भारत का संविधान मुसलमानों को एक धार्मिक अल्पसंख्यक के तौर पर मान्यता देता है और उन्हें कुछ क़ानूनी संरक्षण भी देता है.

मुसलमान बहुल सीटें जहां जीत गई बीजेपी

भाजपा की जीत पर क्या बोले मुसलमान?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
रुझानों में शुरुआती बढ़त मिलने के बाद बीजेपी कार्यकर्ता खुशी में अबीर गुलाल खेलते हुए.

दिलचस्प ये है कि मुसलमानों को हासिल इस संवैधानिक दर्जे को उनके राजनीतिक बिखराव के ऊपर तरजीह दी गई है.

नुमाइंदगी का सवाल

इन चुनावों में गैर-बीजेपी पार्टियों के बारे में कम से कम ये बात तो कही जा सकती है.

इस लिहाज़ से ये देखा जाना चाहिए कि राजनीतिक दल मुसलमानों को नुमाइंदगी देने के नाम पर क्या दावे करते हैं और चुनावों में उनके साथ किस तरह संपर्क कायम करते हैं.

जब बहुजन समाज पार्टी ने ज़ोरशोर से ये दावा किया कि मुसलमानों को चुनाव लड़ने का पर्याप्त अवसर दिया जाना चाहिए तो उनकी बात इस मान्यता पर आधारित थी कि मुसलमानों की नुमाइंदगी किसी मुसलमान को ही करनी चाहिए.

उत्तराखंड में मुख्यमंत्री चुनने के लिए भाजपा परेशान

'मोदीराज में सेक्युलर राजनीति की जगह नहीं'

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
नोटंबदी के बाद मुरादाबाद में मुस्लिम वोटरों का रुख

और अगर मुसलमानों को मौका मिलेगा तो वे हमेशा किसी मुसलमान को ही वोट देंगे.

पार्टी की रणनीति

भारत में जिस तरह की चुनाव प्रणाली है, निर्वाचन क्षेत्रों की आबादी के ढांचे को देखते हुए उसमें नुमाइंदगी का ये तरीका कारगर नहीं हो सकता.

उसी तरह जब बीजेपी धर्मनिरपेक्ष प्रतिनिधित्व की बात करती है तो उसकी भी कुछ अपनी समस्याएं हैं.

हालांकि बीजेपी जब उम्मीदवारों के जीतने की क्षमता की दलील देती है तो इसका मतलब बूथ लेवल पर प्रबंधन और मतदाताओं के माइक्रो मैनेजमेंट से निकाला जाता है.

मुसलमानों को नजरअंदाज करने की पार्टी की रणनीति से मालूम पड़ता है कि बीजेपी मुसलमानों के मुद्दे में दिलचस्पी नहीं रखती.

कांग्रेस को महंगी पड़ी क्षेत्रीय नेताओं की अनदेखी ?

मोदी के नज़दीकी दिनेश शर्मा क्यों हो गए महत्वपूर्ण?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
परिस्थितियों के मुताबिक़ फ़ैसला लेंगी मायावती

बेशक, यूपी के मुसलमान धार्मिक अल्पसंख्यक के तौर पर अपनी पहचान नहीं छोड़ सकते, खासकर मौजूदा हालात में जब मुसलमानों को देश के दुश्मन के तौर पर प्रचारित किया जा रहा है.

सच्चरकमेटी

ये सच है कि बीजेपी ने मुस्लिम बहुल इलाकों में सीटें जीती हैं, लेकिन इसका मतलब ये नहीं होता कि मुसलमानों को लेकर पार्टी का रवैया बदल जाएगा.

यहां सच्चर कमेटी की रिपोर्ट का जिक्र करना प्रासंगिक रहेगा.

रिपोर्ट कहती है कि भले ही ग़रीबों और वंचित समाज की चिंताओं को मुसलमानों के मुद्दे से अलग नहीं किया जा सकता है. लेकिन इसके बावजूद कुछ ऐसी समस्याएं हैं जिनसे केवल मुसलमानों को रूबरू होना पड़ता है.

'जब कांशीराम राष्ट्रपति बनने के लिए तैयार नहीं हुए'

यूपी में सिर्फ़ 7, राहुल बोले 'थोड़ी सी गिरावट'

विधायिका में मुसलमान

नागरिक के तौर पर और धार्मिक अल्पसंख्यक के तौर पर मुसलमानों को राजनीतिक ढांचे में किस तरह से पर्याप्त प्रतिनिधित्व हासिल हो- इसके बारे में सच्चर कमेटी की रिपोर्ट में कई स्तरों पर अपनी सिफ़ारिश दी गई है.

अंग्रेजों के जाने के बाद देश में मुसलमानों की नुमाइंदगी का हिसाब-किताब देखें तो इसे संख्या में कभी नहीं तौला गया.

ये मान्यता कि विधायिका में मुसलमानों की मौजूदगी से उनके अधिकारों का संरक्षण होगा, पूरी तरह से ग़लत है.

यूपी विधानसभा में बड़ी तादाद में मुस्लिम विधायकों की मौजूदगी के बावजूद 2013 के मुज़फ्फ़रनगर के दंगे रोके नहीं जा सके. इस लिहाज से ये एक अच्छा उदाहरण है.

मणिपुर, गोवा के 'चुनाव चुरा' रही बीजेपी: चिदंबरम

शेयर बाज़ार मोदी की जीत पर जश्न को तैयार

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

चुनाव में बहुमत

हमारे लोकतंत्र में कई परते हैं और सरकारों के पास काम करने के लिए तयशुदा भूमिकाएं पहले से निर्धारित हैं.

राजनीति की तुलना में दूसरे विभागों में मुसलमानों की मौजूदगी कहीं ज्यादा है. यूपी चुनाव जीतने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भाषण इस संदर्भ में प्रासंगिक है.

उन्होंने कहा कि चुनाव का काम बहुमत हासिल करने का है, पर लोकतंत्र में कामकाज सर्वमत से होता है.

यूपी में मोदी की जीत से इसलिए ख़ुश होंगे नीतीश

क्या कांग्रेस के लिए राहुल से बेहतर प्रियंका?

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

इससे चुनाव प्रणाली और कमज़ोरों व अल्पसंख्यकों को हासिल संवैधानिक संरक्षण के बीच का अंतर समझा जा सकता है.

उनके बयान का व्यापक राजनीतिक महत्व है. उनका इशारा नुमाइंदगी के सवाल पर चल रही बहस की तरफ़ भी है.

हालांकि प्रधानमंत्री ने मुसलमानों का नाम नहीं लिया, लेकिन उनकी 'सर्वमत' वाली बात को गंभीरता से लिया जाना चाहिए.

ये देखना दिलचस्प होगा कि आम सहमति की कवायद में मुसलमानों की कितनी असरदार मौजूदगी देखने को मिलती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)