सीएम आदित्यनाथ को गृह प्रवेश के लिए शुभ मुहूर्त का इंतज़ार

  • 20 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट vivek tripathi

लखनऊ की कालिदास रोड पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री का सरकारी आवास सोमवार को भगवा रंग में डूबा रहा.

छत पर गेरुआ कपड़े की चादर, गेंदे के ताज़ा फूलों से पटी दीवारें और दरवाज़े.

तैयारी थी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के औपचारिक गृहप्रवेश की, जिसको लेकर सोमवार सुबह से ही तैयारियां शुरू हो गई थीं.

जब योगी आदित्यनाथ को एबीवीपी ने टिकट ही नहीं दिया..

विधानसभा चुनाव 2017

पुरोहितों ने गृह प्रवेश के सारे अनुष्ठानों को पूरा किया. मगर बाद में पता चला कि मुख्यमंत्री को गृह प्रवेश के लिए शुभ मुहूर्त का इंतज़ार है, इसलिए सोमवार को वो सरकारी आवास में नहीं आएंगे.

इमेज कॉपीरइट vivek tripathi

चूंकि तैयारी पूरी थी इसलिए मुख्यमंत्री आवास के हर प्रवेश द्वार को गेंदे के फूलों से सजाया भी गया और हर दरवाज़े पर 'ओम', स्वास्तिक और 'शुभ लाभ' भी लिखा गया.

योगी आदित्यनाथ के जिन बयानों पर हुआ है विवाद

शायद वो शुभ मुहूर्त ही है जिसकी वजह से सरकार में शामिल किए गए मंत्रियों को उनके विभागों का आवंटन भी पूरा नहीं हो पाया.

हालांकि कुछ जानकार कहते हैं कि विभागों का बंटवारा बहुत सोच समझकर किया जाएगा. उनका कहना है कि जिस तरह मुख्यमंत्री के चयन में देर की गई उसी तरह विभागों के बंटवारे में भी विलंब हो रहा है.

इमेज कॉपीरइट vivek tripathi

हालांकि बीजेपी ने अभी इस पर कुछ नहीं कहा है मगर राजनीतिक हलकों में कयास लगाए जा रहे हैं कि मंत्रियों को आवंटित होने वाले विभागों की भी समीक्षा की जा रही है और पार्टी और संघ से इस पर सहमति ली जा रही है.

बतौर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पहला दिन बैठकों से शुरू हुआ जिसमें सबसे पहले उन्होंने राज्य के मुख्य सचिव राहुल भटनागर, गृह विभाग के प्रधानसचिव देवाशीष पांडा और पुलिस महानिदेशक जावीद अहमद से राज्य की क़ानून व्यवस्था पर चर्चा की.

बहुजन समाज पार्टी के नेता मुहम्मद सामी की इलाहाबाद में हुई हत्या पर भी उन्होंने अधिकारियों के साथ चर्चा की और उनसे कहा कि 15 दिनों के अंदर क़ानून व्यवस्था को चुस्त दुरुस्त करने के लिए अधिकारी एक 'ब्लू प्रिंट' यानी कार्य योजना तैयार करें.

इसके बाद वो मंत्रिमंडल में शामिल किए गए सदस्यों से भी मिलते रहे. इनमें दोनों उपमुख्यमंत्री भी शामिल थे.

बाद में पत्रकारों से बात करते हुए केशव प्रसाद मौर्या ने कहा कि उनकी सरकार के मंत्रिमंडल की पहली बैठक में उन तमाम मुद्दों पर फ़ैसले होंगे जिन्हें बीजेपी ने चुनावों के दौरान अपनी 'संकल्प यात्रा' में उठाया था.

इमेज कॉपीरइट VIVEK TRIPATHI

इनमें अवैध बूचड़खानों को बंद करने की बात के साथ साथ किसानों की ऋण माफ़ी की बात भी कही गयी थी.

हालांकि ऐसी ख़बरें आ रही हैं कि इलाहाबाद में दो अवैध बूचड़खानों को रविवार की रात बंद भी करा दिया गया है.

बीजेपी ने अपने चुनावी प्रचार में कहा था कि सरकार बनाते ही 24 घंटों के अन्दर प्रदेश में चल रहे अवैध बूचडखानों को बंद करा दिया जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)