जनता आंधी जिसके सामने इंदिरा गांधी भी नहीं टिकीं

इंदिरा गांधी इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images
Image caption नई दिल्ली में एक सभा को संबोधित करतीं इंदिरा गांधी

इंदिरा गांधी ने अपने चुनाव अभियान की शुरुआत 5 फ़रवरी, 1977 को दिल्ली के रामलीला मैदान से की थी.

आयोजकों ने भीड़ जमा करने के लिए अपना सारा ज़ोर लगा दिया था.

स्कूल अध्यापकों, दिल्ली नगर निगम के कर्मचारियों और मज़दूरों को बसों में भर भर कर रामलीला मैदान पहुंचाया गया था.

इंदिरा गांधी का मूड ख़राब था. उनके माथे पर त्योरियां चढ़ी हुई थीं. अपने हार्ड हिटिंग भाषण में इंदिरा गाँधी ने जनता पार्टी को खिचड़ी कह कर उसका मज़ाक उड़ाया था.

बीच भाषण में सामने बैठी कुछ औरतें उठ कर जाने लगी थीं. सेवा दल के कार्यकर्ता उन्हें दोबारा बैठाने के लिए अपना पूरा ज़ोर लगा रहे थे.

दस साल में 'आम से ख़ास' हो गए गायत्री

जब कांशीराम के कहने पर मुलायम सिंह ने सपा बनाई

इमेज कॉपीरइट Keystone/Getty Images
Image caption इंदिरा सरकार से अलग होने के बाद एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में जगजीवन राम (तस्वीर 16 फरवरी 1977 की है)

भीड़ आपस में इतनी बात कर रही थी कि इंदिरा गांधी को अचानक अपना भाषण बीच में ही रोकना पड़ा.

पहले संजय गांधी भी वहाँ बोलने वाले थे लेकिन उन्होंने न बोलने का फ़ैसला लिया.

एक दिन बाद यानी 6 फ़रवरी को जेपी भी दिल्ली पहुंच गए थे और ये तय हुआ कि जनता पार्टी भी रामलीला मैदान पर चुनाव रैली करेगी.

सूचना और प्रसारण मंत्री विद्याचरण शुक्ल ने भीड़ को घर पर रखने का एक नायाब तरीका निकाला था. उस ज़माने में दूरदर्शन चार बजे एक फ़िल्म दिखाया करता था.

ज़्यादा से ज़्यादा लोग घर से बाहर न निकलें, ये सुनिश्चित करने के लिए फ़िल्म का समय पांच बजे कर दिया गया.

नैतिकता और राजनीतिक दांव पेंच का उलझाव

मोदी के 'सब का साथ' में कहां हैं मुसलमान?

Image caption जनता आंदोलन के दौरान मोरारजी देसाई और जयप्रकाश नारायण

आम तौर से दूरदर्शन पर पुरानी फ़िल्में ही दिखाई जाती थीं लेकिन उस दिन तीन साल पुरानी ब्लॉकबस्टर 'बॉबी' दिखाने का फ़ैसला किया गया.

इंदिरा की रैली

बसों को रामलीला मैदान के आसपास भी फटकने नहीं दिया गया और लोगों को सभास्थल तक पहुंचने के लिए एक किलोमीटर तक चलना पड़ा.

रैली के आयोजक मदनलाल खुराना और विजय कुमार मल्होत्रा इस बात से परेशान थे कि इस रैली की तुलना इंदिरा गांधी की रैली से की जाएगी और लोग कहेंगे कि इसमें उस रैली से कम लोग पहुंचे हैं.

लेकिन जेपी और जगजीवन राम 'बॉबी' से ज़्यादा बड़े आकर्षण साबित हुए.

'भाजपा को भगवा एजेंडा लागू करने में अभी वक्त लगेगा'

'मोदीराज में सेक्युलर राजनीति की जगह नहीं'

इमेज कॉपीरइट shanti bhushan
Image caption रैली में जनता से मुखातिब जेपी

हज़ारों लोग लंबी दूरी का रास्ता तय करते हुए रामलीला मैदान पहुंचे.

दिल्ली का नक्शा

कूमी कपूर अपनी किताब 'इमरजेंसी- अ पर्सनल हिस्ट्री' में लिखती हैं, "वाजपेई की बेटी नमिता भट्टाचार्य ने मुझे बताया कि जब वो रैली स्थल की तरफ़ जा रही थीं तो उन्हें कुछ दबी-दबी सी आवाज़ सुनाई दी. उन्होंने टैक्सी ड्राइवर से पूछा कि ये आवाज़ किसकी है? उसने जवाब दिया कि ये लोगों के कदमों की आवाज़ है. जब वो तिलक मार्ग पहुंचीं तो वो लोगों से खचाखच भरा हुआ था. उन्हें टैक्सी से उतर कर रामलीला मैदान तक पैदल जाना पड़ा."

पांच बजते बजते न सिर्फ़ रामलीला मैदान पूरा भर चुका था बल्कि बगल के आसफ़ अली रोड और जवाहरलाल नेहरू मार्ग पर भी लोगों का समुद्र दिखाई दे रहा था.

जगजीवन राम बोले थे, "बहुत पहले नादिर शाह ने गरीबों की कुर्बानी ले कर दिल्ली का नक्शा बदलने की कोशिश की थी. आज डीडीए भी वही करने की कोशिश कर रहा है."

यूपी: सीएम की रेस में एक चेहरा इनका भी

'जब कांशीराम राष्ट्रपति बनने के लिए तैयार नहीं हुए'

इमेज कॉपीरइट Bobby Movie
Image caption सूचना और प्रसारण मंत्री विद्याचरण शुक्ल ने भीड़ को घर पर रखने के लिए दूरदर्शन पर 'बॉबी' फिल्म चलवा दी

जब जगजीवन राम ने तंज़ कसा कि आज दिल्ली पर डेढ़ लोगों का राज है तो भीड़ में ज़ोर का ठहाका लगा. उस दिन जगजीवन राम ने 'बॉबी' को कहीं पीछे छोड़ दिया था.

बड़ौदा डायनामाइट केस

अगले कुछ दिनों में इंदिरा गाँधी के लिए और ख़राब खबर आई. उनकी बुआ विजयलक्ष्मी पंडित ने जनता पार्टी के समर्थन की घोषणा कर दी.

जब जॉर्ज फ़र्नान्डिस को बड़ौदा डायनामाइट केस के सिलसिले में दिल्ली के तीस हज़ारी कोर्ट में पेश किया गया तो जेएनयू के करीब दर्जन भर छात्रों ने नारे लगाए, 'जेल का फाटक तोड़ दो, जॉर्ज फर्नान्डिस को छोड़ दो.'

दो सप्ताह पहले इस तरह के प्रदर्शन की कल्पना भी नहीं की जा सकती थी.

अखिलेश से ख़फ़ा, मोदी पर फ़िदा अमर

'हमारे आंसू पोंछने वाले तो हार गए'

इमेज कॉपीरइट Paula Bronstein/Getty Images
Image caption 1977 का चुनाव जॉर्ज जेल में रहकर रिकॉर्ड वोटों से जीते थे

प्रचार के दौरान इंदिरा गांधी के चेहरे पर दाद हो गया था, लेकिन इससे उनकी मेहनत पर कोई असर नहीं पड़ा.

जनता से कनेक्ट

चेहरे पर उभर आए दाग़ों को छिपाने के लिए अक्सर वो अपना चेहरा साड़ी के पल्लू से ढ़ंक लेतीं.

उनकी रैली कवर कर रहे पत्रकार समझ रहे थे कि वो लोगों का समर्थन लेने के लिए परंपरावादी होने की कोशिश कर रही हैं.

इंदिरा गांधी चुनाव प्रचार के दौरान 40000 किलोमीटर घूमीं, 244 चुनाव सभाओं के संबोधित किया और जम्मू कश्मीर और सिक्किम छोड़ कर भारत के हर राज्य में गईं.

लेकिन दिल ही दिल में उन्हें पता था कि इस बार जनता से उनका कनेक्ट पहले की तरह नहीं था.

यूपी में मोदी की 'सुनामी' में बचे ये 7 कांग्रेसी

क्या कांग्रेस के लिए राहुल से बेहतर प्रियंका?

Image caption बीबीसी स्टूडियो में जयप्रकाश नारायण

एक मार्च को जब दिल्ली के बोट क्लब में एक और चुनाव सभा हुई तो सुनने वाले इंदिरा गांधी के इतने खिलाफ़ थे कि जब दिल्ली से कांग्रेस उम्मीदवार शशि भूषण ने नारा लगाया, "बोलो इंदिरा गांधी की जय" तो इसका जवाब कानों को गड़ने वाली ख़ामोशी से दिया गया.

पोलिंग बूथ

पहले शशि भूषण समझे कि शायद माइक ख़राब है लेकिन धीरे धीरे सच्चाई सामने आने लगी.

दिल्ली में अब तक किसी प्रधानमंत्री को इतनी बेरुखी का सामना नहीं करना पड़ा था.

इंदिरा गांधी का भाषण समाप्त होने से पहले ही लोग उनकी सभा छोड़ कर वापस जाने लगे थे.

नोटा ने बिगाड़ा कई उम्मीदवारों का खेल

क्या ईवीएम के साथ छेड़छाड़ हो सकती है?

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images
Image caption आपातकाल के बाद हुए चुनाव में दिल्ली के एक मतदान केंद्र का दृश्य

दिल्ली में जब चुनाव हुआ तो पोलिंग बूथ के सामने मतदाताओं की लंबी लंबी कतारें देखीं गई. दोनों पार्टियों ने दावा किया कि ये उनके लिए सकारात्मक संकेत हैं.

शुरुआती तस्वीर

कुछ जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं को आशंका थी कि कांग्रेस पार्टी चुनाव जीतने के लिए किसी भी हद तक जा सकती है.

इसलिए वो अपने बिस्तरों के साथ उन जगहों पर पहुंच गए जहाँ मतपत्रों को रखा गया था.

उन्होंने दिन रात उनकी रखवाली की ताकि उनके साथ किसी तरह की छेड़छाड़ न हो सके. जब परिणाम आने शुरू हुए तो शुरुआती तस्वीर साफ़ नहीं थी.

मुसलमान बहुल सीटें जहां जीत गई बीजेपी

चुनाव नतीजों से ये 5 बातें साफ़ हो जाती हैं

इमेज कॉपीरइट shanti bhushan
Image caption आपातकाल के दौरान इंदिरा विरोधी पोस्टर

समाचार एजेंसी 'समाचार' पहले दक्षिण भारत के परिणाम दे रही थी जहाँ कांग्रेस काफ़ी आगे निकल रही थी.

उत्तर भारत

अचानक इंडियन एक्सप्रेस के न्यूज़ रूम में लखनऊ से फ़ोन आया कि राय बरेली में इंदिरा गाँधी, राज नारायण से पीछे चल रही हैं.

देर शाम तक 'समाचार' के लिए भी उत्तर भारत के परिणामों को रोक पाना असंभव हो गया.

जनता पार्टी ने उत्तर प्रदेश, बिहार, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली और हिमाचल प्रदेश की सारी सीटें जीतीं. सिर्फ़ राजस्थान और मध्यप्रदेश में कांग्रेस को एक-एक सीट मिली.

इंडियन एक्सप्रेस के बाहर लगे स्कोर बोर्ड में जैसे ही जनता पार्टी की जीत का ऐलान होता लोग खुशी में नाचने लगते और स्कोर बोर्ड पर बैठे शख्स के ऊपर पैसे फेंकने लगते.

Image caption बीबीसी स्टूडियो में कुलदीप नैयर

कूमी कपूर लिखती हैं, "अचानक वहाँ पर एक काली कार रुकी और एक बंदा 100 तंदूरी चिकन लेकर उतरा और उन्हें लोगों में मुफ़्त बांटने लगा. जब सारे मुर्ग ख़त्म हो गए तो उसने कहा वो जल्द ही मुर्गों की एक और खेप ले कर आएगा."

तीन बार मतगणना

15 अगस्त, 1947 के बाद आम लोगों में इतना उत्साह पहले कभी नहीं देखा गया था.

चुनाव के बाद मशहूर पत्रकार कुलदीप नैयर राय बरेली जा कर उस समय वहाँ जिला मजिस्ट्रेट के पद पर काम कर रहे विनोद मल्होत्रा से मिले.

उन्होंने कुलदीप नैयर को बताया कि पहले राउंड से ही इंदिरा गांधी पिछड़ने लगी थी. इंदिरा गाँधी के एजेंट माखनलाल फ़ोतेदार ने तीन बार मतगणना कराई.

इमेज कॉपीरइट Keystone/Hulton Archive/Getty Images
Image caption आपातकाल के बाद हुए चुनाव में संजय गांधी 75000 हज़ार वोट से हार गए थे

आर के धवन ने उन्हें फ़ोन कर कहा कि वो चुनाव परिणाम घोषित न करें.

चुनाव परिणाम

कुलदीप नैयर अपनी आत्मकथा बियॉंड द लाइन्स में लिखते हैं, "मलहोत्रा मुझे अपने घर ले गए. उन्होंने बताया कि जब इंदिरा गांधी की हार सुनिश्चित हो गई तो उन पर चुनाव परिणाम रोकने के दबाव पड़ने लगे. उन्होंने अपनी पत्नी की सलाह लेने का फ़ैसला किया. उन्हें डर था कि इंदिरा गाँधी उप चुनाव जीत कर वापस आ जाएंगी और तब वो उनसे हिसाब बराबर करेंगी. मल्होत्रा की बीबी ने मुझे बताया कि जब मेरे पति ने मेरी सलाह मांगी तो मैंने कहा, हम बर्तन मांज लेंगे मगर बेईमानी नहीं करेंगे. ये सुनते ही मल्होत्रा ने चुनाव परिणाम घोषित करने करने का फ़ैसला किया."

इमेज कॉपीरइट photodivision.gov.in
Image caption राजीव गांधी के साथ पुपुल जयकर

उधर, इंदिरा गांधी के निवास स्थान 1, सफ़दरजंग रोड पर कुछ दूसरा ही नज़ारा था.

गांधी परिवार

जब उनकी दोस्त पुपुल जयकर उनसे मिलने पहुंचीं तो इंदिरा के सचिव उन्हें सीधे उनके कमरे में ले गए.

पुपुल अपनी किताब 'इंदिरा गांधी ए बायोग्राफ़ी' में लिखती हैं, "इंदिरा ने मुझे देखते ही कहा, पुपुल मैं हार गई हूँ. मुझसे कुछ कहते नहीं बना. हम बिना कुछ कहे थोड़ी देर बैठे रहे. मेरे सामने इंदिरा तनी हुई बैठी हुई थीं. हार में भी उनके चेहरे के लालित्य को साफ़ पढ़ा जा सकता था.

मैंने राजीव और सोनिया के बारे में पूछा. वो दोनों अपने कमरे में थे. साढ़े दस बजे इंदिरा गाँधी ने खाना लगाने और राजीव और सोनिया को बुलाने के लिए कहा. काफ़ी देर बाद वो भी वहाँ आ गए. सोनिया की आंखों से आंसू निकल रहे थे. राजीव के चेहरे पर भी मुस्कराहट गायब थी. खाना परोसा गया.

सोनिया और राजीव ने कुछ फल खाए. इंदिरा ने कटलेट, सलाद और सब्ज़ियाँ ली. खाने के दौरान कोई एक शब्द भी नहीं बोला. खाने के बाद इंदिरा के पुराने दोस्त मोहम्मद यूनुस भी वहाँ पहुंच गए. धवन ने आकर बताया कि राज नारायण की लीड अब 20000 हो गई है. मैं वहाँ रात 12 बजे तक रही. जब मैं चलने लगी तो राजीव गांधी बोले, मैं संजय को मम्मी को इस स्थिति में लाने के लिए कभी नहीं माफ़ करूंगा."

इमेज कॉपीरइट photodivision.gov.in
Image caption आपातकाल के विरोध में विजयालक्ष्मी पंडित ने भी जनता पार्टी को अपना समर्थन दे दिया था

जनता पार्टी और कांग्रेस फ़ॉर डेमोक्रेसी गठबंधन को 298 सीटें मिलीं. कांग्रेस 153 सीटें ही जीत पाईं. इंदिरा गांधी 55000 हज़ार वोटों से हारीं.

संजय 75000 हज़ार और बंसी लाल एक लाख 61 हज़ार वोटों से पराजित हुए.

जॉर्ज फ़र्नान्डिस ने बिना अपने संसदीय क्षेत्र मुज़फ़्फ़रपुर में पैर रखे तीन लाख वोटों से अविश्वसनीय जीत हासिल की.

अगले दिन बहुत सुबह बुलाई गई मंत्रिमंडल बैठक में आपालकाल को हटा लिया गया. भारतीय प्रजातंत्र का एक दु:स्वप्न समाप्त हो चुका था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे