प्रेस रिव्यू: यूपी में एक वोट 750 रुपए का पड़ा

  • 18 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट Getty Images

जनसत्ता ने ख़बर दी है कि उत्तर प्रदेश चुनाव देश का सबसे महंगा चुनाव रहा है, हर वोट पर राजनीतिक पार्टियों ने खर्च किए 750 रुपए.

उत्तर प्रदेश के चुनाव में पार्टियों ने 5500 करोड़ रुपये खर्च किए जिनमें करीब 1000 करोड़ रुपये 'वोट के बदले नोट' पर खर्च किए गए. करीब एक तिहाई मतदाताओं ने नकद या शराब की पेशकश की बात मानी है.

सीएमएस के चुनाव के पहले और बाद के सर्वेक्षण के अनुसार अकेले उत्तर प्रदेश में हाल के विधानसभा चुनाव में बड़े राजनीतिक दलों ने 5500 करोड़ रुपये खर्च किए.

यूपी: 312 विधायकों के बाद भी बीजेपी को सीएम की खोज?

अमित शाह के करीब माने जाते हैं त्रिवेंद्र सिंह रावत

इस चुनाव में चौड़े पर्दे पर प्रदर्शन और वीडियो वैन समेत प्रिंट के अलावा इलेक्ट्रोनिक सामग्री पर ही 600-900 करोड़ रूपये खर्च हुए.

रिपोर्ट के मुताबिक, इस विधानसभा चुनाव में यूपी में करीब 200 करोड़ रुपये और पंजाब में 100 करोड़ रुपये से अधिक धनराशि जब्त की गई.

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/ DIGVIJAY SINGH

इंडियन एक्सप्रेस ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह का इंटरव्यू छापा है जिसमें उन्होंने कहा है कि उन्हें कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से शिकायत है कि वो निर्णायक तरीके से काम नहीं कर रहे. अब कांग्रेस को नए रोडमैप, नए चार्टर और प्रचार के नए तरीके के साथ दोबारा खड़ा करने की ज़रूरत है.

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को सात सीटें और उत्तराखंड में 11 सीटें जीत पाई है, मणिपुर और गोवा में कांग्रेस के बेहतर प्रदर्शन के बावजूद वहां भाजपा की सरकार बन गई है.

यूपी सीएम: क्या बीजेपी को है 'शुभ मुहूर्त' का इंतज़ार?

सोशल मीडिया: 'राहुल की मां बीमार है, इसे घूमना नहीं कहते'

इंडियन एक्सप्रेस ने लिखा है कि पिछले सात महीनों में म्यांमार से ग़ैक़ानूनी तरीके से लाया जा रहा 246 किलो सोना पकड़ा गया है.

पारंपरिक तौर पर दुबई, थाईलैंड, बांग्लादेश और नेपाल से सोना स्मगलिंग के ज़रिए लाया जाता था लेकिन अब म्यांमार सोने की तस्करी के लिए नया रास्ता बनकर उभरा है.

दुबई से पिछले वित्तीय वर्ष के सात महीनों में 151 किलो सोना पकड़ा गया है.

डायरेक्टोरेट ऑफ़ इंटेलीजेंस ने भी माना है कि भारत- म्यांमार सीमा पर मणिपुर में सोने की तस्करी में लगातार बढ़ोतरी हो रही है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने लिखा है कि इंटरनेट की लत की वजह से लोगों की नींद में औसतन डेढ़ घंटे की कमी आ गई है.

एक शोध के मुताबिक ज़्यादातर लोग बिस्तर में जाने के बाद भी अपने फ़ोन और टैबलेट कम से कम चार बार चेक करते हैं.

इस आदत से बच्चे भी अछूते नहीं हैं.

बेंगलुरू में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ मेन्टल हेल्थ एंड न्यूरोसाइंसेज़ (निमहन्स) के सर्विस ऑफ़ हेल्थी यूज़ ऑफ़ टेक्नोलॉजी के शोध के मुताबिक फ़ेसबुक और व्हॉट्स एप के कारण लोग न सिर्फ 100 मिनट कम सो रहे हैं बल्कि 90 मिनट देर से भी उठ रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट PTI

द स्टेट्समैन ने ख़बर दी है कि समझौता एक्सप्रेस धमाका मामले में 13 पाकिस्तानी गवाहों को अदालत के सामने पेश होने के लिए समन जारी किए हैं.

2007 में हुए समझौता एक्सप्रेस धमाके में 68 लोगों की मौत हो गई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)