उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने योगी आदित्यनाथ, केशव-दिनेश उप-मुख्यमंत्री

योगी आदित्यनाथ इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के नए मुख्यमंत्री बन चुके हैं. केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा के रूप में उन्हें दो उप मुख्यमंत्री मिले हैं.

इसके अलावा 22 कैबिनट मंत्री, 13 राज्य मंत्री और 9 राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) ने भी शपथ ली.

लखनऊ के कांशीराम स्मृति उपवन में हुए शपथ ग्रहण समारोह के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कई राज्यों के मुख्यमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता मौजूद रहे.

इमेज कॉपीरइट Samiratmaj Mishra

योगी आदित्यनाथ के मंत्रिमंडल और शपथ ग्रहण समारोह से जुड़ी ये बातें आपको ज़रूर पता होनी चाहिए:

  • उत्तर प्रदेश के राजनीतिक इतिहास में पहली बार दो उप-मुख्यमंत्री बने हैं. दिनेश शर्मा और केशव प्रसाद मौर्य ने इस पद की शपथ ली.
  • संयोग से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और दोनों उप-मुख्यमंत्री विधानसभा या विधान परिषद के सदस्य नहीं हैं.
  • जानकारों का मानना है कि इन तीनों के ज़रिए भाजपा ने ठाकुर (योगी), ब्राह्मण (दिनेश) और ओबीसी (केशव) वोटबैंक को साधने की कोशिश की है.
  • योगी उत्तर प्रदेश के 21वें मुख्यमंत्री हैं. वो पांच बार सांसद रह चुके हैं. चुनावों के दौरान उनके समर्थकों ने 'दिल्ली में मोदी, यूपी में योगी' का नारा दिया था.
  • मोहसिन रज़ा मंत्रिमंडल में शामिल होने वाले एकमात्र मुस्लिम नेता हैं. जानकारों की राय है कि यूपी में अल्पसंख्यक कल्याण विभाग और वक्फ़ बोर्ड समेत कई ऐसे निगम हैं जिनका अध्यक्ष मुस्लिम ही होता है
  • योगी मंत्रिमंडल में दो पूर्व क्रिकेटरों को जगह मिली है. कैबिनेट मंत्री बने चेतन चौहान अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेल चुके हैं जबकि मोहसिन रज़ा प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेल चुके हैं.
इमेज कॉपीरइट Getty Images
  • कैबिनेट में पांच महिलाओं को जगह दी गई है जिनमें रीता बहुगुणा जोशी, गुलाब देवी, स्वाति सिंह, अनुपमा जायसवाल और अर्चना पांडे शामिल हैं.
  • टीम योगी में स्वामी प्रसाद मौर्य और रीता बहुगुणा जोशी को जगह दी गई है. मौर्य बसपा और रीता कांग्रेस से भाजपा में आई हैं.
  • भाजपा के वरिष्ठ नेता लालजी टंडन के बेटे आशुतोष टंडन और पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के पौत्र संदीप सिंह को मंत्री पद दिया गया है.
  • इलाहाबाद पश्चिम सीट से विजयी और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के नाती सिद्धार्थनाथ सिंह को भी मंत्री बनाया गया है.
  • पश्चिमी उत्तर प्रदेश को ख़ासी तरजीह दी गई है. भूपेंद्र चौधरी, सुरेश राणा, श्रीकांत शर्मा, लक्ष्मी नारायण चौधरी और अतुल गर्ग को मंत्री की कुर्सी मिली है.
  • बलदेव औलख को भी राज्य मंत्री बनाया गया है. वो योगी कैबिनेट के इकलौते सिख मंत्री हैं और रामपुर से जीतकर लखनऊ पहुंचे हैं.
  • स्वाति सिंह को भी मंत्री पद मिला है. पहली बार विधायक बनीं स्वाति, दयाशंकर की पत्नी हैं जिन पर मायावती के ख़िलाफ़ विवादित टिप्पणी करने का आरोप लगा था.
  • सुरेश राणा भी मंत्री बने हैं. उन्हें राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बनाया गया है. साल 2013 में मुज़फ़्फ़रनगर दंगे के वक़्त उन पर आरोप लगे थे.
  • सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के ओमप्रकाश राजभर को मंत्री बनाया गया है. भाजपा ने इस पार्टी के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ा था.
  • शपथ ग्रहण समारोह संपन्न होने के बाद मुलायम सिंह यादव ने गर्मजोशी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाक़ात की और उनके कान में कुछ कहते दिखाई दिए. मोदी ने अखिलेश यादव से भी हाथ मिलाया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)