बहुमत हो तो भी देश को साथ लेकर चलें: प्रणब मुखर्जी

  • 17 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट Getty Images

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा है कि बहुमत के बावजूद सत्ता में बैठे लोगों को पूरे देश को हमेशा एक साथ लेकर चलना चाहिए.

इंडिया टुडे कॉन्कलेव में अपने भाषण में राष्ट्रपति ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उस भाषण की तारीफ की जिसमें प्रधानमंत्री ने कहा था कि सरकारें बहुमत से चलती हैं लेकिन काम सर्वसम्मति से होता है.

'जिन्होंने हमें वोट नहीं दिया उनके लिए भी काम करेंगे'

'अखिलेश-राहुल से बड़े 'यूथ-आइकन' नरेंद्र मोदी'

राष्ट्रपति का कहना था, ''संसदीय लोकतंत्र में हमें हमेशा बहुमतवाद से सतर्क रहना चाहिए. जो सत्ता में हैं उन्हें पूरे देश को हमेशा साथ लेकर चलना चाहिए.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

उन्होंने कहा, ''मुझे बहुत खुशी हुई प्रधानमंत्री की बात सुनकर जब उन्होंने अपनी पार्टी की व्यापक जीत के बाद विनम्रता पर ज़ोर दिया.''

अपने भाषण में राष्ट्रपति ने संसद की कार्यवाही में बार बार हो रही रूकावटों पर भी ज़ोर दिया और कहा कि ये देखकर कोफ्त होती है क्योंकि मेरा सार्वजनिक जीवन संसद से जुड़ा रहा है.

उन्होंने कहा, ''मुझे बहुत दुख होता है कि लोकतंत्र के मुख्य स्तंभ को इस तरह से अप्रभावशाली बनाया जा रहा है. सत्ता और विपक्ष दोनों को इसे रोकना होगा ताकि संसद की कार्यवाही सुचारू रूप से चल सके.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे