योगी आदित्यनाथ के बारे में क्या सोचते हैं गोरखपुर के मुसलमान ?

  • 20 मार्च 2017
आदित्यनाथ इमेज कॉपीरइट Getty Images

गोरखपुर में गोरखनाथ मंदिर हिंदुओं की आस्था और योगी आदित्यनाथ की 'शक्ति' का केंद्र है तो उसके तीनों ओर मुसलमानों की घनी आबादी.

मंदिर के मुख्य द्वार से लगी बाउंड्री के दूसरी ओर एक क़ब्रिस्तान से इन मोहल्लों की शुरुआत होती है. इन्हीं में से एक मोहल्ला है रसूलपुर.

योगी आदित्यनाथ अब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बन चुके हैं, लेकिन उनकी छवि एक कट्टर हिंदू नेता की रही है.

उनके कई भाषणों में ऐसी बातें कही गई हैं जिनसे ऐसी ही छवि उभरी है.

विवादित बयानों वाले योगी आदित्यनाथ होंगे यूपी के मुख्यमंत्री

योगी के राजपाट के लिए कैसे तैयार हुई टीम

इमेज कॉपीरइट Reuters

ऐसे में अगर राज्य में पूर्ण बहुमत से भारतीय जनता पाटी की सरकार बन जाए और उस सरकार के मुखिया योगी आदित्यनाथ बना दिए जाएं तो ये जिज्ञासा प्रबल हो जाती है कि गोरखपुर के मोहल्लों में रहने वाले लोग क्या सोचते होंगे?

पूरे प्रदेश का सीएम

योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद यहां किसी तरह की ख़ुशी या जश्न का माहौल तो नहीं था, लेकिन लोग बेफ़िक्र होकर अपने काम में मशगूल थे.

रसूलपुर में एक फल की दुकान पर बैठे बुज़ुर्ग इमरान माइक देखते ही कहने लगे, "हम सभी बहुत ख़ुश हैं कि हमारे यहां का व्यक्ति आज पूरे प्रदेश का मुख्यमंत्री बन गया है."

गूगल: योगी को लेकर ये क्या खोज रहे हैं लोग!

'योगी के आने से साबित हुआ कि मोदी नहीं बदले'

योगी आदित्यनाथ की कट्टर छवि के बारे में एक युवक का कहना था कि यह छवि 'मीडिया ने गढ़ी' है, योगी जी बहुत भले आदमी हैं.

योगी की तारीफ

कई लोग ये भी बताने लगे कि वो अपने निजी काम को लेकर अक़्सर योगी जी के पास जाते हैं और योगी जी न सिर्फ़ उनकी बात सुनते हैं बल्कि उनके काम भी कराते हैं.

क़रीब सत्तर साल के एक बुज़ुर्ग चौधरी नज़मुद्दीन कहते हैं, "हमारे यहां वो वोट मांगने या वैसे भी कभी आते नहीं हैं, लेकिन पड़ोसी के नाते जानते और पहचानते सभी को हैं. हमें देखते ही हाल-चाल पूछते हैं."

टीम योगी: वो बातें जो आपको पता होनी चाहिए

'निज़ाम बदला है, लोग नहीं बदले'

यहां कुछ महिलाओं से भी बात हुई. उनमें से कोई योगी आदित्यनाथ से मिली तो नहीं थी, लेकिन 'योगी जी की तारीफ़' लोगों से सुन रखी थी.

गोरखनाथ मंदिर

रसूलपुर के लोगों को इस बात पर भी कोई आपत्ति नहीं जताई कि योगी आदित्यनाथ उस पार्टी के नेता हैं जिसने राज्य में एक भी मुसलमान को विधानसभा या लोकसभा का टिकट नहीं दिया.

रविवार को लखनऊ में जिस समय योगी आदित्यनाथ और उनकी मंत्रिपरिषद के सदस्य शपथ ले रहे थे, गोरखनाथ मंदिर के बाहर और भीतर उनके कार्यकर्ता पूरे जोश के साथ नारे लगा रहे थे और जश्न मना रहे थे.

ये हैं योगी आदित्यनाथ के सिपहसालार

योगी पर क्यों लड़ रहे हैं दो बिहारी नेता?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
रुझानों में शुरुआती बढ़त मिलने के बाद बीजेपी कार्यकर्ता खुशी में अबीर गुलाल खेलते हुए.

लोगों का कहना था कि भाजपा ने मुख्यमंत्री के तौर पर योगी का चुनाव करके बहुत अच्छा फ़ैसला किया है.

'ग़लत लोग दहशत में'

कुछ कार्यकर्ता इस बात को तो स्वीकारते हैं कि एक 'ख़ास समुदाय' उनके मुख्यमंत्री बनने से दहशत में है, लेकिन इन लोगों के मुताबिक उस समुदाय के सब नहीं बल्कि 'ग़लत' लोगों को ही डरना चाहिए.

ग़लत लोग कौन हैं, इसका जवाब उन्होंने ये कहकर दिया, "नाम नहीं लेंगे, लेकिन हमको पता है कि आप जानते हैं."

'अगर भारत में रहना है तो योगी मोदी कहना है'

'मोदी ने विकास का वादा किया, योगी दिया'

दरअसल, गोरखनाथ मंदिर न सिर्फ़ हिन्दुओं के एक वर्ग की आस्था का बड़ा केंद्र है बल्कि कट्टर हिन्दुत्ववादी सोच के लोगों के लिए शक्ति के एक केंद्र के रूप में भी जाना जाता रहा है.

हिंदूवादी छवि

यहां के प्रमुखों यानी महंतों ने अपनी शक्ति के ज़रिए राजनीतिक ताक़त भी हासिल की है. योगी आदित्यनाथ से पहले उनके गुरु महंत अवैद्यनाथ और उनसे पहले दिग्विजय नाथ राज्य की विधानसभा और लोकसभा में पहुंचते रहे हैं.

राजनीतिक और आर्थिक ताक़त के साथ योगी आदित्यनाथ को इस मठ की कट्टर हिंदूवादी छवि भी विरासत में मिली है. बाहर उनकी यह छवि भले ही कैसी हो, लेकिन गोरखपुर और ख़ासकर इस इलाक़े में वो सांप्रदायिक सौहार्द का नमूना भी पेश करते हैं.

विधानसभा चुनाव से जुड़ी सारी ख़बरें एक जगह देखें

'भारत अब भगवा युग में प्रवेश कर चुका है'

स्थानीय लोग बताते हैं कि गोरखनाथ मंदिर परिसर में न सिर्फ़ तमाम दुकानें मुसलमानों की हैं बल्कि मंदिर के तमाम कर्मचारी भी अल्पसंख्यक समुदाय से हैं.

गोरखनाथ इलाक़े में ही रहने वाले विजय कुमार गुप्त कहते हैं, "मठ की ओर से जो अस्पताल चलता है उसका लाभ भी हिन्दू और मुसलमान दोनों को मिलता है. इन चीजों में कोई भेदभाव नहीं होता. यही नहीं, हर साल होने वाले खिचड़ी पर्व में भी बड़ी संख्या में मुसलमान हिस्सा लेते हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)