गोवा में कांग्रेस की सरकार चाहते ही नहीं थे दिग्विजय: राणे

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/VISWAJIT RANE
Image caption विश्वजीत राणे ने कांग्रेस प्रभारी पर आरोप लगाया है कि वे सरकार बनाना ही नहीं चाहते थे

गोवा विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफ़ा देने वाले कांग्रेस विधायक विश्वजीत राणे का मानना है कि एक साज़िश के तहत वहां कांग्रेस पार्टी का 'सत्यानाश' किया जा रहा है.

पर्रिकर गोवा के चौथी बार मुख्यमंत्री बने

मणिपुर और गोवा के 'चुनाव चुरा' रही है बीजेपी: चिदंबरम

नज़रिया: गोवा और मणिपुर में नैतिकता और राजनीतिक दांव पेंचों का उलझाव

बीबीसी संवाददाता निखिल रंजन से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा, "गोवा की जनता ने कांग्रेस को वोट दिया था, लोग इसकी सरकार चाहते थे. लेकिन, पार्टी के गोवा प्रभारी के व्यवहार से लगता है कि कांग्रेस को वहां सरकार बनाने की इच्छा ही नहीं थी."

उनके मुताबिक़, लोगों ने भाजपा के ख़िलाफ़ वोट दिए थे, उसे बहुमत नहीं मिला. लेकिन गोवा के कांग्रेस प्रभारी ने वहां भाजपा को सरकार बनाने का मौका दे दिया.

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/ DIGVIJAY SINGH

वे कहते हैं, "कांग्रेस विधायक दल का नेता चुनने की प्रक्रिया तो ऐसी थी मानो मजाक हो रहा हो. इसके बाद जब पार्टी में विपक्ष का नेता चुनने का मौका आया, फिर लोगों ने पूरी प्रक्रिया को ही मजाक बना कर रख दिया. विपक्ष का नेता बग़ैर चुनाव के ही चुन लिया गया."

विश्वजीत राणे ने बीबीसी से कहा, "गोवा में कांग्रेस पार्टी का सत्यानाश करने की साज़िश चल रही है. इस साज़िश के तहत ही यहां कांग्रेस पार्टी को विपक्ष में बैठा दिया गया है."

वे सवाल उठाते हैं, "जनता के बीच से चुन कर आया मेरे जैसा युवा नेता क्या करे? मुझे मजबूर होकर चुनाव जीतने के बाद इस्तीफ़ा देकर बाहर निकलना पड़ा. मेरे बाद पूरे देश में युवा प्रतिनिधि ऐसा ही करेंगे."

इमेज कॉपीरइट PIB
Image caption सबसे बड़ी पार्टी नहीं होने के बावजूद भाजपा ने सरकार बना ली, मनोहर पर्रिकर बने मुख्यमंत्री

उन्होंने पार्टी के प्रति पूरी निराशा जताते हुए कहा कि उन्होंने ये मुद्दे पार्टी फ़ोरम पर भी उठाए थे, लोगों को समझाने की कोशिश की थी. पर नतीजा सिफ़र रहा. अब वे पूरी तरह नाउम्मीद हो चुके हैं.

अपने आगे की योजना पर राणे कहते हैं, "मैं अब एक बार फिर चुनाव लड़ूंगा. मैं सूबे में भाजपा की सरकार को समर्थन दूंगा. मेरे साथ कुछ दूसरे विधायक भी पार्टी छोड़ कर निकल सकते हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे