'योगी जनता की आवाज़ हैं और विधायक प्रतिनिधि'

  • 18 मार्च 2017
लखनऊ में जुटे भाजपा कार्यकर्ता इमेज कॉपीरइट SAMIRATMAJ MISHRA

योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री बनाने का फ़ैसला कैसा है? इस पर लखनऊ में कुछ भाजपा कार्यकर्ताओं की प्रतिक्रिया इस प्रकार है.

"जनता ने विधायकों को चुना है और जनता की ही आवाज़ है कि योगी जी मुख्यमंत्री बनें, इसलिए उन्हें बनाया गया. विधायकों की योग्यता या अयोग्यता का सवाल नहीं है."

योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री बनाने की घोषणा के बाद लोकभवन के बाहर मौजूद कानपुर की एक बीजेपी नेता कलावती सिंह का ये कहना था.

वहीं जालौन से आए रवींद्रनाथ का कहना था कि बीजेपी ने हिन्दुत्व के नाम पर विधानसभा चुनाव जीता है, इसलिए हिन्दुत्व के प्रतीक योगी आदित्यनाथ को ही मुख्यमंत्री बनाना उचित है.

विवादित बयानों वाले योगी आदित्यनाथ होंगे यूपी के मुख्यमंत्री

योगी आदित्यनाथ के जिन बयानों पर हुआ है विवाद

इमेज कॉपीरइट SAMIRATMAJ MISHRA

रवींद्रनाथ और कलावती सिंह की तरह लोकभवन के बाहर खड़े तमाम कार्यकर्ताओं की यही राय थी कि योगी आदित्यनाथ ही बीजेपी के 'सर्वश्रेष्ठ' मुख्यमंत्री उम्मीदवार थे.

यह पूछे जाने पर कि यदि योगी आदित्यनाथ ही एकमात्र उम्मीदवार थे तो पार्टी ने उन्हें चुनाव से पहले क्यों नहीं घोषित किया, इस सवाल पर कई कार्यकर्ता भड़क तक गए.

प्रतापगढ़ से आए कई कार्यकर्ता मोदी-मोदी के नारे लगा रहे थे.

मेरे इस सवाल पर कुछ लोग कहने लगे, "ये पार्टी का काम है कि किसे मुख्यमंत्री बनाए या न बनाए, आप को या किसी और को इससे क्या करना. पार्टी ने सबसे सही व्यक्ति को मुख्यमंत्री बनाया है."

इमेज कॉपीरइट SAMIRATMAJ MISHRA

दरअसल बीजेपी के मुख्यमंत्री नाम का चयन यूं तो विधायकों की बैठक में होना था, लेकिन इसकी क़वायद पार्टी के केंद्रीय नेताओं के बीच चल रही थी.

पहले तो दिल्ली में होने वाली बैठकों में तमाम नाम सामने आते रहे, लेकिन योगी आदित्यनाथ का नाम शुरुआती चर्चाओं में रहने के बावजूद सामने नहीं आ रहा था.

लेकिन शनिवार को अचानक उनका नाम सुर्खियों में आया और उनके समर्थकों ने ज़बर्दस्त दबाव भी बनाया.

बताया जा रहा है कि इसी दबाव का नतीजा है कि पार्टी आलाकमान को मुख्यमंत्री के तौर पर उन्हीं के नाम को स्वीकृत करना पड़ा.

इमेज कॉपीरइट SAMIRATMAJ MISHRA

हालांकि योगी के नाम को अंतिम रूप विधायकों की बैठक में ही दिया गया और विधायकों की ओर से योगी के अलावा किसी दूसरे नाम का प्रस्ताव तक नहीं आया.

लेकिन ऐसा नहीं था कि सभी विधायक योगी आदित्यनाथ को ही मुख्यमंत्री के तौर पर देखना चाह रहे थे.

विधायकों की बैठक से बाहर निकले एक नवनिर्वाचित विधायक ने नाम न बताने की शर्त पर कहा, "सिर्फ़ कहने के लिए विधायक दल की बैठक में नेता यानी मुख्यमंत्री चुना जाता है. वास्तव में उसे मनोनीत करके केंद्रीय नेता ही भेजते हैं और हमें तो सिर्फ़ हाथ उठा देना होता है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)